Saturday , December 5 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / आज के दौर का सबसे मौजूं सवाल- राहुल गांधी अगर नहीं लड़े तो क्या होगा?

आज के दौर का सबसे मौजूं सवाल- राहुल गांधी अगर नहीं लड़े तो क्या होगा?

कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गई है। कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकार के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री ने सभी प्रदेश कमेटियों को चिट्ठी लिख कर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रतिनिधियों का नाम भेजने को कहा है। ये प्रतिनिधि ही कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव करते हैं। इस बार का चुनाव बहुत दिलचस्प होने वाला है क्योंकि पिछली बार की तरह किसी को पता नहीं है कि इस बार राहुल गांधी चुनाव लड़ेंगे या नहीं। इससे पहले पिछले दो दशक में कभी इस किस्म का कंफ्यूजन नहीं रहा था।

सोनिया गांधी के राजनीति में आने के बाद से कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव औपचारिकता हो गया था। वे नामांकन करती थीं और उनको निर्विरोध चुन लिया जाता था। बाद में तो अध्यक्ष के तीन साल के कार्यकाल को बढ़ा कर पांच साल कर दिया गया ताकि जल्दी जल्दी चुनाव की जरूरत न पड़े। जब सोनिया गांधी ने अध्यक्ष पद छोड़ तब भी यह सबको पता था कि राहुल गांधी चुनाव लड़ने वाले हैं इसलिए किसी ने चुनाव में दिलचस्पी ही नहीं दिखाई। राहुल गांधी निर्विरोध चुन लिए गए।

इस बार किसी को पता नहीं है कि राहुल गांधी लड़ेंगे या नहीं। अगर राहुल गांधी अध्यक्ष बनने के लिए तैयार हो जाते हैं तब तो चुनाव की दिलचस्पी खत्म हो जाएगी। क्योंकि फिर कोई भी नेता अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेगा। लेकिन सोचें, अगर राहुल गांधी अध्यक्ष का चुनाव लड़ने को तैयार नहीं होते हैं तब क्या होगा? अगर राहुल गांधी नहीं लड़ेंगे तो अध्यक्ष पद के लिए घमासान हो सकता है। भले सोनिया और राहुल गांधी की पसंद से कोई उम्मीदवार चुनाव लड़ने के लिए उतरे, इसके बावजूद दूसरे लोग चुनौती देंगे।

ध्यान रहे कांग्रेस पार्टी में सिर्फ गांधी परिवार को कोई चुनौती नहीं देता है लेकिन अगर गैर गांधी अध्यक्ष चुनना है तो निश्चित रूप से चुनाव होगा। जीत-हार चाहे जिसकी हो पर यह तय है कि वह चुनाव असली होगा। फिर पार्टी की केंद्रीय कमेटी से लेकर राज्यों तक में विभाजन दिखेगा। हाल के दिनों में यह किसी भी पार्टी के अंदर का यह पहला चुनाव हो सकता है। इसे राजनीतिक दलों में आंतरिक लोकतंत्र की बहाली की शुरुआत भी मान सकते हैं।

loading...
loading...

Check Also

भारत के सामने क्यों कांपने लगा हर समुद्री क्षेत्र में अपने पैर पसारने वाला चीन, जानिए

भारत-चीन विवाद के दौरान ज़मीन पर यानि भारत-तिब्बत बॉर्डर पर बेशक चीन की ओर से ...