Thursday , April 22 2021
Breaking News
Home / ऑफबीट / ई-कॉमर्स कंपनी Amazon और फ्लिपकार्ट पर मंडराया खतरा, यहाँ जाने पूरा मामला…

ई-कॉमर्स कंपनी Amazon और फ्लिपकार्ट पर मंडराया खतरा, यहाँ जाने पूरा मामला…

बदलते समय के साथ हर रोज लोग भी माडर्न होते जा रहे हैं. पहले की तुलना में आज का लाइफ स्टाल काफी मुश्किल और बिजी हो गया हैं. जिसके चलते लोग अपना ज्यादातर काम ऑनलाइन करना ही पसंद करते है. जिससे समय की बचत हो सके. इसके लिए लोग अक्सर ऐप का इस्तेमाल करते हैं. चाहे पैमेट की बात की जाए या शॉपिंग की. एक क्लिक से सारे काम हो जाते है.

तो दूसरी ओर ई कॉमर्स कंपनी एमेजॉन और फ्लिपकार्ट पर खतरा मंडराता नजर आ रहा है. जी हां देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार लगातार काम कर रही है. इसी बीच अब ऑनलाइन शॉपिंग को लेकर आने वाली 25 मार्च को दिल्ली सहित देश भर में “ई कॉमर्स लोकतंत्र दिवस” मनाने का आव्हान किया है वहीं इसके साथ ये खबर भी सामने आ रही है कि आने वाली 28 मार्च को एमेजॉन और फ्लिपकार्ट के पुतलों का होली दहन किया जाएगा. देशभर में 28 मार्च को होलिका दहन का त्योहार मनाया जाएगा. इसके साथ ई कॉमर्स कंपनियों के पुतले जलाने की बात भी सामने आ रही है.

दरअसल, ऐसा आव्हान इसलिए किया गया क्योंकि देश में आए दिन ई कॉमर्स व्यापार में विदेशी कंपनियों अपनी मनमानी कर रही थी और देश के क़ानून तथा नीतियों का लगातार उल्लंघन कर रही ती. जिसके खिलाफ अब कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) कई वर्षों से जोरदार आवाज़ उठाता रहा है. जिसके बाद अब केंद्र सरकार ने इस मुद्दे पर गंभीरता से आवाज उठाई है और ई कॉमर्स में एफडीआई की नीतियों में बदलाव हेतु विभिन्न वर्गों से सरकार का बातचीत शुरू की है जिससे कोई हर निकल सके.

वहीं इस मामले को लेकर कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की 25 मार्च को ई कॉमर्स लोकतंत्र दिवस के अंतर्गत देश के 600 से अधिक जिलों के कलेक्टरों को केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल के नाम एक ज्ञापन दिया जाएगा तथा उसी दिन देश के सभी राज्यों के विभिन्न शहरों के प्रमुख बाजार में स्थानीय व्यापारिक संगठन ” ई कॉमर्स लोकतंत्र रैली ” निकालेंगे.

मिली जानकारी के मुताबिक इसके पीछे एक कारण नहीं बल्कि दो कारण है. पहला ई कॉमर्स के कारण देश का खुदरा एवं थोक व्यापार बुरी तरह प्रभावित हुआ है जिनमें ख़ास तौर पर मोबाइल एवं मोबाइल अक्सेसरीज़ , किराना, मसाले, एफएमसीजी प्रोडक्ट्स, गिफ्ट का सामान, रेडीमेड गारमेंट्स, फुटवियर, चश्मे, घड़ियाँ, दवाइयां तथा फार्मेसी, इलेक्ट्रॉनिक्स, फर्नीचर, होम फर्निशिंग, खिलौने, सब्जियां एवं ड्राई फ्रूट्स आदि जैसी तमाम वस्तुओं के लोग का कारोबार खत्म हो गया है क्योंकि लोग ऑनलाइन खरीदना पसंद करते है जिससे देश में कारोबार करने वाले छोटे-बड़े व्यापारियों के रोजगार कम हो गया हैं.  इसके अलावा एमेजॉन और फ्लिपकार्ट जैसे विदेश कंपनियों ने देश के ई कॉमर्स व्यापार को बुरी तरह से विषाक्त कर दिया है और पिछले अनेक वर्षों से खुले आम सरकार की नीति, नियमों एवं क़ानून का उल्लंघन करते हुए हैं. जिसके कारण ये आवाज उठाना जरूरी है.

loading...
loading...

Check Also

बड़ी आफत : अब कोरोना के ट्रिपल म्यूटेशन ने बढ़ाई चिंता, छह सैंपल में पाए गए तीन नए वेरिएंट

देहरादून के छह सैंपल में पाए गए तीन नए वेरिएंट, जानिए कितना खतरनाक है ये ...