Sunday , March 7 2021
Breaking News
Home / जरा हटके / खालिस्तानी आतंकी संगठन ने रची थी किसान नेताओं की हत्या की ये बड़ी साजिश!

खालिस्तानी आतंकी संगठन ने रची थी किसान नेताओं की हत्या की ये बड़ी साजिश!

किसान आंदोलन की आड़ में विदेशी ताकतें के साथ ही देश में बैठे गद्दार गैंग ने मोदी सरकार को बदनाम करने के लिए किस तरह से साजिशें रचीं थी उनकी परतें एक के बाद एक खुलकर सामने आ रही हैं. इस साजिश के वो किरदार भी बेनकाब हो रहे हैं जो खुद को किसानों का मसीहा बता रहे थे. जिनका लाल किले जैसी हिंसा में पूरा हाथ था. इसके अलावा प्रोपेगेंडाबाज गैंग जिस तरह से इस योजना में लगा हुआ था कि किसी भी तरह से आंदोलन में गोली चले और ये मामला इंटरनेशनल मीडिया की हेडलाइन बने जिससे सरकार की पूरी दुनिया में बदमानी हो. और ये संदेश जाए कि सरकार किसानों पर जुल्म कर रही है. इस बात का भी पिछले दिनों खुलासा हो चुका है. क्यों कि किसान नेताओं ने एक नकाबपोश को शूटर बताते हुए मीडिया के सामने पेश किया था.

और दावा किया गया था 26 जनवरी को प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली के दौरान चार किसान नेताओं की हत्या की साजिश का वो हिस्सा था. लेकिन बाद में पुलिस ने जब उससे पूछताछ की तो पता चला कि किसानों ने उसका अपहरण कर लिया था और हरियाणा पुलिस को फँसाने के लिए किसान नेताओं ने उसे झूठ बोलने के लिए मजबूर किया था. भले ही उस दौरान कुछ किसान नेताओं ने सरकार को बदनाम करने के मकसद से ये प्रोपेगेंडा पेश किया था लेकिन अब खुलासा हुआ है कि उनकी हत्या की साजिश खुद खालिस्‍तानी आतंकी संगठन के लोगों ने ही रची थी.

दरअसल खुलासा हुआ है खालिस्तानी उग्रवादी संगठन ने दिल्ली की सीमा पर प्रदर्शन कर रहे एक किसान नेता की हत्या करने की साजिश रची थी. केंद्रीय इंटेलिजेंस एजेंसियों रॉ और आईबी ने इसका खुलासा किया है. एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक एजेंसियां खालिस्तान कमांडो फोर्स की गतिविधियों पर निगरानी रख रही हैं और इसके तहत तैयार की गई रिपोर्ट में ये दावा किया गया है. एजेंसियों ने इनपुट के आधार पर जो रिपोर्ट तैयार की है, उसके मुताबिक बेल्जियम और युनाइटेड किंगडम में बैठे खालिस्तानी उग्रवादियों ने ये साजिश रची थी. इस प्लान के तहत वे दिल्ली की सीमा पर डटे किसान नेता को मारना चाहते थे.

दरअसल खालिस्तानी उग्रवादी संगठन अपनी इस हरकत के जरिए उन किसान नेताओं को निशाना बनाना चाहते हैं, जो बीते दौर में खालिस्तान कमांडो फोर्स के खिलाफ रहे हैं और उन्हें खत्म करने में अहम रोल अदा किया था. खालिस्तान कमांडो फोर्स एक उग्रवादी संगठन है, जो पहले भी भारत में हुई कई हत्याओं में शामिल रहा है. इस संगठन का भारत से खात्मा हो चुका है. फिलहाल इसके उग्रवादी कनाडा, पाकिस्तान, बेल्जियम और यूके में सक्रिय हैं.

बता दें कि पिछले दिनों ही भारत सरकार ने कनाडा में रह रहे भारतीयों की सुरक्षा को लेकर भी पीएम जस्टिन ट्रूडो से अपनी चिंताएं जाहिर की हैं. कनाडा में रह रहे भारतीय समुदाय के लोगों को खालिस्तानी अतिवादियों की ओर से धमकियां दी जाने की बात सामने आई थी. इसके बाद कनाडा में मौजूद भारतीय उच्चायुक्त ने पीएम जस्टिन ट्रूडों को चिंताओं से अवगत कराया था.

यही नहीं उन्होंने भारतीय समुदाय के लोगों से भी कहा था कि किसी भी तरह की धमकी मिलने पर तुरंत जानकारी दें. रिपोर्ट्स के मुताबिक खालिस्तानी उग्रवादी कनाडा में रह रहे उन भारतीयों को टारगेट कर रहे हैं, जो उनकी राय का समर्थन नहीं करते या फिर कृषि कानूनों के पक्ष में राय जाहिर कर रहे हैं. तो इस तरह से अब धीरे धीरे एक के एक साजिशों का भंडाफोड़ हो रहा है. जो साफ साफ इशारा कर रहा है कि खालिस्तानी ताकतें ने किसान आंदोलन को हाइजैक लिया था और वो देश में अशांति फैलाने की कोशिशों में लगी हुई थीं.

loading...
loading...

Check Also

पीएम मोदी की ब्रिगेड परेड से हुंकार, कहा-जो भी बंगाल से छीना गया है, उसे वापस लौटाएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को चुनाव प्रचार के लिए पश्चिम बंगाल पहुंचे। इस दौरान उन्होंने ...