Wednesday , October 21 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / कोरोना का पीक गुजरा : लगातार 9 दिनों से राहत की बात, नीचे की ओर घूमा महामारी का ग्राफ

कोरोना का पीक गुजरा : लगातार 9 दिनों से राहत की बात, नीचे की ओर घूमा महामारी का ग्राफ

नई दिल्‍ली
भारत में पिछले नौ दिन से रोज आने वाले मामलों की संख्‍या घटी है। पिछले 7 दिनों में आए नए मामलों के औसत का आंकड़ा बताता है कि कोविड का ग्राफ नीचे आ रहा है। महामारी शुरू होने के बाद, 17 सितंबर से 26 सितंबर के बीच का वक्‍त ऐसा रहा है जब लगातार गिरावट देखी गई है। वह भी तब, जब टेस्‍ट्स का 7 दिन पर औसत 17 सितंबर को 10.7 लाख से बढ़कर 25 सितंबर को 11.2 लाख हो गया। यानी ज्‍यादा टेस्‍ट के बावजूद केसेज के औसत में बढ़त नहीं हुई। 17 सितंबर को डेली केसेज का औसत (7 दिन का) 93,199 था। यह महामारी शुरू होने के बाद का सबसे ऊंचा आंकड़ा है। यूरोपियन सेंटर फॉर डिजीज प्रिवेंशन ऐंड कंट्रोल (ECDC) के पास मौजूद डेटा के अनुसार, तब से यह लगातार कम हो रहा है। इससे पहले भी लगातार गिरावट देखी गई है मगर वह दो दिन से ज्‍यादा नहीं टिकी।

बार-बार लौटकर आता है कोरोना
इसका मतलब यह नहीं कि भारत में कोरोना का सबसे खराब दौर गुजर चुका है। अभी ऐसा कह पाना मुश्किल है। अन्‍य देशों के अनुभव बताते हैं कि लंबे वक्‍त तक केसेज गिरने के बाद अचानक से बढ़े हैं। उदाहरण के दौर पर अमेरिका में कोविड का पहला पीक 11 अप्रैल को आया था, तब 7 दिन पर केसेज का औसत 31,942 हो गया था। 29 मई तक यह और गिरकर 20,638 हो गया। लेकिन फिर यह बढ़ना शुरू हुआ और 20 जुलाई को एक और पीक पर पहुंचा जब 7 दिनी औसत 66,903 हो गया। 13 सितंबर तक यह गिरकर 34,320 हुआ लेकिन 26 सितंबर आते-आते फिर बढ़कर 44,109 हो गया है। रूस, स्‍पेन, फ्रांस और यूके में भी लंबे वक्‍त तक केसेज में गिरावट के बाद, नए मामलों में इजाफा हो रहा है।

एक दिन के आंकड़ों के बजाय 7 दिन के औसत से बेहतर तस्‍वीर मिलती है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि टेस्ट्स की संख्‍या के चलते डेली केसेज की संख्‍या में खासा अंतर हो सकता है।

भारत में कोरोना के केस बढ़ेंगे?
कुछ देशों में कोरोना की सेकेंड और थर्ड वेव का मतलब यह नहीं कि भारत में भी वैसा ही होगा। दुनिया के जिन 10 देशों में कोविड के सबसे ज्‍यादा मामले हैं, उनमें से ब्राजील, कोलंबिया, मेक्सिको और साउथ अफ्रीका ने अबतक दूसरा पीक नहीं देखा है। ब्राजील और साउथ अफ्रीका में जुलाई के आखिर में कोरोना पीक पर पहुंचा था लेकिन उसके बाद से केसेज घटे हैं। कोलंबिया और मेक्सिको में भी अगस्‍त के बाद से कोरोना का पीक नहीं आया है। भारत में राज्यों का डेटा दिखाता है कि कुछ राज्‍यों में कोरोना मामलों का डेली एवरेज कम हुआ है, जबकि कुछ में बढ़ रहा है।

राज्‍यों में क्‍या है स्थिति?
भारत में महाराष्‍ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और उत्‍तर प्रदेश में मामलों का 7 दिन का औसत घटने लगा है। इन्‍हीं राज्‍यों में कोरोना के सबसे ज्‍यादा मामले सामने आए हैं। अन्‍य बड़े राज्‍यों की बात करें तो अगस्‍त के बाद से बिहार में भी कोरोना की रफ्तार कम हुई है। हालांकि केरल, गुजरात, राजस्‍थान, मध्‍य प्रदेश, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में डेली केसेज की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है। असम, तेलंगाना और दिल्‍ली उन राज्‍यों में से हैं जहां कई बार पीक देखने को मिला है। ऐसे में यह मान लेना कि एक बार केस कम होने शुरू हुए तो गिरते ही चले जाएंगे, ठीक नहीं।

loading...
loading...

Check Also

गाय के गोबर लैंप ने गुल कर दी चीन की बत्ती, बिलबिलाहट में बक रहा ऊलजलूल

इस बार की दीवाली में चीन का लाइटिंग कारोबार ठप हो जाएगा. भारत ने इसके ...