Friday , September 25 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / अलग-अलग रंगों के होते हैं ‘मील’ के पत्थर, इसके पीछे की वजह बेहद दिलचस्प

अलग-अलग रंगों के होते हैं ‘मील’ के पत्थर, इसके पीछे की वजह बेहद दिलचस्प

आप अक्सर सफर (Journey) के दौरान देखते होंगे कि सड़क किनारे पत्थर (Milestone) लगे होते हैं जिस पर संबंधित शहर की दूरी (Distance) और अन्य जानकारी लिखी होती है। सड़क किनारे लगे पत्थर (Milestone) को मील का पत्थर भी कहा जाता है। लेकिन, आपने गौर किया होगा कि अलग अलग जगहों पर इनके रंग (Color) रूप और डिज़ाइन (Design) अलग अलग होते हैं। आखिर इसका क्या मतलब होता है यह सवाल आपके जेहन में जरूर ही आती होगी।

लाल रंग का पत्थर –

अगर इन दोनों रंग का पत्थर आपको दिखाई दे तो समझ जाइये की ये सड़क प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना (“PMRural Road Scheme”) के तहत बनी है। इस से पता चलता है की आप किसी गांव की तरफ बढ़ रहे हैं।

हरे रंग का पत्थर –

जब पत्थर (Milestone) पर हरा रंग नजर आए तो आपको समझ लेना चाहिए कि आप नेशनल हाईवे (National Highway) पर नहीं बल्कि स्टेट हाईवे पर सफर कर रहे हैं। दूरी बताने वाले पत्थर पर हरे रंग (Green Color) का मतलब है स्टेट हाईवे (State Highway)।

पीले रंग का पत्थर –

अगर दूरी बताने वाले पत्थर का रंग पीला दिखे तो आप समझ लीजिए कि आप नेशनल हाईवे (National Highway) पर सफर कर रहे हैं। यानी जिस Highway पर आप सफर कर रहे हैं वो केंद्र सरकार (Central GOVT.) ने बनवाई हैं और इस Highway दी देख रेख का जिम्मा भी केंद्र सरकार का ही है।

काले रंग का पत्थर –

अगर दूरी बताने वाले पत्थर पर काला रंग दिखाई दे तो आप समझ लीजिए कि आप किसी बड़े शहर (Big City) या फिर जिले (District) की तरफ बढ़ रहे हैं। इसके अलावा वो रोड (Road) आने वाले जिले (District) के अंतर्गत आती है और उस रोड की सारी जिम्मेदारी उस जिले (District) की ही होती है।

Check Also

बड़ा खुलासा : दीपिका पादुकोण थीं Drugs Chat चैट वाले Whatsapp ग्रुप की एडमिन, ये दोनों भी उसकी मेंबर

नारकोटिक्‍स ब्‍यूरो जहां एक ओर शुक्रवार को रकुलप्रीत सिंह और करिश्‍मा प्रकाश से पूछताछ कर ...