Friday , February 26 2021
Breaking News
Home / जरा हटके / जब अपनी पत्नी भानुमति और कर्ण को इस हाल में देखा था दुर्योधन, तब.. जानिए

जब अपनी पत्नी भानुमति और कर्ण को इस हाल में देखा था दुर्योधन, तब.. जानिए

महाभारत में दुर्योधन को खलनायक के रूप में जाना जाता है | वह हस्तिनापुर नरेश धृतराष्ट्र का सबसे बड़ा पुत्र था | उसे विश्वास था की आगे चलकर वही अपने राज्य का कार्यभार संभालेगा | लेकिन उसकी अधर्मी निति के कारण पांडवो ने उसके इस मनसूबे को कामयाब नहीं होने दिया | आज हम आपको दुर्योधन के जीवन से जुड़ा एक ऐसा किस्सा सुनाने जा रहे है | जिसे हो सकता है आपने नहीं सुना होगा |

 

 

ऐसा कहा जाता है की जब दुर्योधन का जन्म हुआ था | तब महर्षि वेदव्यास ने धृतराष्ट्र को दुर्योधन की हत्या करने का परामर्श दिया था | उनका कहना था की यदि आपने ऐसा नहीं किया तो आपका यह पुत्र, पुरे कुल का सर्वनाश कर देगा | लेकिन धृतराष्ट्र को महर्षि व्यास की यह बात उचित नहीं लगी | इसी का परिणाम महाभारत का युद्ध हुआ |

दोस्तों कहते है की दुर्योधन अपने मित्र कर्ण पर आँख मूंदकर भरोसा करता था | क्योंकि महाभारत में वही ऐसा शख्स था | जो दुर्योधन को पांडवो के हाथो से बचा सकता था | एक बार कम्बोज महाजनपद के राजा ने अपनी बेटी भानुमति का स्वयंवर आयोजित किया था | जिसमे दुयोधन को भी आमंत्रित किया गया था | प्रारम्भ में तो दुर्योधन जाने को तैयार नहीं हुआ | लेकिन उसे पता चला की भानुमति किसी अप्सरा से कम नहीं है तो वह तुरंत जाने को तैयार हो गया |

उसने स्वयंवर में जाकर देखा की भारतवर्ष के सभी ताकतवर राजा, राजकुमार आये है | उनमे जरासंध, रुक्मी, शिशुपाल, कर्ण और दुर्योधन भी थे | स्वयंवर के नियमो के अनुसार राजकुमारी को स्वयं अपना वर चुनना होता था | लेकिन कहते है की जब वरमाला पहनाने का समय आया तो भानुमति दुर्योधन में नजदीक से गुजर गयी | लेकिन दुर्योधन को वरमाला नहीं पहनाई |

इस अपमान को दुर्योधन सह नहीं सका | उसने कर्ण के बाहुबल से भानुमति से विवाह कर लिया और उसे लेकर हस्तिनापुर चला आया | दुर्योधन अपनी पत्नी भानुमति से बेशुमार प्रेम करता था | जब वह आखेट पर जाता था तो भानुमति को साथ लेकर जाता था | कुछ ही दिनों में कर्ण और भानुमति की भी अच्छी मित्रता हो गयी |

एक बार कर्ण अपने मित्र दुर्योधन की अनुपस्थिति में भानुमति के कमरे में चला गया और जाकर चौसर खेलने लगा | अचानक वहां दुर्योधन आ गया | कदमो की आहट सुनकर भानुमति को अहसास हो गया की दुर्योधन आ रहा है | इतने में ही वह चौसर से खड़ी हो गयी | कर्ण को लगा की भानूमती हारने की वजह से उठ गयी | उसने भानूमती का हाथ पकड़कर उसे पुनः अपने पास बैठा लिया | इससे कर्ण की भुजा में जड़ित माला टूट गयी |

तभी दुर्योधन उनके सामने आ गया | कर्ण और भानूमती ने सोचा की आज दुर्योधन हम दोनों पर शक करेगा | लेकिन उसने ऐसा नहीं किया | वह दुनिया में तीन ही व्यक्तियों पर विश्वास करता था | मामा शकुनि, सूतपुत्र कर्ण और उसकी सबसे सुन्दर पत्नी भानुमति | उसने कमरे में आकर कहा की मित्र अपनी माला संभालो और तुरंत वहां से चला गया | कुछ दन्तकथाये यह भी कहती है की कर्ण और भानूमती का रिश्ता पवित्र नहीं था | लेकिन इस बात का प्रमाण महाभारत में ना मिलने से इसे नकारा जा सकता है |

दुर्योधन का यह विश्वास देखकर कर्ण भावुक हो गया और बाद में उसने अपने मित्र से पुछा की तुमने मुझ पर शक क्यों नहीं किया | उसने कहा दुनिया में तुम्ही तो ऐसा व्यक्ति हो जिस पर मैं आँख मूंदकर विश्वास कर सकता हूँ | कर्ण ने जब यह सुना तो उसने वचन दिया की वह एक दिन पांडवो के खिलाफ इतना भयंकर युद्ध करेगा | जिसे सारा विश्व याद रखेगा |

loading...
loading...

Check Also

अब मिलेगी मनचाही नौकरी, बस करना होगा ये आसान सा उपाय…

एक अच्छी नौकरी की चाह हर किसी को होती है | हर कोई चाहता है ...