Sunday , October 25 2020
Breaking News
Home / क्राइम / दिल्ली में किन्नर गुरु को इस बेरहमी से किसने मारा, क्या कभी पता चलेगा ?

दिल्ली में किन्नर गुरु को इस बेरहमी से किसने मारा, क्या कभी पता चलेगा ?

ई दिल्ली
वह 5 सितंबर की रात थी। जीटीबी एनक्लेव के जनता फ्लैट्स में धांय-धांय गोलियां चलीं। गुरु की चहेती किन्नर एकता जोशी वहीं जमीन पर गिर पड़ीं। स्कूटर सवार दो बदमाश वारदात को अंजाम देने के बाद फरार हो गए। लक्ष्मी नगर से गुरु की जिस कार से उतरते वक्त एकता पर हमला हुआ, उसी से तुरंत मैक्स अस्पताल पटपड़गंज ले जाया गया। डॉक्टरों ने देखते ही एकता को डेड डिक्लेयर कर दिया। वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई। जीटीबी एनक्लेव थाने से लेकर शाहदरा जिले का स्पेशल स्टाफ हत्याकांड का सुराग खोजने में लगे हैं, लेकिन 25 दिन बीतने के बावजूद जांच को दिशा नहीं मिल पा रही है।

जांच से जुड़े अफसर बताते हैं कि मर्डर को जिस तरह से अंजाम दिया गया है, उससे तय है कि भाड़े के हत्यारों का इस्तेमाल किया गया है। निशाना इतना सटीक था कि एकता के अलावा किसी को खरोंच तक नहीं आई। जाहिर है कि अपराधी शार्प शूटर थे। वारदात को रात 8:30 बजे उस समय अंजाम दिया गया, जब एकता अपनी गुरु अनीता जोशी के साथ लक्ष्मी नगर से जनता फ्लैट्स आई थीं।

कार को अनीता का गोद लिया बेटा आशीष जोशी उर्फ आशू चला रहा था। चश्मदीद आशू ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि मकान नंबर 358 से 363 वाले कंपाउंड के गेट पर कार रोकी। गुरु अनीता और एकता कंपाउंड के गेट से भीतर जाने लगे। दो स्कूटर सवार घात लगाए बैठे थे, जिसमें पीछे बैठे बदमाश ने गोलियां चलाईं, जो सिर्फ एकता को लगी।

मेडिकल रिपोर्ट में गोली एकता की छाती, पेट, पेट के निचले हिस्से और दोनों बाजुओं में लगी थीं। पुलिस को मौका-ए-वारदात से तीन खाली खोल और गोली के दो अगले हिस्से (लेड) मिले। बदमाशों के वारदात को अंजाम देने की तरीके से साफ लग रहा है कि उनके निशाने पर सिर्फ एकता थी। पुलिस सूत्र बताते हैं कि किन्नर समाज में उसका रुतबा तेजी से बढ़ा था। इसलिए पहला शक किन्नरों के अलग-अलग समूहों पर ही है। कई से पूछताछ भी की गई है, लेकिन ठोस नहीं मिला।

किन्नरों पर सख्ती बरतने से पुलिस बच रही है, क्योंकि हंगामे की आशंका है। लिहाजा हर कदम फूंक-फूंककर रखा जा रहा है। टेक्निकल सर्विलांस और लोकल इंटेलिजेंस को एक्टिव कर दिया गया है। सीसीटीवी फुटेज से भी आरोपियों की शिनाख्त नहीं हो पा रही है। इसलिए पुलिस की जांच को दिशा नहीं मिल पा रही है और हत्यारे छुट्टे घूम रहे हैं।

loading...
loading...

Check Also

बरेली वाला ‘लव जेहाद‘ : मजिस्ट्रेट से हिंदू छात्रा दोटूक बोली- शौहर बिलाल संग ही जाऊंगी, संविधान देता है प्यार करने का अधिकार

उत्तर प्रदेश के बरेली स्थित थाना किला में तोड़फोड़ के बाद शहर में तनाव की ...