Sunday , December 6 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / डेमोक्रेट्स के लिए वोट करते Latino मतदाता, लेकिन ‘Black Lives Matter’ ने सब बदल दिया !

डेमोक्रेट्स के लिए वोट करते Latino मतदाता, लेकिन ‘Black Lives Matter’ ने सब बदल दिया !

अमेरिका में अभी चुनाव जारी हैं और रुझानों के मुताबिक किसी भी उम्मीदवार को एकतरफा जीत मिलना मुश्किल दिखाई दे रहा है। हालांकि, ट्रम्प ने यहाँ अमेरिका के सबसे अहम राज्यों में से एक फ्लॉरिडा पर कब्जा जमा लिया है। विशेषज्ञों का मानना था कि अगर राष्ट्रपति ट्रम्प को दोबारा चुनाव जीतना है, तो उन्हें इस राज्य में जीत हासिल करनी ही होगी। फ्लॉरिडा में उनकी जीत से यह भी स्पष्ट हो गया है कि ट्रम्प Latin American मूल के लोगों का वोट प्राप्त करने में सफल रहे और Latinos ने Hilary के बाद अब बाइडन को भी पूरी तरह नकार दिया है।

ट्रम्प फ्लॉरिडा में जीत हासिल कर चुके हैं और ये Latino-American वोटर्स के समर्थन के बिना नहीं हो सकता था। वोट करने का अधिकार रखने वाली आबादी में करीब 27 प्रतिशत हिस्सा इन्हीं Latino-American वोटर्स का है। ओबामा के समय ये सभी वोटर्स खुलकर Democrats का समर्थन करते थे, लेकिन वर्ष 2016 में ट्रम्प की उम्मीदवारी के बाद से अधिकतर Latino-American Republicans का ही समर्थन करते हैं। ट्रम्प कम्यूनिज़्म के सबसे बड़े विरोधियों में से एक माने जाते हैं, जिसके कारण फ्लॉरिडा के Cuban-American, Venezuelan-Americans के बीच वे काफी पॉपुलर हैं।

सही मायनों में ट्रम्प और Republicans ने वर्ष 2016 से ही Latinos को लुभाने के लिए जी-तोड़ मेहनत की है। वर्ष 2016 में ट्रम्प को राष्ट्रपति बने एक महीना भी नहीं हुआ था कि ट्रम्प की एक फोटो Latinos के बीच वायरल हुई, जिसके बाद ट्रम्प के लिए Latinos के बीच समर्थन और बढ़ गया। ट्रम्प ने असल में Venezuela के टॉप विपक्षी नेता की पत्नी Lilian Tintori के साथ वो फोटो खिंचाई थी। उसके बाद उपराष्ट्रपति पेन्स और ट्रम्प प्रशासन के कई अधिकारी भी फ्लॉरिडा में जाकर ट्रम्प की नीतियों का बखान करते रहते हैं। यही कारण है कि anti-immigrants, बॉर्डर वॉल, रेसिज़्म के आरोपों के बावजूद वर्ष 2020 में ट्रम्प की जीत का अंतर वर्ष 2016 की जीत से भी ज़्यादा रहा है।

 

Latinos द्वारा ट्रम्प के भरपूर समर्थन के पीछे एक बड़ा कारण Black Lives Matter प्रदर्शनों के दौरान होने वाली हिंसा भी हो सकती है। Biden ने खुलकर इन विरोध प्रदर्शनों का समर्थन किया, जिसके कारण फ्लॉरिडा में उनके लिए समर्थन कमजोर पड़ गया। दूसरी ओर ट्रम्प ने इन चुनावों में border wall जैसे संवेदनशील मुद्दों को नहीं उठाया, जिसने फ्लॉरिडा में इन चुनावों में ट्रम्प की जीत को सुनिश्चित कर दिया।

फ्लॉरिडा राज्य electoral votes के हिसाब से अमेरिका के सबसे बड़े राज्यों में से एक है। यहाँ 29 सीटें हैं और ट्रम्प की जीत ने उनकी दोबारा राष्ट्रपति चुने जाने की राह को काफी आसान बना दिया है। फ्लॉरिडा के Latinos ने बाइडन के कम्यूनिज़्म को नकार दिया है, क्योंकि अधिकतर Latinos स्वयं अपने देशों में कम्यूनिज़्म की मार को झेल चुके हैं। बाइडन न तो यहाँ अपनी छवि सुधार पाये और न ही वे ट्रम्प की छवि को कोई नुकसान पहुंचा पाये। इन सब समीकरणों का ही यह असर रहा कि ट्रम्प को बड़ी ही आसानी से फ्लॉरिडा में जीत मिल गयी।

loading...
loading...

Check Also

कंगाल हुआ पाकिस्तान : कर्जदारों से रहम की भीख मांगे इमरान, नहीं मिली तो खेल खत्म!

पाकिस्तान इन दिनों बहुत सी मुसीबतों से घिरा हुआ है या यूँ कहें की पाकिस्तान ...