Wednesday , September 23 2020
Breaking News
Home / क्राइम / कृष्ण की अश्लील पेंटिंग के बाद अकरम की दूसरी निर्लज्जता आई सामने, ऐसे किया तिरंगे का अपमान!

कृष्ण की अश्लील पेंटिंग के बाद अकरम की दूसरी निर्लज्जता आई सामने, ऐसे किया तिरंगे का अपमान!

वामपंथी और कट्टरपंथियों की फौज लगातार हिंदू देवी देवताओं का अपमान करने के साथ ही देश के खिलाफ जगर उगलती रहती है. जब इस गैंग पर एक्शन लिया जाता है तो ये लोग अभिव्यक्ति की आजादी और मानवअधिकार के उल्लघंन की दुहाई देने लग जाते हैं. एक बार फिर 5 साल बाद असम के एक कलाकार की ओर से बनाई गई भगवान श्रीकृष्ण और तिरंगे की आपत्तिजनक पेंटिंग का मामला गरमा गया है.

भगवान श्रीकृष्ण के साथ ही राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने वाली पेंटिंग असम के पेंटर अकरम हुसैन ने बनाई थी, जिसके खिलाफ कार्रवाई करने की माँग तेज हो गई है. भगवान श्रीकृष्ण की आपत्तिजनक पेंटिंग बनाकर अपनी घृणित सोच को दर्शाने वाले अकरम हुसैन ने जब इस पेंटिंग को अप्रैल 2015 में गुवाहाटी स्थित स्टेट आर्ट गैलरी में इसे प्रदर्शित किया गया था, तब भी इसका खासा विरोध हुआ था.

उस समय असम में कॉन्ग्रेस पार्टी की सरकार थी. जब इस पेंटिंग को लेकर प्रदर्शन हुआ था, तब हिंदूवादी संगठनों ने इसका विरोध करते हुए FIR भी दर्ज कराई थी. हिन्दू जागरण मंच ने अकरम हुसैन पर श्रीकृष्ण को आपत्तिजनक और अश्लील अवस्था में दिखाने के लिए मामला दर्ज कराया था.  इस FIR के आधार पर केस भी फाइल हुआ था. उस वक्त गुवाहाटी के डीसीपी रहे अमिताभ सिन्हा ने इसकी पुष्टि भी की थी. जब 2015 में इसे लेकर विवाद ज्यादा बढ़ा तो पेंटर अकरम हुसैन ने माफ़ी माँगते हुए इस पेंटिंग को हटा लिया था. लेकिन तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने इस पर एक्शन नहीं लिया था. क्यों कि कांग्रेस को अपने वोट बैंक का खोने का डर था. मगर अब सूबे में बीजेपी की सरकार तो इस पर फिर से एक्शन लेने की मांग जोर पकड़ रही है.

दरअसल सोशल मीडिया पर सवा पाँच साल बाद वायरल हो रही इस पेंटिंग में देखा जा सकता है कि भगवान श्रीकृष्ण एक बियर बार में खड़े हैं. उनके पीछे वाली रैक पर शराब की कई बोतलें रखी हुई हैं. साथ ही 7 युवतियों को अश्लील अवस्था में उनके आस-पास और उनसे लिपटे हुए दिखाया गया है. ये सभी युवतियाँ बिकनी पहने हुए हैं.

अकरम की ओर से बनाई गई इस घटिया पेंटिग पर एक बार फिर से हिंदुओं का गुस्सा फूड़ पड़ा है. भगवान श्रीकृष्ण के भक्तों की अंतरराष्ट्रीय संस्था इस्कॉन ने भी इस पेंटिंग पर आपत्ति जताते हुए असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनवाल से अकरम हुसैन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की माँग की है. संस्था ने इस पेंटिंग को ऑफेंसिव करार देते हुए कहा कि सरकार को पेंटर के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.

बता दें कि भगवान श्रीकृष्ण की बचपन में गोपियों के साथ की गई रासलीला, राधा के साथ उनके प्रेम सम्बन्ध और 16 हजार रानियों वाली कथाओं को अक्सर गलत तरीके से पेश किया जाता रहा है. हालाँकि, जब गोपियों के साथ वो शरारत करते थे तब वो बच्चे थे और जिन रानियों को उन्होंने एक क्रूर राजा के चंगुल से आज़ाद किया था, उनके साथ उन्होंने विवाह किया था ताकि उन्हें समाज में स्वीकार्यता दिला सकें. लेकिन वामपंथी और लिबरल गैंग बिना कुछ जाने आलोचना का आदी रहा है. हिंदुओं को नीचा दिखाने के लिए ये गैंग श्रीकृष्ण भगवान पर मनगणंत कहानियां पेश करता रहा हैं. दरअसल साल 2015 में ही अकरम हुसैन की एक अन्य पेंटिंग भी विवादों में आई थी. ये पेंटिंग तिरंगे की थी. इस पेंटिग में अकरम ने दिखाया था कि तिरंगे जैसी आकृति में से शराब की बोतलें और अंडरगार्मेंट्स निकल रहे हैं.

इस पेंटिंग के सामने आने के बाद गुवाहाटी में बहुत विवाद हुआ था. इसे एक प्रदर्शनी में लगाया था गया था, जहाँ वकील धर्मनंदा ने इसे देखकर एफआईआर दर्ज करवाई थी. उनके अलावा हिंदू संगठनों ने भी इस पर विरोध जाहिर किया था. कुछ संस्थानों ने हुसैन के लिए कड़ी सजा की माँग की थी. हालाँकि, वामपंथी और लिबरल गैंग ने इसे कलाकार की अभिव्यक्ति कहते हुए हुसैन को बचाने का प्रयास किया था. मगर अब ये मामला फिर से तूल पकड़ गया है. अब अकरम हुसैन पर एक्शन लेने की मांग की जा रही है.

Check Also

अतीक अहमद के दफ्तर पर चला योगी का बुलडोजर, जमींदोज हुआ अवैध निर्माण

माफिया डॉन और पूर्व सांसद अतीक अहमद के खिलाफ योगी सरकार जमकर कार्रवाई कर रही ...