Monday , March 1 2021
Breaking News
Home / जरा हटके / देश विरोधी और भड़काऊ मैसेज पर फंसा ट्विटर इंडिया, अब सुप्रीम कोर्ट ने भी थमाया नोटिस

देश विरोधी और भड़काऊ मैसेज पर फंसा ट्विटर इंडिया, अब सुप्रीम कोर्ट ने भी थमाया नोटिस

देश विरोधी और भड़काऊ मैसेज पर ट्विटर इंडिया बुरी तरह से घिर चुका है. उसने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का हवाला देकर देश विरोधी और भड़काऊ मैसेज करने वाले पत्रकारों, मीडिया घरानों और समाजसेवियों को अकाउंट ब्लॉक करने से मना कर दिया था. इस पर मोदी सरकार ने उसे नोटिस भेजकर चेतावनी दी थी. अब इस मामले में देश के सुप्रीम कोर्ट ने ट्विटर इंडिया को नोटिस भेजकर जवाब तलब किया है. साथ ही भारत सरकार को भी नोटिस भेजा है. सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा है कि ट्विटर पर इस तरह के मैसेज आने के बाद उनकी तरफ से क्या किया जा सकता है.

बीजेपी नेता विनीत गोयनका ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कहा था कि ट्विटर पर भड़काऊ और देश विरोधी मैसेज पोस्ट किए जाते हैं. ट्विटर पर विज्ञापन भी दिया जाता है और इसके जरिए हेट मैसेज फैलाए जाते हैं. इसको रोकने के लिए फिलहाल कोई दिशा-निर्देश नहीं है, इसलिए अदालत सरकार को तुरंत इस संबंध में दिशा-निर्देश बनाने का आदेश दे, जिससे इस तरह के मैसेज को रोका जा सके. सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए ट्विटर इंडिया और केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है.

इससे पहले ट्विटर के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक में भारत सरकार ने कड़ी नाराजगी व्यक्त की है. भारत सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सचिव के साथ ट्विटर के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक हुई थी, जिसमें सरकार की ओर से ये साफ कर दिया गया था कि ट्विटर को भारत में यहां के नियम कानून का पालन करना ही होगा.

बता दें कि बैठक में मंत्रालय के सचिव ने कहा कि भारत में हम आजादी और आलोचना का सम्मान करते हैं. ये लोकतंत्र का हिस्सा हैं. बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार देश के संविधान में मिला है. लेकिन अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता अबसोल्यूट नहीं होती. सुप्रीम कोर्ट ने भी समय-समय पर इस संबंध में अनेक फैसले दिए हैं.

loading...
loading...

Check Also

राम मंदिर के लिए चंदा अभियान हुआ पूरा, जानिए कितने हजार करोड़ रुपये हुए जमा

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के देश के कोने-कोने से चंदा आया है. लोगों ने ...