Sunday , September 20 2020
Breaking News
Home / ख़बर / कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत बनाया ग्लोबल प्लान, पाकिस्तान के अलावा सबको देगा टीका

कोरोना वैक्सीन को लेकर भारत बनाया ग्लोबल प्लान, पाकिस्तान के अलावा सबको देगा टीका

चीन की वुहान लैब से फैला कोरोनावायरस पूरी दुनिया में कहर बरपा रहा है. इस महामारी से निपटने के लिए अब तक कोई ऐसी सटीक दवा या टीका सामने नहीं आया है, जिससे इस वायरस को खत्म किया जा सके. दुनिया के तमाम देश इसके लिए वैक्सीन बना रहे हैं. रूस ने दावा किया है उसने कोरोना वैक्सीन तैयार कर ली है. अमेरिका और ब्रिटेन की भी वैक्सीन अपन फाइनल ट्रायल पर हैं. बताया जा रहा है कि चंद दिनों ये दोनों देश भी कोरोना वैक्सीन के टीके लगाने शुरू कर देंगे. वही भारत ने भी इस दिशा बेहतरीन प्रगति की है. भारत की कोरोना वैक्सीन भी तकरीबन बन चुकी है और जल्द टीका लगने का ऐलान किया जाएगा. मीडिया में आई खबरों के अनुसार केंद्र सरकार कम से कम पांच अलग-अलग तरीकों पर काम कर रही है. जिसमें नि:शुल्क टीकों से लेकर गारंटीकृत आपूर्ति तक शामिल है. जिसमें पश्चिम एशिया, अफ्रीका और यहां तक ​​कि लैटिन अमेरिका के देशों के साथ-साथ अपने पड़ोसी देशों की मदद करना भी शामिल है. लेकिन खास बात ये है कि आतंकी देश पाकिस्तान को वैक्सीन नहीं दी जाएगी.

बता दें कि भारतीय कंपनियां दो टीकों पर काम कर रही हैं जो वर्तमान में क्लीनिकल ट्रायल के बीच में हैं. यह व्यवस्था बड़े पैमाने पर इन टीकों के लिए होगी, इसमें पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) द्वारा निर्मित टीके भी शामिल हो सकते हैं, जो दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता कंपनी है. जिसके साथ एस्ट्राजेनेका सहित तीन कंपनियों की भागीदारी है. एक अधिकारी ने बताया कि योजना को लेकर अभी फाइनल प्लान नहीं बना है, इसको लेकर आखिरी रूप दिए जाना अभी बाकी है उदाहरण के लिए टीकों की आपूर्ति के लिए भारत द्वारा तय किए गए किसी भी मंच को लाइसेंसिंग समझौतों का सम्मान करना होगा जो यह तय करेगा कि टीके को कहां बेचा जा सकता है और कहां नहीं.

मीडिया सूत्रों की खबर के मुताबिक नीति आयोग के डॉक्टर वीके पॉल के नेतृत्व में कोरोना वैक्सीन पर विशेषज्ञों के समूह के बीच ​बातचीत चल रही है. अधिकारियों के मुताबिक एक बार वैक्सीन के बनने को लेकर अप्रूवल मिल जाए इसके बाद वैक्सीन की आपूर्ति को लेकर सरकार संभावित लाभार्थियों के साथ अग्रीमेंट साइन करेगी. अधिकारियों ने बताया कि वैक्सीन किन देशों को दी जाए इस पर सावधानी के साथ विचार किया जाएगा. गलोबल वैक्सीन आपूर्ति को लेकर सरकार कई तरीके से विचार कर रही है. सरकार के प्लान में पहला नि: शुल्क वितरण शामिल है जो बांग्लादेश, अफगानिस्तान जैसे आस-पास के पड़ोसी देशों तक सीमित हो सकता है. हालांकि इसमें पाकिस्तान को शामिल नहीं किया गया है. ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि पाकिस्तान चीन में बन रही कोरोना वैक्सीन पर निर्भर है.

दूसरे मॉडल के तहत कोरोना वैक्सीन उन गरीब देशों को काफी रियायती दाम पर दी जाएगी. इससे कई अफ्रीकी देशों को इसका लाभ मिल सकता है. तीसरे मॉडल के तहत कई देशों को बाजार मूल्य पर इन वैक्सीन को उपलब्ध कराया जाएगा. जब काफी संख्या में वैक्सीन तैयार हो जाएगी उस वक्त इसे खुले बाजार में वितरित किया जाएगा. चौथे मॉडल के तहत कुछ देशों से भारत के तीसरे चरण के परीक्षणों में भाग लेने के लिए संपर्क किया जाएगा. जबकि पांचवें मॉडल के तहत भारत कुछ देशों को दो घरेलू टीकों के उत्पादन की भी मंजूरी दे सकता है.

Check Also

Killer Corona : महामारी से सबसे ज्यादा पीड़ित है महाराष्ट्र, यहां धीमी क्यों नहीं हो रही रफ्तार ?

महाराष्ट्र कोरोना वायरस के कारण देश का सबसे बुरी तरह प्रभावित राज्य बना हुआ है।  ...