Wednesday , November 25 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / योगी का यूपी : गैंगरेप के जिस आरोपी को ‘ढूंढ’ रही पुलिस, वो सपा नेताओं के साथ आया नजर!

योगी का यूपी : गैंगरेप के जिस आरोपी को ‘ढूंढ’ रही पुलिस, वो सपा नेताओं के साथ आया नजर!

भदोही। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जहां एक तरफ उत्तर प्रदेश में हो रहे अपराध पर निरंतर योगी सरकार पर निशाना साधते हैं, वहीं, दूसरी तरफ उनके पार्टी के बड़े नेता गैंगरेप के आरोपी को सानिध्य दिए हुए नजर आते हैं। उनसे साथ खुलेआम मीडिया से बातचीत कर रहे हैं।

ताजा मामला लखनऊ का है, जहां रविवार 8 नवंबर को गैंगरेप का आरोपी विधायक विजय मिश्रा का नाती विकास मिश्रा उर्फ़ ज्योति, समाजवादी पार्टी का दामन थामने वाले विंध्याचल के पंडा राज मिश्रा और समाजवादी शिक्षक सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी पाण्डेय और सपा की सहयोगी पार्टी अनजान आदमी पार्टी के आशुतोष मिश्रा के साथ समाजवादी पार्टी कार्यालय में दिखाई दिया।

ऐसे में गैंगरेप के आरोपी को पनाह देने को लेकर जहां समाजवादी विचारधारा और कुनबे पर उंगलियां उठने लगी हैं, वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था और खासकर यूपी पुलिस की कार्यशैली पर भी उंगलियां उठने लगी हैं कि जिस व्यक्ति को पुलिस ढूंढ रही है वह पुलिस के पहरे में ही राजनेताओं का संरक्षण प्राप्त कर खुलेआम घूम रहा है और पुलिस उसकी परछाई भी नहीं छू पाई है।

सोमवार 9 नवंबर को जैसे ही सपाई खेमे में ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्रा के गैंगरेप के आरोपी नाती का वीडियो और फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वैसे ही हड़कंप मच गया। यूपी पुलिस की किरकिरी तो हो ही रही है, साथ ही साथ समाजवादी कुनबा भी इसकी चपेट में आ गया है कि आखिरकार किस प्रकार से सपाई संरक्षण में गैंगरेप के आरोपी को पनाह मिल गई?

गौरतलब है कि विख्यात देवी धाम विंध्याचल के पंडा राज मिश्रा ने रविवार 8 नवंबर को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के समक्ष अपने समर्थकों के साथ समाजवादी पार्टी का दामन थाम लिया है।

मजे की बात है कि जिस वक्त विंध्याचल के राजपुरोहित राज मिश्रा समाजवादी पार्टी का दामन थामते हुए मीडिया के लोगों से मुखातिब हो रहे हैं, उस वक्त उनके साथ गैंगरेप का आरोपी फरार ज्योति मिश्रा भी दिखाई पड़ता है। आश्चर्य की बात यह है कि जहां एक तरफ यूपी खासकर भदोही की पुलिस गैंगरेप के आरोपी विजय मिश्र के नाती को ढूंढ रही है, वहीं वह खुलेआम समाजवादी पार्टी के बड़े नेताओं के साथ बिंदास होकर खुले में विचरण करता हुआ नजर आता है।

समाजवादी खेमे में वह भी प्रदेश की राजधानी में गैंगरेप के आरोपी का दिखना कानून व्यवस्था पर भी एक बड़ा सवालिया निशान खड़ा कर रहा है। खासकर तब जब उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री तथा सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर प्रदेश सरकार को घेरने से तनिक भी पीछे नहीं हैं।

गौरतलब हो कि वाराणसी की एक भोजपुरी गायिका ने ज्ञानपुर के बाहुबली विधायक विजय मिश्रा, उनके बेटे विष्णु मिश्रा और नाती विकास मिश्रा उर्फ़ ज्योति पर सामूहिक दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। मुकदमा दर्ज होने के बाद से ही विकास मिश्र फरार है। इस मामले में पुलिस विधायक के बेटे और भतीजे को ढूंढ रही है, जबकि ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्रा आगरा की जेल में बंद है।

समाजवादी खेमे में गैंगरेप के आरोपी विकास मिश्र उर्फ ज्योति का वीडियो और फोटो वायरल होने के बाद न केवल समाजवादी पार्टी की किरकिरी हो रही है, बल्कि भदोही पुलिस की भी खूब थू थू हो रही है तरह-तरह के सवाल उठ रहे हैं। दूसरी ओर भारी तामझाम के साथ समाजवादी पार्टी का दामन थाम कर राजनीति में कैरियर संवारने की ओर कदम बढ़ाए विंध्याचल के तीर्थ पुरोहित राज मिश्रा भी बैठे-बिठाए विवादों के सुर्खियों में आ गए हैं।

विकास मिश्रा उर्फ ज्योति और राज मिश्रा के बीच क्या कनेक्शन हो सकते हैं? इसको लेकर भी चर्चा जोर शोर से होने लगी है। बहरहाल, अब देखना यह है कि यूपी सरकार और खासकर यूपी पुलिस इस मामले में क्या कार्यवाही सुनिश्चित करती है? बाहुबली विधायक विजय मिश्रा के नाती तथा गैंगरेप के फरार आरोपी विकास मिश्रा उर्फ ज्योति को गिरफ्तार कर पाती है या यूं ही अंधेरे में ही तीर मारती हुई नजर आती हैै।

loading...
loading...

Check Also

मां-बेटे ने 17 साल की कोमल को किया किडनैप, मुसलमान बनाकर 5 लोग 2 महीने तक किये रेप

साल 2020 के मार्च महीने की 16 तारीख को पाकिस्तान के लाहौर में 17 साल ...