Sunday , September 27 2020
Breaking News
Home / ख़बर / कोरोना के बढ़ते कहर के बीच इन पर ही टिकी सबकी आस, इन Vaccines का है बेसब्री से इंतजार

कोरोना के बढ़ते कहर के बीच इन पर ही टिकी सबकी आस, इन Vaccines का है बेसब्री से इंतजार

कोरोना वायरस की वैक्सीन के लंबे होते इंतजार के बीच दुनिया में संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। अब तक 2.41 करोड़ से ज्यादा लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके हैं, जिनमें से 8.26 लाख की मौत हुई है। दूसरी तरफ कई वैक्सीन ट्रायल के अंतिम चरण में पहुंच चुकी हैं। कुछ ही महीनों में इनके उपलब्ध होने की उम्मीद है। आइये, ऐसी वैक्सीन्स के बारे में जानते हैं, जिनका बेसब्री से इंतजार हो रहा है।

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी का जेनर इंस्टीट्यूट और फार्मा कंपनी एस्ट्रेजेनका मिलकर एक वैक्सीन ‘कोविशील्ड’ पर काम कर रहे हैं। यह अंतिम चरण में पहुंच चुकी हैं और कुछ ही महीनों में इसके नतीजे सबके सामने होंगे। भारत में पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) कोविशील्ड नामक इस वैक्सीन का उत्पादन करेगा। फिलहाल SII इसके तीसरे चरण के इंसानी ट्रायल कर रहा है। उम्मीद है कि अगर यह सफल रहती है तो भारतीयों को मिलने वाली पहली वैक्सीन होगी।

मॉडर्ना की वैक्सीन

अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए mRNA-1273 वैक्सीन तैयार कर रही है। यह भी ट्रायल के अंतिम चरण में है। फिलहाल 30,000 लोगों पर इसका ट्रायल चल रहा है। उम्मीद है कि यह अगले महीने के अंत तक समाप्त हो जाएगा। अगर सब कुछ आशा के अनुरूप रहा तो यह साल के अंत तक लोगों के लिए उपलब्ध हो सकेगी। इसकी कीमत 1,800-2,300 रुपये के बीच हो सकती है।

चीनी कंपनी सिनोफार्म की वैक्सीन

चीन के नेशनल फार्मा ग्रुप सिनोफार्म द्वारा तैयार की जा रही दो संभावित वैक्सीन तीसरे चरण में पहुंच गई है। संयुक्त अरब अमीरात में 15,000 लोगों पर इनका ट्रायल चल रहा है। सिनोफार्म को उम्मीद है कि इस ट्रायल के नतीजे तीन महीने में सामने आ जाएंगे और यह इसी साल लोगों के लिए उपलब्ध हो सकती है। इस वैक्सीन की दो खुराकों की कीमत 10,500-11,000 रुपये के बीच हो सकती है।

इन कंपनियों की वैक्सीन भी ट्रायल के अंतिम चरण में

एक और चीनी कंपनी कैनसिनो बायोलॉजिक्स भी कोरोना वायरस की संभावित वैक्सीन पर काम कर रही है। इसे बीजिंग इंस्टीट्यूट ऑफ बायोटेक्नोलॉजी के साथ मिलकर तैयार किया जा रहा है। इसके भी साल के आखिर तक लोगों के लिए उपलब्ध होने की उम्मीद है। अभी तक इसकी कीमत को लेकर जानकारी सामने नहीं आई है। इसके अलावा बायोनटेक और फाइजर की संभावित वैक्सीन भी इंसानी ट्रायल के अंतिम चरण में पहुंच चुकी है।

रूस ने किया वैक्सीन करने का दावा

कोरोना वायरस वैक्सीन की बात हो तो रूस का जिक्र करना जरूरी हो जाता है। दरअसल, रूस ने दावा किया है कि उसने कोरोना वायरस की वैक्सीन ‘स्पूतनिक वी’ तैयार कर ली है।  हालांकि, विशेषज्ञ इस दावे पर सवाल उठा रहे हैं। उनका कहना है कि बिना तय प्रक्रिया का पालन किए इस वैक्सीन को हरी झंडी दी गई है, जो खतरनाक साबित हो सकती है। भारत सरकार इस वैक्सीन को लेकर रूस के संपर्क में है।

Check Also

चीन को लाइन पर लाने के लिए सुगा का बड़ा फैसला, सेना पर खर्चेंगे सबसे ज्यादा पैसा !

चीन की वैश्विक गुंडई मानो थमने का नाम नहीं ले रही है, और ऐसे में ...