Saturday , September 26 2020
Breaking News
Home / क्राइम / टैटू डिजाइनर का मर्डर : बीवी की बदचलनी ने ले ली जान, आशिक से ऐसे कराया कांड

टैटू डिजाइनर का मर्डर : बीवी की बदचलनी ने ले ली जान, आशिक से ऐसे कराया कांड

जबलपुर
शहर में 12 अगस्त को टैटू की दुकान चलाने वाले युवक अंकित चंडोक की हत्या करने के आरोप में 3 युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इनमें से एक युवक उत्कर्ष मिश्रा के मृतक की पत्नी के साथ प्रेम संबंध थे। प्रेम संबंधों के चलते पति को रास्ते से अलग करने के लिए आशिक ने उसकी हत्या का प्लान बनाया और प्लान को अंजाम देकर गाजियाबाद फरार हो गया।

जबलपुर के एक मॉल में टैटू की दुकान चलाने वाले 34 वर्षीय अंकित चंडोक की गढ़ा थाना क्षेत्र में 12 अगस्त की रात को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। जबलपुर पुलिस ने इस मामले की जांच की तो चौंकाने वाला तथ्य सामने आए। आरोपी जिस कार से फरार हुए थे, उसका रजिस्ट्रेशन गाजियाबाद का था। सीसीटीवी फुटेज से मिले सुराग के आधार पर पुलिस ने मामले की तफ्तीश की थी।

अंकित चंडोक के रिश्तेदार के घर आता था उत्कर्ष
जांच के दौरान यह बात सामने आई कि अंकित चंडोक के रिश्तेदार जग्गी का एक दोस्त गाजियाबाद में रहता है, जिसका जबलपुर आना जाना लगा रहता है और अंकित चंडोक की पत्नी अक्सर उससे मिलने जाती है। इस बात पर पुलिस ने गाजियाबाद से उत्कर्ष मिश्रा, मयंक अग्रवाल और शुभम छारोलिया को हिरासत में लिया और पूछताछ की। तब आरोपी उत्कर्ष मिश्रा ने पूरे मामले का खुलासा कर दिया।

2 साल से थे संबंध
उत्कर्ष मिश्रा ने बताया कि वह पिछले दो साल से अंकित चंडोक के रिश्तेदार जग्गी के घर आ रहा है। जग्गी और उत्कर्ष मिश्रा कुत्तों की ब्रीडिंग और बेचने का काम करते हैं। यहां पर उसकी मुलाकात अंकित की पत्नी से हुई। कुछ ही मुलाकातों में दोनों की दोस्ती प्रेम-प्रसंग में बदल गई और उसके बाद उत्कर्ष मिश्रा और अंकित की पत्नी अक्सर मिलने लगे। उत्कर्ष मिश्रा कई बार जबलपुर आता था और अंकित के रिश्तेदार जग्गी के घर में रुकता था और यहीं पर उसकी अंकित की पत्नी से मुलाकातें होती थी।

अंकित के विवाद के बारे में जानकारी
इधर बातों ही बातों में उत्कर्ष मिश्रा को पता चला कि अंकित चंडोक का विवाद उसकी दुकान के पास ही दूसरे दुकान संचालक से चल रहा है। इस बात का पता चलने पर उत्कर्ष मिश्रा के दिमाग में अंकित चंडोक की हत्या करने का प्लान आया। उत्कर्ष मिश्रा ने प्लान बनाया कि यदि वह अंकित चंडोक की हत्या कर देता है तो ऐसे में पुलिस का पूरा शक उस दुकान संचालक के ऊपर जाएगा, जिसका विवाद अंकित चंडोक के साथ चल रहा है और वह बच जाएगा।

साथियों के साथ आया जबलपुर
इस प्लान को अंजाम देने के लिए उसने अपने दो साथी मयंक अग्रवाल और शुभम चारोलिया को साथ में लिया और तीनों एक कार से गाजियाबाद से जबलपुर पहुंचे। यहां पर आकर वे एक होटल में रुके और उन्होंने 5 दिन तक अंकित चंडोक की रेकी की। उन्होंने पता लगाया कि अंकित चंडोक रात में खाना खाने के बाद आवारा पशुओं को भोजन देने के लिए गढ़ा क्षेत्र में जाता है इस दौरान वह पूरी तरह से अकेला होता है और यह क्षेत्र सुनसान है, जिसमें आसानी से वारदात को अंजाम दिया जा सकता है।

12 अगस्त को की हत्या
इसके बाद उत्कर्ष मिश्रा ने 12 अगस्त की रात को अंकित चंडोक का पीछा किया और अंकित गढ़ा के सुनसान इलाके में आवारा जानवरों को भोजन करा रहा था। तभी उन्होंने उस पर एक दर्जन गोलियां दाग दी और उसे मौत की घाट उतार दिया। इसके बाद तीनों कार में बैठकर फरार हो गए। इसके बाद बिल्कुल वैसा ही हुआ जैसा उत्कर्ष मिश्रा ने सोचा था, मौके पर पहुंची पुलिस ने तफ्तीश के दौरान सबसे पहले उस दुकान संचालक से पूछताछ की जिससे अंकित का विवाद चल रहा था लेकिन 3 दिन तक पूछताछ करने के बाद भी पुलिस को कोई खास सफलता हाथ नहीं लगी।

सीसीटीवी कैमरे से मिला सुराग
इस हत्याकांड के बाद पुलिस ने जब आसपास के घरों के सीसीटीवी फुटेज देखें तो उसमें एक कार नजर आई, जिसमें 3 लोग बैठे नजर आ रहे थे। इस कार का रजिस्ट्रेशन गाजियाबाद का था, बस इस लिंक के आधार पर पुलिस को समझते देर नहीं लगी कि इस हत्या के तार गाजियाबाद से जुड़े हैं। पुलिस ने जब अंकित के परिवार वालों से गाजियाबाद के संबंध में पूछताछ की तब उत्कर्ष मिश्रा का नाम सामने आया। पुलिस ने गाजियाबाद से उत्कर्ष मिश्रा और उसके दो साथियों को गिरफ्तार कर लिया और पूरे मामले का खुलासा कर दिया।

पत्नी को नहीं थी जानकारी
एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि अंकित चंडोक की पत्नी को नहीं मालूम था कि उसका प्रेमी उत्कर्ष मिश्रा उसके पति की हत्या का प्लान बना रहा है। इस वजह से इस हत्याकांड में उसे आरोपी नहीं बनाया गया है। पुलिस ने तीनों आरोपियों से वह रिवॉल्वर भी बरामद कर ली है, जिससे गोलियां चलाई गई थीं। पकड़े गए तीनों आरोपियों को अदालत में पेश कर दिया गया है, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।

Check Also

पायल घोष ने पुलिस को सुनाई बलात्कार की दास्तान : ‘अनुराग कश्यप ने मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और..‘

बॉलीवुड के मशहूर फिल्म निर्माता-निर्देशक अनुराग कश्यप के ख़िलाफ अभिनेत्री पायल घोष ने साल 2013 ...