Saturday , October 24 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / अनलॉक 5.0 में देश कैसे मनाए त्योहार, जानिए क्या जवाब दी सरकार

अनलॉक 5.0 में देश कैसे मनाए त्योहार, जानिए क्या जवाब दी सरकार

नई दिल्ली। केंद्र सरकार अनलॉक के पांचवें चरण ( unlock 5.0 ) की तैयारियों में तेजी से जुटी है और जल्द ही इसके दिशा-निर्देश जारी किए जा सकते हैं। हालांकि अगले माह यानी 1 अक्टूबर से जहां अनलॉक 5.0 लागू हो जाएगा, कई त्योहार भी इस दौरान मनाए जाएंगे। इस संबंध में नीति आयोग ने मंगलवार को जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना वायरस महामारी के दौरान किस प्रकार से त्योहार मनाए जाएंगे।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा कोरोना वायरस से जुड़ी ताजा जानकारी को लेकर मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया गया। इस दौरान नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने अगले महीने से शुरू होने वाले त्योहारों के मौसम पर लोगों को जागरूक किया।

डॉ. वीके पॉल ने कहा, “हम सभी को यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आने वाले महीनों में, हम कोरोना वायरस के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए ‘मास्क वाली पूजा (दुर्गा पूजा), मास्क वाली छठ ( छठ पूजा), मास्क वाली दिवाली, मास्क वाला दशहरा, मास्क वाली ईद’ मनाएं।”

पॉल के इस बयान का मकसद लोगों को कोरोना वायरस महामारी के दौरान पड़ने वाले त्योहारों के दौरान केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए खुशियां मनाने की छूट देना है। यानी लोगों को चाहिए कि वे नियमित रूप से मास्क पहनना जारी रखें और आगामी त्योहारों के दौरान मास्क पहनकर ही इन्हें मनाएं। इसके साथ ही लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग और नियमित रूप से हाथ भी धोने चाहिए।

वहीं, इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च (ICMR) के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने आगामी त्योहारों के मद्देनजर राज्यों से कहा कि उन्हें आने वाले त्योहारों, सर्दियों के मौसम और भारी भीड़ को देखते हुए अनोखी कंटेनमेंट रणनीति को लागू करने की जरूरत है।

इसके अलावा भार्गव ने आगे कहा, “चूंकि आबादी का एक बड़ा हिस्सा अभी तक कोरोना वायरस के प्रति अतिसंवेदनशील है, ऐसे में रोकथाम केे श्रम से बचना है और 5T रणनीति (यानी टेस्ट, ट्रैक, ट्रेस, ट्रीट एंड टेक्नोलॉजी) का पालन करना है।”

loading...
loading...

Check Also

इस बड़े शहर में आलूबंडा-चूना हुआ बैन, जानिए आखिर क्या है माजरा ?

क्या आपने कभी सुना है, कि शहर की शांति के लिए आलूबंडा और चूना को ...