Sunday , December 6 2020
Breaking News
Home / ख़बर / Lockdown Returns : दिल्ली को फिर लॉक लगाने की तैयारी, जानिए किन गतिविधियों पर होगी रोक?

Lockdown Returns : दिल्ली को फिर लॉक लगाने की तैयारी, जानिए किन गतिविधियों पर होगी रोक?

दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को केन्द्र सरकार से उन बाजार क्षेत्रों में लॉकडाउन लगाने का अधिकार मांगा जो कि कोविड-19 के ‘हॉटस्पॉट’ बन सकते हैं। इस बीच, अथॉरिटीज ने अस्पतालों में आईसीयू बेड बढ़ाने, जांच की क्षमता बढ़ाकर एक से 1.2 लाख करने और ज्यादा जोखिम वाले स्थानों पर निगरानी टीमों की तैनाती समेत अन्य रणनीति तैयार की है।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार, केन्द्र और सभी एजेंसियां राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 की स्थिति को नियंत्रित करने के लिए दोगुना प्रयास कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हम केन्द्र सरकार को दिल्ली सरकार को बाजार क्षेत्रों में लॉकडाउन लगाने की शक्ति देने के लिए एक प्रस्ताव भेज रहे हैं, जो कि कोविड-19 के हॉटस्पॉट बन सकते हैं।’ उन्होंने कहा कि दीपावली उत्सव के दौरान देखा गया कि अनेक लोगों ने मास्क नहीं पहन रखा था और वे उचित दूरी के नियम का पालन नहीं कर रहे थे जिसकी वजह से कोरोना वायरस बहुत अधिक फैल गया।

इससे पहले कल दिन में दिल्ली सरकार ने अपनी प्रेस विज्ञप्ति में स्थानीय लॉकडाउन शब्द का इस्तेमाल किया था लेकिन बाद में इसे संशोधित कर बंद कर दिया गया। आइए जानते हैं कि दिल्ली में दोबारा लॉकडाउन लगा तो किन-किन गतिविधियों पर पाबंदी लग सकती है…

​शादी समारोहों पर फिर से कड़ाई

केजरीवाल ने ऑनलाइन प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि दिल्ली सरकार ने उपराज्यपाल को शादी समारोहों में 200 के बजाय अब केवल 50 तक की ही संख्या में लोगों को शामिल होने देने के संबंध में एक प्रस्ताव भेजा है। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, ‘कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों की संख्या में कमी आने की वजह से केन्द्र के दिशा-निर्देशों के अनुरूप पूर्व में विवाह समारोहों में 200 तक की संख्या में लोगों को शामिल होने की अनुमति दी गई थी।’ केजरीवाल ने कहा, ‘अब उपराज्यपाल बैजल को पूर्व के आदेश को वापस लेने की मंजूरी देने और विवाह समारोहों में अतिथियों की संख्या को 200 की जगह 50 करने के लिए एक प्रस्ताव भेजा गया है।’ । चाहे खुली जगह पर समारोह हो या किसी बंद जगह पर, किसी भी जगह पर 50 से ज्यादा लोग हिस्सा नहीं ले पाएंगे। क्लोज स्पेस में हॉल कपैसिटी के हिसाब से 50% लोग आ सकते हैं, लेकिन ज्यादा-से-ज्यादा 50 ही।
​बाजार, पब्लिक ट्रांसपोर्ट को भी बंद करने का सुझाव

 

 

कांग्रेस ने दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में आई तेजी के मद्देनजर मंगलवार को कहा कि बाजारों, सार्वजनिक परिवहन सेवाओं और सरकारी दफ्तरों को बंद किया जाना चाहिए। पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता अजय माकन ने आरोप लगाया कि विज्ञापन देने के सिवाय कुछ नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘हम ये कहना चाहते हैं कि बाजार बंद होने चाहिए। चुनिंदा ढंग से बंद नहीं होने चाहिए। वर्क फ्रॉम होम को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। मैट्रो अगर चले तो बिल्कुल चले, नहीं चले तो बिल्कुल नहीं चले।’

​फिर लॉकडाउन की तैयारी से कारोबारी नाराज

 

कारोबारियों का कहना है कि उन्हें ‘बलि का बकरा’ बनाया जा रहा है और वे पहले लॉकडाउन से हुए नुकसान से ही अबतक उबर नहीं पाए हैं। सरोजनी नगर बाजार संघ के महासचिव अशोक रंधावा ने कहा, ‘सरकार हमसे बलि के बकरे जैसा व्यवहार कर रही है। हमने इस त्योहारी मौसम में नुकसान की कुछ भरपाई की है और सरकार फिर से बाजार बंद करने की धमकी दे रही है। हम कोविड-19 से बचने के लिए सामाजिक दूरी रखने और मास्क आदि इस्तेमाल करने जैसे एहतियाती कदमों का अनुपालन कर रहे हैं।’ नई दिल्ली कारोबारी संघ के एक प्रतिनिधि, जिसके तहत कनॉट प्लेस भी आता है, ने कहा कि सभी बाजारों के लिए एक ही नियम नहीं लागू किया जा सकता। हालांकि, चांदनी चौक व्यापार मंडल के अध्यक्ष संजय भार्गव ने सरकार के पक्ष का समर्थन किया।

​दिल्ली से नोएडा जाने वालों की औचक जांच

 

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी के कारण बुधवार से दिल्ली से नोएडा आने वाले लोगों की औचक तरीके से कोविड-19 की जांच की जाएगी। गौतम बुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एल वाई ने बताया कि नोएडा और दिल्ली के बीच लोगों की मुक्त आवाजाही पर किसी तरह की पाबंदी नहीं होगी। सुहास ने कहा, ‘दिल्ली और अन्य स्थानों से लोगों की आवाजाही की वजह से संक्रमण बढ़ा है। इसलिए, ऐसे लोगों की औचक जांच की जाएगी और यहां के सभी संस्थानों को लक्षण वाले लोगों पर नजर रखने, पहचान करने और जरूरी इलाज मुहैया कराने के लिए परामर्श जारी किया गया है।’ उन्होंने बताया कि औचक जांच रैपिड एंटीजन किट से की जाएगी।

​कंटेनमेंट जोनों में तैनात होंगी निगरानी टीमें

 

दिल्ली में निषिद्ध क्षेत्रों (Containment Zones) और जोखिम वाले इलाके में संक्रमण के मामलों का पता लगाने के लिए घर-घर जाकर सर्वेक्षण करने का फैसला किया गया है और इस के लिए 7,000 से 8,000 टीमें तैनात की जाएंगी। इस बारे में नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल ने बताया कि कोविड राष्ट्रीय कार्यबल ने कहा है कि आईसीयू बेड की क्षमता अगले कुछ दिनों में 3,523 से बढ़ाकर 6,000 कर दी जाएगी।

​फिर लॉकडाउन की जरूरत क्यों?

नीति आयोग ने कहा है कि दिल्ली में ‘अभूतपूर्व हालात’ पैदा हो गए हैं जो आगामी सप्ताह में और बिगड़ सकते हैं। उसने आशंका जताई कि दिल्ली में प्रति 10 लाख कोविड-19 महामारी से पीड़ितों की दर मौजूदा 361 से बढ़कर 500 तक पहुंच सकती है। आयोग ने त्योहारों में कोरोना से बचाव के सारे नियमों की धज्जियां उड़ाने को इसकी बड़ी वजह बताया है। आने वाले हफ्तों में हालात और खराब होने की आशंका में कई राज्यों से पैरामिलिट्री डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ को दिल्ली भेजा जा रहा है। उधर, दिल्‍ली के हालात पर रविवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बैठक बुलाई थी। एक उच्च स्तरीय बैठक में 12 बड़े निर्देश जारी किए गए। इस बैठक में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन भी शामिल हुए। इसमें आरटीपीसीआर की जांच को दोगुना करने का निर्णय हुआ। जब दिल्ली में स्वास्थ्यकर्मियों की कमी की बात सामने आई तो उन्होंने सेंट्रल आर्म्‍ड पुलिस फोर्स (CAPF) से अतिरिक्त डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की व्यवस्था का फैसला हुआ। असम, तमिलनाडु, गुजरात, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान जैसे राज्यों से करीब 75 सेंट्रल पैरामिलिट्री डॉक्टरों और 250 पैरामेडिकल स्टाफ को दिल्ली भेजा जा रहा है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बताया कि कुछ डॉक्टर और स्टाफ दिल्ली पहुंच भी चुके हैं।
बड़े शहरों में दिल्ली टॉप पर

 

 

कोरोना केस के मामले में देश के बड़े शहरों में दिल्ली टॉप पर है। ऊपर देखें पूरी लिस्ट। जो शहर हर पैमाने पर टॉप पर है, उन्हें लाल रंग से रेखांकित किया गया है जबकि जहां हर पैमाने पर स्थिति बेहतर है, उन्हें भूरे रंग से चिह्नित किया गया है।

​1 से 16 नवंबर के बीच 1 लाख से ज्यादा नए कोरोना केस

 

दिल्ली में 1 से 16 नवंबर के बीच कोरोना वायरस के 1,01,070 नए मामले दर्ज किए गए और करीब 1,202 संक्रमितों की मृत्यु हो गई, वहीं करीब 93,885 रोगी इस अवधि में संक्रमण से उबरने में सफल रहे। 1 नवंबर को संक्रमण के 5,664 मामले सामने आए थे जो 11 नवंबर को बढ़कर 8,593 हो गए। यह एक दिन में संक्रमण के मामलों का आज तक का सर्वाधिक आंकड़ा है। आंकड़ों के अनुसार, राजधानी में 1 अक्टूबर से 15 अक्टूबर तक संक्रमण के 41,316 मामले सामने आए थे जबकि 563 संक्रमितों ने दम तोड़ दिया था, वहीं वायरस से 45,056 लोग स्वस्थ हुए थे। वहीं 16-31 अक्टूबर तक संक्रमण के 65,675 मामले सामने आए और 587 लोगों की संक्रमण से मौत हो गई। इसी अवधि में 54,974 रोगी संक्रमण से उबरे। राष्ट्रीय राजधानी में 28 अक्टूबर से कोरोना वायरस के मामलों में अचानक इजाफा देखा गया है। उस दिन पहली बार संक्रमण के दैनिक मामलों की संख्या 5,000 से अधिक हो गई और 11 नवंबर को रोजाना के मामलों की संख्या 8,000 के पार चली गई। दिल्ली में 12 नवंबर को संक्रमण से 104 लोगों की मृत्यु हो गई जो पांच महीने से अधिक समय में संक्रमण से एक दिन में मौत का सर्वाधिक आंकड़ा है।

​देश में मरने वाला हर पांचवां कोविड मरीज दिल्ली से: माकन

 

कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने कहा, ‘दुख की बात भी है और ये सरकार की अकर्मण्यता की भी निशानी है कि हिंदुस्तान के अंदर कोविड से जिन हर पांच व्यक्ति की मृत्यु हो रही है, उन हर पांच में से एक व्यक्ति दिल्ली का है। दिल्ली के मुख्यमंत्री और केंद्र के गृहमंत्री दिल्ली की इस स्थिति के लिए दोनों बराबर के जिम्मेदार हैं।’ दरअसल, दिल्ली में 12 नवंबर को 7,053 मामले; 13 नवंबर को 7,802; 14 नवंबर को 7,340; 15 नवंबर को 3,235 और 16 नवंबर को 3,797 मामले सामने आए। दिल्ली में 11 से 16 नवंबर के बीच रोजाना संक्रमण से मौत के 85; 104; 91; 96; 95 और 99 मामले सामने आए। इसी तरह 15 नवंबर को 7,606 कोविड-19 रोगी स्वस्थ हुए जो इस महीने एक दिन में संक्रमणमुक्त हुए लोगों की सर्वाधिक संख्या है। 11 नवंबर को 7,264 जबकि 12 नवंबर को 6,462 लोग ठीक हो गए। 13-16 नवंबर के बीच रोजाना स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या क्रमश: 6,498; 7,117; 7,606 और 3,560 रही।

​सत्येंद्र जैन ने किया था लॉकडाउन की संभावना को खारिज

 

दो दिन पहले 16 नवंबर को दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा था कि राष्ट्रीय राजधानी में फिर से लॉकडाउन लगाए जाने की कोई संभावना नहीं है क्योंकि शहर में कोरोना वायरस की तीसरी लहर अपना चरम स्तर पूरा कर चुकी है। जैन ने यह भी कहा था कि वायरस को लॉकडाउन से नहीं रोका जा सकता और लोगों को मास्क पहनकर खुद की रक्षा करनी चाहिए। न्‍यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में जैन ने कहा, ‘दिल्‍ली में फिर से लॉकडाउन नहीं लगेगा। मुझे नहीं लगता कि अभी ये प्रभावी कदम साबित होगा। सबका मास्‍क पहनना ज्‍यादा फायदेमंद है।’

​निगम बोध घाट पर आधी जगह कोरोना से मरनेवालों के लिए होगी रिजर्व

 

कोरोना के मामलों में तेजी के बाद दिल्ली में जितने भी श्मशान घाट हैं, वहां इस बीमारी से जान गंवाने वालों को जलाने की व्यवस्था और बेहतर की जा रही है। निगम बोध घाट पर लकड़ी की जितनी चिताएं हैं उनमें से आधी कोरोना से मरनेवालों के लिए रिजर्व की जाएंगी। सीएनजी प्लैटफॉर्म की संख्या डबल की जा रही है। मेयर जयप्रकाश के अनुसार, निगम बोध घाट पर लकड़ी से जलाने के लिए 70 प्लैटफॉर्म हैं। उनमें से आधी कोरोना मृतकों के लिए आरक्षित की जाएंगी, ताकि लोगों को डेडबॉडी जलाने में कोई परेशानी न हो। मई-जून में अंतिम संस्कार करने आने वाले लोगों को व्यवस्था बेहतर न होने से काफी परेशानी हुई थी। मृतकों की संख्या अधिक होने के चलते श्मशान घाटों पर अग्रिम बुकिंग नहीं मिल पाती थी। कोरोना के मामले फिर से अधिक होंगे, तो ऐसी नौबत न आए, इसलिए पहले से जगह आरक्षित कर दी जा रही है। निगम बोध घाट पर तीन सीएनजी प्लैटफॉर्म बने हैं। तीन और सीएनजी प्लैटफॉर्म बनाए जा रहे हैं। अगले एक हफ्ते में नए तीन सीएनजी प्लैटफॉर्म और तैयार हो जाएंगे। कुल मिलाकर निगम बोध घाट पर सीएनजी के छह प्लैटफॉर्म हो जाएंगे।

loading...
loading...

Check Also

कंगाल हुआ पाकिस्तान : कर्जदारों से रहम की भीख मांगे इमरान, नहीं मिली तो खेल खत्म!

पाकिस्तान इन दिनों बहुत सी मुसीबतों से घिरा हुआ है या यूँ कहें की पाकिस्तान ...