Monday , September 21 2020
Breaking News
Home / ख़बर / झारखंड में कोरोना हो गया बेकाबू, 8 संक्रमितों की मौत, देखें हर जिले का लेटेस्ट अपडेट

झारखंड में कोरोना हो गया बेकाबू, 8 संक्रमितों की मौत, देखें हर जिले का लेटेस्ट अपडेट

रांची :

झारखंड में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। शनिवार को राज्य भर में 1299 कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान की गई। सबसे ज्यादा 257 मरीज रांची में पाए गए। वहीं, झारखंड में आज 8 मरीजों की मौत भी हुई। मृतकों में पूर्वी सिंहभूम 3, चतरा, धनबाद, पलामू, रांची और पश्चिमी सिंहभूम से 1-1 मरीज शामिल हैं। इधर, कोडरमा मंडलकारा में 20 कैदियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।

कहां मिले कितने मरीज
बोकारो से 66 , चतरा से 41, देवघर से 28, धनबाद से 60, दुमका से 65, पूर्वी सिंहभूम से 233, गढ़वा से 19, गिरिडीह से 78, गोड्डा से 42, गुमला से 11, हजारीबाग से 41, जामताड़ा से 24, खूंटी से 42, कोडरमा से 35, लातेहार से 25, लोहरदगा से 1, पाकुड़ से 8, पलामू से 46, रांची से 257, रामगढ़ से 55, साहेबगंज से 26, सरायकेला से 53, सिमडेगा से 15 और पश्चिमी सिंहभूम से 28 मरीज शामिल हैं।

वहीं, मंडलकारा में कैदियों के बीच कोरोना संक्रमण फैलने से जेल प्रशासन में हड़कंप मच गया है। शनिवार की जांच में अब तक 20 कैदियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। एक साथ इतनी संख्या में कैदियों के कोरोना पॉजिटिव होने से जेल प्रशासन भी सकते में है। जेल में बंद 41 कैदियों की तबीयत पिछले कुछ दिनों से खराब चल रही थी। उनमें सर्दी, खांसी व बुखार के लक्षण दिखाई दे रहे थे। इसे लेकर जेल प्रशासन द्वारा गुरुवार को 41 कैदियों का जेल के अंदर ही मेडिकल टीम द्वारा कोरोना जांच किया गया। इसमें 20 कैदियों को कोरोना संक्रमित पाया गया। संक्रमित पाए गए कैदियों को फिलहाल जेल के अंदर ही 70 बेड के बनाए गए कोविड केयर सेंटर में रखा गया है। शेष बचे कैदियों को अलग वार्ड में शिफ्ट कराया गया है।

31 को शहर के आधा दर्जन जगहों पर होगा कारोना जांच मेगा कैंप का आयोजन
इधर, जिला प्रशासन ने 31 अगस्त सुबह 11 बजे काेरोना जांच मेगा कैंप का आयोजन करने का निर्णय लिया है। इसमें सभी व्यवसायियों से कैंप में शामिल होकर जांच कराते हुए सहयोग करने की बात कही गई। जिला प्रशासन ने शनिवार को प्रखंड सभागार में शहर के दवा व्यवसायियों व जांच घर संचालकों के साथ बैठक की। बैठक में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. रंजीत कुमार ने बताया की दवा दुकानदार सबसे अधिक हाई रिस्क कांटेक्ट में आते हैं। इसलिए उनका कोरोना जांच आवश्यक है। उन्होंने कहा की सभी दुकानदारों को अपने दुकान पर कोरोना निगेटिव सर्टिफिकेट रखना होगा। वैसे दुकान जहां सर्टिफिकेट नहीं होगा, उस दुकान को खोलने की इजाजत नहीं होगी।

Check Also

School Reopen : यूपी में कल सुबह स्कूल-कॉलेज खुलेंगे या नहीं, आ गया योगी का फैसला

लखनऊ कोरोना महामारी के चलते उत्तर प्रदेश में कल यानी कि सोमवार से स्कूल-कॉलेज नहीं ...