Friday , March 5 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / पंचायती राज विभाग ने प्रशासन से मांगा पंचायतों का वर्गवार डाटा, जानिए कब शुरु होगी चुनाव प्रक्रिया

पंचायती राज विभाग ने प्रशासन से मांगा पंचायतों का वर्गवार डाटा, जानिए कब शुरु होगी चुनाव प्रक्रिया

मैनपुरी – जनपद में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की प्रक्रिया जल्द ही शुरु हो सकती है। पंचायती राज विभाग द्वारा जिला प्रशासन से ग्राम पंचायतों का वर्गवार डाटा मांगा गया है। शासन से आदेश मिलने के बाद प्रशासन की तरफ से डाटा उपलव्ध कराने की तैयारी पूर्ण कराई जा रही है। जैसे ही पंचायतों का वर्गवार डाटा की प्रक्रिया पूर्ण हो जाएगी। प्रशासन द्वारा उस डाटा की सूची निदेशालय को भेज दी जाएगी।

ज्ञात हो कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए उच्च न्यायालय हाईकोर्ट के आदेश के बाद अब जल्द ही चुनाव प्रक्रिया शुरू होने का अनुमान लगाया जा रहा है। इसी बीच निदेशक पंचायती राज विभाग किंजल सिंह ने डीपीआरओ को एक पत्र भेजकर जिला के नौ ब्लॉकों के क्षेत्र में स्थित कुल 539 ग्राम पंचायतों की वर्गवार आबादी का विवरण मांगा है। शासन की ओर से उपलब्ध कराए गए प्रारूप में ब्लॉकवार ग्राम पंचायतों के नाम उनमें रहने वाली अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग और सामान्य वर्ग की आबादी की जानकारी देनी होगी। यह जानकारी वर्ष 2011 में हुई जनगणना के अनुसार मांगी गई है। इसके साथ ही इन ग्राम पंचायतों में वर्ष 1995 से लेकर 2015 तक के चुनावों में आरक्षण की भी जानकारी दर्ज करनी होगी। आदेश आने के बाद पंचायत राज विभाग पूरा डाटा एकत्र करने में लग गया गया है। आदेश मिलने के बाद दो दिन से कर्मचारियो द्वारा डाटा एकत्र किया जा रहा है। उम्मीद जताई जा रही है। कि डाटा जल्द ही पंचायत राज विभाग में भेज दिया जाएगा।

शासन से आरक्षण आने की चर्चा हुई तेज
ग्राम पंचायतों में वर्गवार आबादी का डाटा मांगे जाने के बाद आरक्षण निर्धारण को लेकर चर्चाएं तेज हो गई हैं। जानकारों का मानना है कि निदेशालय इस बार सीधे ही आबादी के आधार पर ग्राम पंचायतों का आरक्षण निर्धारित कर सकता है। इसी के चलते वर्गवार आबादी की जानकारी मांगी गई है। हालांकि अब तक इस बारे में कुछ भी स्पष्ट नहीं है।

loading...
loading...

Check Also

ड्राइविंग लाइसेंस, RC के लिए RTO जाने की जरूरत नहीं, अब घर बैठे ऑनलाइन मिलेंगी ये सुविधाएं

नई दिल्ली: ड्राइविंग लाइसेंस और इससे जुड़ी कई सेवाओं को कॉन्टैक्टलेस बना दिया गया है ...