Thursday , October 22 2020
Breaking News
Home / क्राइम / अजरबैजान-आर्मीनिया की लड़ाई में कैसे हुई रूस की एंट्री, शातिराना प्लानिंग किए हैं पुतिन

अजरबैजान-आर्मीनिया की लड़ाई में कैसे हुई रूस की एंट्री, शातिराना प्लानिंग किए हैं पुतिन

अज़रबैजान और आर्मीनिया के बीच विवादित Nagorno-Karabakh क्षेत्र को लेकर दोनों देशों में जारी विवाद से CSTO का बहाना देकर दूर रहने की बात करने वाले रूस को अब युद्ध में कूदने का एक नया कारण मिल चुका है। रूस को मिले खुफिया रिपोर्ट के अनुसार हो रहे इस युद्ध दौरान के सीरिया से भेजे गए इस्लामिस्ट आतंकवादी वहाँ अपना लॉंन्च पैड बना सकते हैं फिर नागोर्नो-काराबाख के रास्ते रूस में एंट्री ले सकते हैं। इससे बचने के लिए इन आतंकवादियों का खात्मा आवश्यक है।

यह कोई संयोग नहीं है बल्कि रूस अज़रबैजान और आर्मीनिया के बीच चल रहे युद्ध में एंट्री चाहता है जिससे तुर्की और अज़रबैजान को सबक सीखा कर आर्मीनिया की मदद की जा सके। इस युद्ध में रूस उसी तरह एंट्री करना चाहता जैसे उसने सीरिया को उस क्षेत्र के लिए खतरा बता कर किया था।

अब Reuters की रिपोर्ट के अनुसार Nagorno-Karabakh में चल रहे युद्ध में तुर्की और अज़रबैजान आर्मीनिया के खिलाफ भाड़े के सैनिक के नाम पर इस्लामिस्ट आतंकवादियों को भेज रहे हैं। रूस के फॉरेन इंटेलिजेंस सर्विस के प्रमुख Sergei Naryshkin का कहना है कि, “युद्ध क्षेत्र में जो भाड़े के सैनिक आ रहे हैं, वे मिडिल ईस्ट के आतंकवादी हैं। रूस पहले से ही हजारों आतंकवादियों से जूझ रहा है, अब काराबाख युद्ध में पैसा कमाने की उम्मीद करते हुए कई और आतंकवादी भी कूद पड़े हैं।“

>उन्होंने चेतावनी दी कि दक्षिण Caucasus क्षेत्र “अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी संगठनों के लिए एक नया लॉन्च पैड” बन सकता है, जहां से आतंकवादी रूस सहित अन्य देशों में प्रवेश कर सकते हैं।

बता दें कि आर्मीनिया के दावों के मुताबिक अंकारा ने अपने करीब 4,000 लड़ाकों को सीरिया से अज़रबैजान भेजा है, ताकि वे आर्मीनिया के खिलाफ बड़ी सैन्य कार्रवाई को अंजाम दे सकें। तुर्की इससे पहले लीबिया और सीरिया में भी इन्हीं मसूबों पर काम कर चुका है।

रूस इन्हीं चेतावनियों के मद्देनजर सावधान हो गया है और इसे युद्ध में कूदने का एक मौका कहना गलत नहीं होगा। रूस इससे पहले इस युद्ध में CSTO का हवाला देते हुए यह कह रहा था कि युद्ध आर्मीनिया के क्षेत्र में नहीं हो रहा है इस कारण वह युद्ध में सीधे मदद नहीं कर सकता है।

बता दें कि NATO के ही तर्ज पर आर्मीनिया और रूस Collective Security Treaty Organization यानि CSTO के सदस्य हैं, जिसके मुताबिक अगर किसी भी CSTO सदस्य पर कोई हमला होता है तो वह सभी सदस्यों पर हमला माना जाता है। कुछ दिनों पहले ही रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने कहा था कि हम आर्मीनिया की CSTO के सदस्य होने के नाते सभी प्रकार से मदद करेंगे, लेकिन यह युद्ध अभी आर्मीनिया के क्षेत्र में नहीं लड़ा जा रहा है। यानि वह इस युद्ध में CSTO को कारण बताकर नहीं उतर सकता है।

ऐसे में यह अब रूस इस्लामिक आतंकवादियों के मुद्दे को लेकर क्षेत्र की शांति और रूस की सुरक्षा को कारण बताते हुए युद्ध में कूद जाये तो किसी को हैरानी नहीं होनी चाहिए। रूस ऐसे कदम पहले भी सीरिया में उठा चुका है। जब सीरिया में गृह युद्ध हुआ तब सीरियाई सरकार के मदद के लिए रूस आगे आया था और कारण इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों के सफाये और सीरिया में स्थिर सरकार की स्थापना को बताया था।

लेकिन यहां पर जिस तेज़ी के साथ तुर्की सैनिकों के नाम पर इस्लामिक आतंकवादियों को भेज रहा है उससे यह क्षेत्र इन आतंकवादियों के लिए एक नया लॉंन्च पैड बन सकता है। ऐसे में ये न ही रूस की सुरक्षा के लिए अच्छा होगा और न ही क्षेत्र की शांति के लिए।

loading...
loading...

Check Also

ये 16 स्पेशल ट्रेन होंगी रवाना, दीपावली के लिए भी हैं कई गाड़ियां, यहां देखें पूरी लिस्ट

भोपाल। त्यौहारों का समय शुरु हो चुका है। वहीं दिवाली में घर जाने के लिए स्टेशनों ...