Wednesday , December 2 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / ‘मुझे नहीं लगता किसी को पटाखे जलाने चाहिए..’, दीवाली पर फिर प्रोपेगेंडा परोसा Tanishq

‘मुझे नहीं लगता किसी को पटाखे जलाने चाहिए..’, दीवाली पर फिर प्रोपेगेंडा परोसा Tanishq

नई दिल्‍ली
दिवाली को लेकर नए ऐड की वजह से ‘तनिष्‍क’ फिर सोशल मीडिया यूजर्स के एक धड़े के निशाने पर है। महीने भर पहले कंपनी दूसरे धर्म में शादी को बढ़ावा देते एक ऐड की वजह से आलोचनाओं का शिकार हुई थी। अब कंपनी ने ‘एकत्‍वम’ नाम से एक नया कलेक्‍शन लॉन्‍च किया है। उसके विज्ञापन में पटाखों पर बैन की वकालत कर कंपनी एक बार फिर विवादों में घिर गई है। इस ऐड में नीना गुप्‍ता, सयानी गुप्‍ता, निमरत कौर, अलाया एफ नजर आ रही हैं और वे दिवाली पर बात कर रही हैं। खासी ट्रोलिंग के बाद, तनिष्‍क ने अपने ट्विटर हैंडल से वह ट्वीट हटा दिया है लेकिन वीडियो एक अन्‍य ट्वीट में मौजूद है।

इस ऐड में ऐसा क्‍या था जो बवाल हुआ?
‘तनिष्‍क’ के नए ऐड में महिलाएं दिवाली पर अपने प्‍लान्‍स की बातें कर रही हैं। बीच में वे पटाखों पर बैन की बात करती हैं और समझाती हैं कि कैसे यह त्‍योहार परिवार के करीब रहने और उनके साथ वक्‍त बिताने के बारे में है।

इसी को लेकर कई यूजर्स ने विज्ञापन के जरिए कंपनी पर लोगों को ‘दिवाली कैसे मनाते हैं’ का ज्ञान देने का आरोप लगाया। एक बड़ी संख्‍या ऐसे यूजर्स की है जो कंपनी पर धार्मिक आधार पर अपने ग्राहकों के ध्रुवीकरण करने की कोशिश का आरेाप लगा रहे हैं।

आज से 6 साल पहले भी तनिष्क हर त्योहार पर अपने प्रचार बनाता था, लेकिन तब फर्क बस ये था कि उनका मकसद प्रोपेगेंडा फैलाना नहीं होता था। साल 2014 के दीवाली ऐड में और आज 2020 के विज्ञापन में फर्क देखिए।

पहले बैकग्राउंड में पटाखों की आवाजें थी। लाइटों से जगमगाते घर थे। आस-पास दीये जल रहे थे और एक बेटा अपनी माँ के लिए अपने बोनस से छोटा सा तोहफा लाया था। इस ऐड में सिर्फ़ भावनाओं के साथ उत्पाद का प्रचार हुआ था। कोई बेवजह का ज्ञान या फिर कोई प्रोपेगेंडा नहीं था। किसी ने इसका कोई विरोध भी नहीं किया था।

वहीं आज, इसी तनिष्क के ऐड से उत्पाद का विज्ञापन गायब है और हिंदुओं के त्योहार को लक्षित करते हुए प्रोपेगेंडा प्रमुखता से दिखाया जा रहा है। ऐसे में लोगों का कहना बस यह है कि तनिष्क या तो हिंदुओं को बेवकूफ समझना अब बंद करे या फिर अपनी ऐड फर्म से कॉन्ट्रैक्ट तोड़े, जिनका मकसद एक बने बनाए ब्रांड इमेज को खराब करना मात्र रह गया है।

loading...
loading...

Check Also

दिसंबर की गाइडलाइन : कंटेनमेंट जोन की माइक्रो लेवल पर निगरानी, शर्तों के साथ इन सेवाओं की इजाजत

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना वायरस ( Coronavirus in india ) लगातार अपने पैर पसार रहा है। यही ...