Thursday , November 26 2020
Breaking News
Home / ख़बर / नेपाल : चीनी ‘दोस्त’ भी न बचा सकेंगी ओली की कुर्सी, टूट की कगार पर कम्‍युनिस्‍ट पार्टी

नेपाल : चीनी ‘दोस्त’ भी न बचा सकेंगी ओली की कुर्सी, टूट की कगार पर कम्‍युनिस्‍ट पार्टी

काठमांडू
चीन की राजदूत हाओ यांकी के तमाम प्रयासों के बाद भी नेपाल की सत्‍तारूढ़ कम्‍युनिस्‍ट पार्टी पिछले काफी समय से चल रहे मतभेदों के बाद अब अंतत: टूट की कगार पर पहुंचती नजर आ रही है। पीएम केपी शर्मा ओली के विरोधी धड़े के नेता पुष्‍प कमल दहल ‘प्रचंड’ के करीबियों का कहना है कि प्रधानमंत्री ने कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के विभाजन का मन बना ल‍िया है। कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के कुछ नेताओं का कहना है ओली के इस रुख में बदलाव RAW चीफ की नेपाल यात्रा के बाद आया है।

प्रचंड के सहयोगियों ने कहा कि ओली ने हालिया मुलाकात के दौरान कहा कि पार्टी का विभाजन हो जाना चाहिए। काठमांडू पोस्‍ट की रिपोर्ट के मुताबिक प्रचंड ने 11 दिनों के बाद ओली से शनिवार को मुलाकात की थी। इसके बाद दहल ने रविवार को सचिवालय के 9 में से 5 सदस्‍यों के साथ अपने आवास पर बैठक की। पार्टी के प्रवक्‍ता और सचिवालय के सदस्‍य नारायण काजी श्रेष्‍ठ ने कहा कि इस बैठक में दहल ने बताया कि ओली ने उनसे कहा है कि वह सचिवालय की बैठक नहीं बुलाएंगे।

पार्टी कमिटी के फैसलों को भी नहीं मानेंगे ओली
श्रेष्‍ठ ने बताया कि यही नहीं ओली ने यह भी कहा है कि वह पार्टी कमिटी के फैसलों को भी नहीं मानेंगे। उन्‍होंने कहा, ‘दहल के मुताबिक, ओली ने कहा कि यदि किसी को कोई दिक्‍कत है तो इससे अच्‍छा है कि पार्टी का विभाजन कर दिया जाए।’ प्रचंड की इस बैठक में श्रेष्‍ठ के अलावा, ओली कैबिनेट में गृहमंत्री राम बहादुर थापा, पार्टी के उपाध्‍यक्ष बामदेव गौतम और वरिष्‍ठ नेता झाला नाथ खनल तथा माधव कुमार नेपाल मौजूद थे।

इससे पहले रविवार को नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव और वित्त मंत्रालय का कार्यभार संभाल रहे बिष्णु प्रसाद पौडेल कहा था कि उनकी पार्टी अपने अस्तित्व के गंभीर खतरे का सामना कर रही है। उन्होंने कहा, ‘इस समय, नेपाल की कम्युनिस्ट पार्टी के एकीकृत और अविभाज्य अस्तित्व के सामने एक गंभीर संकट उत्पन्न हो गया है। मैं सभी नेताओं, कैडरों और सदस्य साथियों से अनुरोध करता हूं कि वे पार्टी एकता के संरक्षण के लिए योगदान दें।’

RAW के चीफ मुलाकात के बाद चीजें फिर से बदलनी शुरू’
उधर, नेपाल कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के कई नेताओं का कहना है कि जब इस पार्टी का जन्‍म हुआ था, तभी से यह संघर्षों का सामना कर रही थी और यह नतीजा आना तय था। बता दें कि नेपाल कम्‍युनिस्‍ट पार्टी की स्‍थापना ओली के सीपीएन-यूएमएल और दहल की सीपीएन (MC) के बीच विलय से हुआ था। ये दोनों ही अलग-अलग विचारधारा से आते थे, इसलिए इस पार्टी के भविष्‍य को लेकर सवाल उठने लगे थे।

नेपाल कम्‍युनिस्‍ट पार्टी की स्‍थापना के डेढ़ साल बाद ही उसमें मतभेद उभरने लगे थे। राजनीतिक विश्‍लेषकों का कहना है कि कई मौकों पर ओली का घमंड और दहल की महत्‍वाकांक्षा के बीच टकराव हो चुका है। इससे पहले 11 सितंबर को दोनों ही गुटों के बीच समझौता हुआ था। इसके बाद प्रचंड और ओली गुटों ने आपस में शांति बनाए रखी हुई थी। पार्टी के कुछ नेताओं का कहना है कि भारत की खुफिया एजेंसी RAW के चीफ से 21 अक्‍टूबर को मुलाकात के बाद चीजें फिर से बदलनी शुरू हो गई हैं।

रॉ चीफ की यात्रा के बाद नेपाल में चीनी समीकरण बदलते नजर आ रहे
एनसीपी के संसदीय दल के 172 सदस्‍यों में से 75 से 80 सांसद ओली की ओर हैं। दहल के साथ 50 और माधव कुमार नेपाल के साथ 40 से 45 सांसद हैं। पार्टी के सूत्रों का कहना है कि यह आंकड़ा बहुत तेजी से बदल सकता है। इस बीच ओली तथा प्रचंड दोनों ही सांसदों को अपने पाले में लाने में जुट गए हैं। इससे पहले नेपाल में चीन की राजदूत हाओ यांकी ने ओली और प्रचंड से मुलाकात करके उन्‍हें साथ बनाए रखने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी थी। हालांकि रॉ चीफ की यात्रा के बाद अब नेपाल में चीन के लिए समीकरण बदलते नजर आ रहे हैं।

loading...
loading...

Check Also

बच्चों के नाम पर जरूर खोलें ₹150 से ये सरकारी खाता, पढ़ाई के लिए 19 लाख रुपए मिलेंगे

बच्चों की पढ़ाई अच्छे से हो और भविष्य में वो एक काबिल इंसान बन सके ...