Saturday , October 24 2020
Breaking News
Home / ख़बर / दिल्ली में कोरोना : सच साबित हो रहा है केजरीवाल का दावा, सबूत है 24 घंटों का ये आंकड़ा

दिल्ली में कोरोना : सच साबित हो रहा है केजरीवाल का दावा, सबूत है 24 घंटों का ये आंकड़ा

नई दिल्ली
दिल्ली में कोरोना वायरस के मामलों में उतार-चढ़ाव का सिलसिला जारी है। देश की राजधानी दिल्ली में सोमवार को 1,984 नए कोरोना केस सामने आए हैं। इससे पहले दिल्ली में रविवार को 3,292 शनिवार को 3,372 और शुक्रवार को 3,827 केस आए थे। वहीं पिछले दिनों की तुलना में यहां सक्रि‍य मामलों की संख्या अब 10 फीसदी से भी कम हो गई है। सोमवार को एक दिन में कोरोना वायरस से संक्रमित 37 लोगों की मौत हुई है और 4,052 लोगों ने कोरोना को मात दी है।

बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दावा किया था कि राष्ट्रीय राजधानी में न सिर्फ कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर (Second wave of Covid-19 in Delhi) चल रही है, बल्कि उसका पीक भी गुजर चुका है। ऐसे में घटते मामले उनकी बात को सच साबित करते दिख रहे हैं। हालांकि 2-4 दिनों के आंकड़ों से ही निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता, पर इसे शुभ संकेत जरूर कहा जा सकता है।

अब दिल्ली में कोरोना वायरस के कुल मामले 2,73,098 हो चुके हैं, जिसमें से 2,40,703 लोगों ने कोरोना वायरस से रिकवरी की है। दिल्ली में कोरोना वायरस से मरने वाले मरीजों की कुल संख्या 5272 पहुंच गई है। दिल्ली में अब भी कोरोना वायरस के 27,123 ऐक्टिव केस हैं।

ढाई हजार के करीब पहुंचे कंटेनमेंट जोन
दिल्ली के हेल्थ बुलेटिन के मुताबिक बीते 24 घंटे में दिल्ली में 36,302 टेस्ट किए गए. यहां संक्रमण की दर 5.47 फीसदी (पिछले 24 घण्टे के आंकड़े के आधार पर) है वहीं रिकवरी रेट 88.13 फीसदी है। दिल्ली में अब तक कुल 29,61,056 टेस्ट हुए हैं और यहां फिलहाल 2465 कंटेनमेंट जोन हैं।

बता दें कि बीते 31 अगस्त के बाद से दिल्ली में दर्ज किए गए दैनिक मामलों की सबसे कम संख्या है दरअसल इसके पहले 31 अगस्त को दिल्ली में 1,358 मामले दर्ज किए गए थे। वहीं 1 सितंबर से 16 सितंबर तक 2,000 से 4,473 के बीच केसों को दर्ज किया गया है। 18 अगस्त के बाद से, दिल्ली में फिर से चार आंकड़ों की गिनती में नए मामले आ रहे हैं।

दिल्ली में गंभीर हालत में लाए जा रहे हैं मरीज
विशेषज्ञों के मुताबिक, दिल्ली में बीते कुछ दिनों में कोविड-19 से होने वाली मौतों की संख्या में वृद्धि की वजह दिल्ली के बाहर से गंभीर हालत में मरीजों को लाना और होम क्वारंटीन से मरीज को अस्पताल में शिफ्ट करने के दौरान लगने वाला समय है। दिल्ली के प्रमुख सरकारी और निजी अस्पतालों के डॉक्टर जहां पर कोविड-19 मरीजों का इलाज चल रहा है। उन्होंने रविवार को कहा कि अब अधिकतर उन मरीजों की मौत हो रही है जिनकी उम्र 60 साल से अधिक है और वे अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रस्त हैं।

loading...
loading...

Check Also

बिहार में फ्री कोरोना वैक्सीन देने का वादा की BJP तो अनुराग कश्यप ने शेयर किया ये गाना.. देखें Video

नई दिल्ली:  बीजेपी (BJP) ने गुरुवार को बिहार विधानसभा चुनाव का घोषणापत्र (Manifesto) संकल्प पत्र ...