Sunday , November 29 2020
Breaking News
Home / खेल / नीलामी में करोड़ों खर्च कर देती हैं फ्रेंचाइजीस, उनको कैसे होती है IPL से कमाई ?

नीलामी में करोड़ों खर्च कर देती हैं फ्रेंचाइजीस, उनको कैसे होती है IPL से कमाई ?

इंडियन प्रीमियर लीग दुनिया में सबसे बड़ी T20 क्रिकेट लीग है. इसने दुनिया भर के क्रिकेट फैन्स को काफी मनोरंजित किया हैं.  इसके अलावा, इसे सबसे अमीर क्रिकेट लीग और दुनिया में तीसरा सबसे महंगा खेल आयोजन माना जाता है.

लीग की शुरुआत से पहले हर साल, फ्रेंचाइजी मालिक खिलाड़ियों की सेवाओं को खरीदने के लिए नीलामी में एक बड़ी राशि का भुगतान करते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ये फ्रेंचाइजी आईपीएल के जरिए पैसा कैसे कमाती हैं? इन आईपीएल फ्रेंचाइजी का राजस्व मॉडल क्या है?

इस लेख में, हम आपको प्राथमिक तरीके बताते हैं जिसके जरिए फ्रेंचाइजी आईपीएल में पैसा कमाती हैं:-


1) मीडिया राइट

Four takeaways from IPL media rights auction: Star's gamble, Sony's one-dimensional strategy

मीडिया राइट कथित तौर पर आईपीएल फ्रेंचाइजी का सबसे बड़ा राजस्व स्रोत हैं. फ्रेंचाइजी वास्तव में, मीडिया राइट के माध्यम से अपने राजस्व का 60-70 प्रतिशत कमाती हैं. वर्तमान में, ग्लोबल मीडिया राइट स्टार इंडिया के पास हैं. उन्होंने 2018 में पांच साल का कॉन्ट्रैक्ट साइन किया था, जिसके लिए 16, 374.50 करोड़ का भुगतान किया गया था. BCCI IPL में खेलने वाली सभी टीमों को इसका साझा करने से पहले प्रसारकों से राजस्व एकत्र करता है.

2) टाइटल स्पॉन्सरशिप

IPL 2020 : Dream11 is the new title sponsor for IPL 2020 @ 250cr

आईपीएल फ्रेंचाइजी भी टाइटल स्पॉन्सरशिप राइट के माध्यम से राजस्व एकत्र करती हैं. चीनी स्मार्टफोन निर्माता वीवो ने 2018 और 2022 के बीच 2199 करोड़ रुपये की विजेता बोली के साथ आईपीएल टाइटल स्पॉन्सरशिप राइट ख़रीदे थे. हालांकि, भारत और चीन के बीच राजनीतिक तनाव के कारण, मोबाइल कंपनी आईपीएल से 2020 संस्करण के लिए टाइटल स्पॉन्सरशिप से हट गयी.

ड्रीम 11 वर्तमान में आईपीएल 2020 का आधिकारिक टाइटल स्पॉन्सर है. 222 करोड़ की बोली के साथ, फैंटसी  ऐप ने मौजूदा संस्करण के लिए टाइटल स्पॉन्सरशिप राइट को हासिल किया. बीसीसीआई इसकी कुछ राशि रखता है और शेष राशि को टीमों के बीच समान रूप से वितरित करता है.

3) टिकट बिक्री

How to buy IPL Tickets? Where to buy IPL tickets from? | Sports News,The Indian Express

टिकट बिक्री सभी फ्रेंचाइजी के लिए आय का एक और स्रोत है. टिकटों की बिक्री से उत्पन्न राजस्व का एक बड़ा हिस्सा फ्रेंचाइजी के मालिकों की जेब में जाता है. प्रत्येक टीम घरेलू मैदान पर 7 मैच खेलती है और घरेलू मैचों के टिकटों का प्राइस टीम के मालिकों द्वारा ही तय किया जाता है. BCCI और प्रायोजकों को टिकटों का एक छोटा हिस्सा रखने के लिए मिलता है, जबकि बाकी टीम के वॉलेट में जाता है.

4) पुरस्कार राशि

आईपीएल की पांच सबसे बदकिस्मत टीमें | CricketCountry.com हिन्दी

हर संस्करण, इंडियन प्रीमियर लीग सभी फ्रेंचाइजी के बीच पुरस्कार राशि को विभाजित करता है. पिछले साल, लीग में भाग लेने वाली आठ टीमों को 50 करोड़ रुपये की राशि दी गई थी. आईपीएल खिताब के विजेता को पुरस्कार राशि का एक बड़ा हिस्सा प्राप्त होता है, जबकि शेष राशि अन्य टीमों के बीच समान रूप से बांटा होती है.

5) ब्रिक्री

Baseline Ventures partner to create IPL 2019 merchandise for Chennai Super  Kings

मर्चेंडाइजिंग के माध्यम से, फ्रेंचाइजी राजस्व की एक महत्वपूर्ण राशि कमाते हैं. इसमें जर्सी प्रतिकृतियां, स्पोर्ट्स स्मारिका, और अन्य लोगों के खेल के उपकरण शामिल हैं.

loading...
loading...

Check Also

T20I में नया धमाका, 18 गेंदों में 88 रन के साथ ‘सबसे तेज शतक’ लगा!

न्यूजीलैंड के ग्लेन फिलिप्स ने वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज के दूसरे मैच में नया ...