Saturday , January 16 2021
Breaking News
Home / जरा हटके / अमेरिकी ‘गृहयुद्ध’ का शत्रु न उठाए फायदा, ‘महाविनाश का हथियार’ ड्यूटी पर आया, देखें Video

अमेरिकी ‘गृहयुद्ध’ का शत्रु न उठाए फायदा, ‘महाविनाश का हथियार’ ड्यूटी पर आया, देखें Video

वॉशिंगटन
बीते दिनों अमेरिकी संसद भवन कैपिटल हिल पर निवर्तमान राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के दक्षिणपंथी समर्थकों की हिंसा के बाद देश में तख्‍तापलट का खतरा मंडराने लगा था। कैपिटल हिल परिसर में हुई हिंसा में 4 लोगों की मौत हो गई थी। उस वक्त देश पर मंडराते इस संकट को देखते हुए अमेरिकी वायुसेना हरकत में आ गई और दुनिया में महाविनाश लाने वाला विमान E-4B ‘नाइटवॉच’ तत्‍काल हवा में गश्‍त लगाने लगा। यह अत्‍याधुनिक सुविधाओं से लैस विमान अमेरिका के 4,315 परमाणु बमों को नियंत्र‍ित करने में सक्षम है।

Boeing E-4B (40787) NAOC At Osan AFB - YouTube

अमेरिकी मीडिया में आई खबरों में कहा गया है कि संसद पर कब्‍जे की असफल कोशिश के बाद अमेर‍िका के मेरिलैंड स्थित एंड्रयू एयरबेस से नैशनल एयर कमांड पोस्‍ट एयरक्राफ्ट E-4B ने उड़ान भरी थी। माना जा रहा है कि अमेरिका में आए संकट का शत्रु देश फायदा न उठा लें, इसके लिए न्यूक्लियर डूम्सडे प्‍लेन E-4B विमान तत्‍काल ऐक्‍शन में आ गया। इसके जरिए अमेरिकी सेना ने संदेश दिया कि वह इस संकट के बाद भी परमाणु हमला करने में सक्षम है और दुश्‍मनों ने अगर कोई हरकत की तो उसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

9/11 हमले के बाद हरकत में आया था ‘नाइटवॉच’
अमेरिकी वायुसेना का यह महाविनाश लाने वाला विमान जब भी अमेरिका पर संकट आता है, तब हवा में उड़ जाता है। इससे पहले राष्‍ट्रपति ट्रंप के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर आने पर यह विमान हवा में उड़ गया था। इसी तरह से 9/11 हमले के बाद भी यह विमान हरकत में आया था। इस घातक प्‍लेन को ‘नाइटवॉच’ कहा जाता है। यूएस एयरफोर्स के E-4B विमान को बोइंग 747-200बी विमान में बदलाव करके बनाया गया। अमेरिकी वायुसेना ऐसे 4 विमानों का इस्‍तेमाल करती है।

यह विमान इस तरह से बनाया गया है कि यह किसी भी हमले को झेल जाने में सक्षम है। E-4B ‘नाइटवॉच’ विमान में खिड़की नहीं होती है जिससे परमाणु हमला होने पर उसमें बैठे लोगों पर कोई असर नहीं होता है। इसमें राष्‍ट्रपति समेत अतिविशिष्‍ट लोगों के बैठने की व्‍यवस्‍था होती है। यह परमाणु हमला होने के बाद भी बहुत सुरक्षित तरीके कमांड सेंटर के रूप में काम करने लगता है। इसके जरिए अमेरिका पूरी दुनिया में कहीं भी हमला करने के लिए निर्देश दे सकता है। इससे अमेरिका के परमाणु हथियारों को नियंत्रित किया जा सकता है।

E-4B ‘नाइटवॉच’ विमान सबसे पहले साल 1974 में सेवा में आए थे। अब करीब 50 साल की सेवा के बाद यह विमान रिटायर होने की कगार पर है। इसी वजह से अमेरिकी वायुसेना इसे बदलने जा रही है। इसके 4 विमानों में से एक हमेशा अलर्ट मुद्रा में रखा जाता है ताकि अगर कोई भी बड़ा संकट आए तो तत्‍काल यह महाविनाश लाने वाला विमान जंग के ल‍िए तैयार हो जाए। इसी वजह से इसे डूम्सडे प्‍लेन कहा जाता है।

loading...
loading...

Check Also

UP पंचायत चुनाव 2021 : घर बैठे जानिए अपने गांव-वार्ड का आरक्षण, ऑनलाइन आएगी लिस्ट

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Elections 2021) को लेकर तैयारियां तेज हो ...