Friday , October 30 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / नई कोशिश : इस एक्सप्रेस में लगेंगे LHB डिब्बे, सफर हो जाएगा और आरामदेह

नई कोशिश : इस एक्सप्रेस में लगेंगे LHB डिब्बे, सफर हो जाएगा और आरामदेह

भारतीय रेलवे के वेस्टर्न रेलवे जोन ने ट्रेन नम्बर 12903/12904 मुंबई सेंट्रल से अमृतसर के बीच चलने वाली गोल्डन टैंपल मेल के पारम्परिक रेकों को LHB रेकों में बदलने का ऐलान किया है. इस ट्रेन के सभी डिब्बे एलएचबी हो जाने से यात्रियों का सफर काफी आरामदायक हो जाएगा.

गोल्डन टैंपल एक्सप्रेस ट्रेन फिलहाल 02903/02904 मुंबई सेंट्रल-अमृतसर स्पेशल ट्रेन के रूप में चल रही है. LHB कोच वाली इस ट्रेन में फस्ट एसी, सेकेंड एसी और 3एसी और स्लीपर क्लास के डिब्बे हैं.

एलएचबी कोच पुराने कंवेशनल कोच से काफी अलग होते हैं. ये बेहतर तकनीक से लैस है. पटरियों पर दौड़ते वक्त अंदर बैठे यात्रियों को ट्रेन चलने की आवाज बहुत धीमी सुनाई देती है. साथ ही इस डिब्बों में पुराने कोच की तुलना में जगह अधिक होने से यात्रा आरामदायक होती है.

LHB कोच स्टेनलेस स्टील और एल्यूमीनियम से बने होते हैं. जिससे कि यह कोच पहले की तुलना में हल्काहोता हैं. सीबीसी कपलिंग तकनीक के कारण हादसे में दुर्घटना की संभावना कम होती है. दुर्घटना होने के पर भी बोगियां एक-दूसरे पर नहीं चढ़ती है. पारंपरिक कोच एक्सीडेंट के दौरान एक दूसरे पर चढ़ जाते हैं जिससे बड़ी संख्या में यात्रियों को चोट आती है.

भारतीय रेलवे की कपूरथला स्थित रेल कोच फैक्ट्री ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है. RCF Kapurthala ने जुलाई 2020 में 151 LHB कोच बनाए हैं. ये पिछले साल की इसी अवधि July 2020 की तुलना में लगभग तीन गुना है. इस कोच फैक्ट्री का ये अब का सबसे अधिक उत्पादन है.

रेलवे ने यात्रियों को सुरक्षित एवं आरामदेह सफर उपलब्ध कराने के लिए पारंपरिक आईसीएफ डिब्बों का निर्माण 2018-19 से पूरी तरह बंद करने का निर्णय लिया था. भारतीय रेलवे ने 2002 में जर्मनी की कंपनी Linke Hofmann Busch से LHB कोच का Transfer Of Technology (TOT) के लिए समझौता किया था. तब से अब तक पहली बार रेलवे ने इतनी संख्या में डिब्बे बनाए हैं.

loading...
loading...

Check Also

नीतीश के ‘7 निश्चय’ से कन्नी क्यों काट रहे मोदी, पर्दे के पीछे क्या है BJP की रणनीति?

पटना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को दूसरी बार बिहार विधानसभा चुनाव में प्रचार को पहुंचे। ...