Thursday , October 1 2020
Breaking News
Home / ख़बर / छत्तीसगढ़ में कोरोना LIVE : महामारी हुई आउट ऑफ कंट्रोल, डरा रहे मौत के ताजा आंकड़े

छत्तीसगढ़ में कोरोना LIVE : महामारी हुई आउट ऑफ कंट्रोल, डरा रहे मौत के ताजा आंकड़े

रायपुर. छत्तीसगढ़ भारतीय जनता पार्टी के नेता और प्रदेश नेता प्रति पक्ष धरमलाल कौशिक अब ठीक हो चुके हैं। कोविड पॉजिटिव आने के 10 दिन तक उनका इलाज एम्स रायपुर में हुआ। सोमवार को निगेटिव रिपोर्ट के बाद उन्हें डिस्चार्ज किया गया। दूसरी तरफ कल ही बीजेपी के प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव कोरोना पॉजिटिव पाए गए। उन्होंने ट्वीटर पर इसकी जानकारी देकर संपर्क में आए लोगों को जांच करवाने कहा। बिलासपुर नगर निगम की सामान्य सभा में शामिल होने और कई लोगों से मिलने वाले एक पार्षद महिला के पति की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से लोग डरे हुए हैं।

आंकड़ों में कोरोना
सोमवार की शाम जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक दिन भर में 372 नए कोरोना मरीजों की पहचान की गई है। 363 मरीज डिस्चार्ज किए गए। रायपुर से 170, दुर्ग से 59, बिलासपुर से 34, सरगुजा से 20, राजनांदगांव व महासमुंद से 14-14, बलौदाबाजार, रायगढ़ व कांकेर से 7-7, जांजगीर-चांपा, दंतेवाड़ा, सुकमा से 5-5, जशपुर से 4, बालोद, कोरिया व बस्तर से 3-3, बेमेतरा, कबीरधाम, धमतरी व सूजरपुर से 2-2, मुंगेली, कोण्डागांव, नारायणपुर व बीजापुर से 1-1 संक्रमित मिले हैं।

इनकी हुई मौत
प्रदेश में 6 नई मौतों के बाद अब तक 148 कोरोना संक्रमितों की जान जा चुकी है। रायपुर के पंडरी स्थित मस्जिद पारा के 65 साल के बुजुर्ग की 16 अगस्त को सुबह अस्पताल लाए गए और रात में इनकी मौत हो गई। खुर्सीपार भिलाई के रहने वाली 64 साल की बुजुर्ग महिला डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित थी, इनकी भी मौत हो गई। खुर्सीपार के ही रहने वाले एक पुरुष की भी मौत हो गई इन्हें 6 अगस्त को एम्स रायपुर में भर्ती किया गया था ।

यह भी डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के मरीज थे। बसना जिला महासमुंद के रहने वाले 46 साल के व्यक्ति की भी एम्स रायपुर में मौत हो गई। टाटीबंध रायपुर के रहने वाले 55 साल के बुजुर्ग की मौत, भिलाई के 72 साल के बुजुर्ग को हार्ड और डायबिटीज की समस्या थी 14 अगस्त को आईसीयू एम्स में भर्ती किए गए थे और रस 17 अगस्त दोपहर को इनका देहांत हो गया।

loading...
loading...

Check Also

हाथरस : गैंगरेप आरोपियों के परिवार में जातिवाद का घमंड, बोले- इनके साथ हम बैठते नहीं, हमारे बच्चे इनकी बेटी को छुएंगे क्या?

दिल्ली से 160 किलोमीटर दूर है हाथरस गैंगरेप पीड़ित का गांव बूलगढ़ी। ठाकुर और ब्राह्मण ...