Friday , October 23 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी में कोरोना को हराने वाले हैं योगी, लगातार 17वें दिन आई ये अच्छी खबर

यूपी में कोरोना को हराने वाले हैं योगी, लगातार 17वें दिन आई ये अच्छी खबर

लखनऊ

पिछले 7 महीनों में देश की केंद्र और राज्य सरकारों ने कातिल कोरोना वायरस से लड़ाई में लॉकडाउन से लेकर सारे जतन करके देख लिए। लेकिन कोरोना का कहर अबतक कम न हो सका है। हर दिन कोरोना का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है, मौत का ग्राफ चढ़ता जा रहा है। लेकिन यूपी में इसका उलटा हो रहा है। यहां कोरोना के आंकड़े लगातार घट रहे हैं, और इसका पूरा श्रेय सूबे की योगी सरकार को जाता है।

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड-19 के 52 और मरीजों की मौत हो गई जबकि 3 हजार 930 और लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। चिकित्सा और स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने रविवार को बताया कि राज्य में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित 52 और लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही प्रदेश में इस संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 6 हजार 29 हो गई है।

अमित मोहन ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान 5 हजार 226 लोग कोविड-19 से पूरी तरह ठीक हुए हैं। रविवार को लगातार 17वां दिन है जब नए मामलों के मुकाबले ठीक होने वाले मरीजों की संख्या अधिक रही। प्रसाद ने बताया कि बीते 17 सितंबर को प्रदेश में कोविड-19 के 68 हजार से ज्यादा मरीज उपचाराधीन थे। तब से अब तक इस संख्या में लगातार गिरावट आ रही है। इस समय 46 हजार 385 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। इस तरह पिछले 17 दिनों में करीब 22 हजार उपचाराधीन मरीज कम हुए हैं।

3 लाख 62 हजार लोग हुए कोरोना से ठीक
स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि प्रदेश में अब तक 3 लाख 62 हजार 52 व्यक्ति संक्रमण के बाद पूरी तरह ठीक होकर छुट्टी पा चुके हैं। इस तरह प्रदेश में कोविड-19 मरीजों के ठीक होने की दर बढ़कर 87.35 प्रतिशत हो गई है। प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में जबसे नए मामलों की संख्या में गिरावट शुरू हुई है, तबसे रोजाना मृतकों की संख्या में भी कमी आ रही है। उन्होंने बताया कि शनिवार को प्रदेश में 1 लाख 59 हजार 128 नमूनों की जांच की गई। प्रदेश में अब तक 1 करोड़ 7 लाख 39 हजार 169 नमूनों की जांच की जा चुकी है।

loading...
loading...

Check Also

इस बड़े शहर में आलूबंडा-चूना हुआ बैन, जानिए आखिर क्या है माजरा ?

क्या आपने कभी सुना है, कि शहर की शांति के लिए आलूबंडा और चूना को ...