Friday , November 27 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / किसानों को मिली एक और सौगात, ₹1.6 लाख का लोन देगी सरकार, वो भी बिना ब्याज!

किसानों को मिली एक और सौगात, ₹1.6 लाख का लोन देगी सरकार, वो भी बिना ब्याज!

नई दिल्ली: सरकार किसानों की आय बढ़ाने ( INCREASE FARMERS INCOME ) के लिए लगातार कोशिशे कर रही है। इस कड़ी में एक और योजना की शुरूआत की गई है। हरियाणा सरकार ( HARIYANA GOVT ) द्वारा शुरू की गई पशुधन क्रेडिट कार्ड योजना ( pashudhan credit card yojana ) इस दिशा में किया गया एक और प्रयास है।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना ( KISAN CREDIT CARD SCHEME ) की तर्ज पर शुरू की गई इस योजना के जरिए सरकार पशुपालन ( animal husbandry ) को बढ़ावा देना ताहती है । इस योजना के तहत मछली पालन, मुर्गी पालन, भेड़-बकरी पालन, गाय-भैंस पालन करने वाले किसानों को सस्ती ब्याज दर पर लोन दिया जाएगा।

इस योजना के तहत 1.60 लाख रूपए का कर्ज लेने पर किसानों को किसी भी तरह का ब्याज और गारंटी नहीं देनी पड़ेगी । इस योजना के तहत 7 फीसदी की ब्याज दर पर लोन ( interest rate on pashudhan loan ) दिया जाता है. इसमें तीन फीसदी केंद्र सरकार सब्सिडी देती है और शेष 4 फीसदी ब्याज पर हरियाणा सरकार छूट दे रही है। यानि दूसरे शब्दों में कहें तो किसान को इस लोन क लिए किसी भी प्रकार का ब्याज नहीं देना पड़ा रहा है। हरियाणा के सभी पशुपालक पशुधन क्रेडिट कार्ड का लाभ उठा सकते हैं।

लोन लेने के लिए शर्ते- इस योजना के तहत लोन लेने के लिए किसान या पशुपालक को सिर्फ पशुपालन एवं डेयरिग विभाग के उपनिदेशक का एफिडेविट देना होगा। इसके अलाव अपने पशुओं का बीमा कराना भी अनिवार्य होगा। जिसका खर्च कुछ 100 रूपए होगा ।

किस्तों में मिलेगी लोन का राशि- इस योजना के तहत हरियाणा में एक गाय रखने वाले किसानों को 40783 रुपये और एक भैंस रखने वाले किसानो को 60,249 रुपये तक का लोन राज्य सरकार देती है। यह लोन हर महीने 6 बराबर किस्तों (6,797 रुपये प्रति किस्त) में क्रेडिट कार्ड के जरिये किसानों को दिया जाएगा। किसान को 1 साल के भीतर 4 फीसदी सालाना ब्याज के साथ ये रकम लौटानी होगी । अगर किसान लोन टाइम पर वापस कर देता है तो उन्हें ब्याज माफ कर दिया जाएगा।

loading...
loading...

Check Also

बिहार : ‘लालूनीति’ की फिर से दिखाई दी झलक लेकिन इस बार ‘शाहनीति’ के आगे खा गई मात

बिहार विधानसभा चुनावों के बाद भी विवादों का दौर समाप्त नहीं हुआ है। रिपोर्ट्स के ...