Thursday , November 26 2020
Breaking News
Home / ख़बर / नीतीश के ‘7 निश्चय’ से कन्नी क्यों काट रहे मोदी, पर्दे के पीछे क्या है BJP की रणनीति?

नीतीश के ‘7 निश्चय’ से कन्नी क्यों काट रहे मोदी, पर्दे के पीछे क्या है BJP की रणनीति?

पटना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को दूसरी बार बिहार विधानसभा चुनाव में प्रचार को पहुंचे। पीएम मोदी ने दरभंगा में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए मिथिलांचल के लोगों से वोट की अपील की। बिहार चुनाव में पीएम के दूसरी बार दौरे के बाद भी जेडीयू और नीतीश कुमार को लेकर कन्फ्यूजन बना हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत में ही क्लियर किया कि एनडीए की सरकार बनी तो नीतीश कुमार ही मुख्यमंत्री बनेंगे। लेकिन इसके बाद भी भाषण में जिन बातों को जिक्र उन्होंने किया उसके बाद कुछ सवाल बने हुए ही हैं। आइए उनपर एक नजर डालते हैं।

पीएम मोदी 7 निश्चय से बनाई दूरी
‘7 निश्चय’ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का ड्रीम है। सीएम नीतीश लगातार अपनी रैलियों में 7 निश्चय का जिक्र करते हुए देखे जा सकते हैं। 7 निश्चय की सफलता का दावा करते हुए उन्होंने 7 निश्चय 2 लॉन्च किया है। हालांकि एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव मिलकर लगातार आरोप लगा रहे हैं कि 7 निश्चय में काफी घोटाला हुआ है। पीएम मोदी भी अपने भाषण में 7 निश्चय का एक बार भी नाम नहीं लिया। पीएम मोदी ने बिहार के विकास मॉडल के रूप में आत्मनिर्भर बिहार का जिक्र किया। आत्मनिर्भर बिहार का वादा बीजेपी के घोषणा पत्र में की गई है। यानी पीएम मोदी नीतीश के 7 निश्चय से दूरी बनाए हुए हैं।

मांझी भी 7 निश्चय पर उठा चुके हैं सवा
एनडीए में शामिल हम के प्रमुख जीतन राम मांझी ने नवभारत टाइम्स.कॉम के साथ बातचीत में कहा था कि 7 निश्चय के कार्यान्वयन में गड़बड़ी हुई है। हालांकि उन्होंने इसे जन भागीदारी से ठीक करने की उम्मीद भी जताई है।

पहले चरण की वोटिंग के बाद भी NDA के घटक दलों को लेकर कन्फ्यूजन बरकरार
दरभंगा और मुजफ्फरपुर की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई बार जोर देकर बताते दिखे कि एनडीए में बीजेपी, जेडीयू, हम और वीआईपी शामिल है। इसपर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। क्या पहले चरण की वोटिंग के बाद भी बिहार में ये कन्फ्यूजन बना हुआ है कि एनडीए में कौन-कौन से दल हैं, जिसे लेकर पीएम स्पष्टीकरण दे रहे हैं।

दअरसल, एलजेपी एनडीए का हिस्सा नहीं है, लेकिन वह लगातार दावा कर रही है कि 10 नवंबर के बाद वह बीजेपी के साथ मिलकर सरकार चलाएगी। एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान खुद को पीएम मोदी का हनुमान बता रहे हैं। इन तमाम बातों के चलते बिहार चुनाव में कन्फ्यूजन बरकरार है कि आखिर एनडीए में कौन-कौन दल शामिल हैं। विपक्षी दल लगातार आरोप लगा रहे हैं कि बीजेपी खुद को आगे करने के लिए नीतीश कुमार के साथ छल कर रही है। एनडीए में एकजुटता नहीं है। हालांकि गृहमंत्री इस पर स्थिति स्पष्ट कर चुके हैं, लेकिन पीएम मोदी की खामोशी और चिराग पासवान के खिलाफ एक शब्द भी नहीं कहना सवाल खड़े कर रहे हैं।

इससे पहले बीजेपी ने बिहार के सभी अखबारों में चुनाव के लिए विज्ञापन दिया था, जिसमें भी नीतीश कुमार की तस्वीर के बजाय पीएम मोदी की फोटो लगाई गई थी, जिसके बाद गृहमंत्री अमित शाह ने सफाई दी थी। लेकिन अब पीएम मोदी की तरफ से भी केवल आत्मनिर्भर बिहार का जिक्र करना इस सस्पेंस पर सवाल बनाए हुए है।

loading...
loading...

Tags

Check Also

Video : माराडोना को अगर नहीं जानते तो उनके ये करिश्माई गोल देखें, कसम से.. फैन बन जाएंगे!

नई दिल्ली दुनिया के महानतम फुटबॉल खिलाड़ियों में शुमार डिएगो माराडोना का बुधवार को निधन हो गया। ...