Wednesday , October 21 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / पाकिस्तान से आती फंडिंग, फर्जी दस्तावेज बनाती वकील फातिमा, नतीजा- कानपुर बना ‘लव जिहाद’ कैपिटल !

पाकिस्तान से आती फंडिंग, फर्जी दस्तावेज बनाती वकील फातिमा, नतीजा- कानपुर बना ‘लव जिहाद’ कैपिटल !

उत्तर प्रदेश के कानपुर में लगातार आ रहे लव जिहाद के मामलों ने पूरे चौंका दिया है. यहां कट्टरपंथी मुस्लिम हिन्दू लड़कियों को प्यार के झांसे में फंसाकर शादी कर रहे हैं और बाद में धर्मपरिवर्तन कर जिन्दगी नरक बना रहे हैं. इसके लिए बाकायदा अभियान चलाया जा रहा है. मामलों की जांच में लगी पुलिस की विशेष टीम (SIT) को कई पक्के सबूत हाथ लगे हैं. इस तरह के मामले कानपुर मे ज्यादा आए हैं. कानपुर पुलिस ने आठ सदस्यीय विशेष जांच दल गठन किया है. वहीं अब जांचदल ने कथित रूप से फर्जी दस्तावेज तैयार करने वाली एक महिला वकील फातिमा का पता लगाया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस को आशंका है कि एडवोकेट फातिमा ने कानपुर और आसपास के अन्य इलाकों से सामने आए कई लव जिहाद मामलों में आरोपितों की मदद की है. पुलिस उसके फ़ोन रिकॉर्ड को खंगाला रहीं है. पुलिस इस महिला एडवोकेट के जरिए लव जिहाद के मास्टरमाइंड तक पहुंचना चाहती है जो कि संगठित अपराध को अंजाम दे रहे हैं.

गौरतलब है कि यह खुलासा कानपुर के लव जिहाद मामले के बाद सामने आया है. जहां नौबस्ता मछलियां के रहने वाले 32 साल के मुख्तार अहमद ने हिंदू लड़की से राहुल बन कर दोस्ती की थी. 22 वर्षीय लड़की आवास विकास में रहने वाली है. साथ ही वह पॉलिटेक्निक की छात्रा थी. दोस्ती के बाद मुख्तार ने लड़की को झूठे दावे करते हुए अपने प्यार में फंसा लिया और उसे धर्म के प्रति बरगलाने लगा. अहमद ने लड़की का ब्रेनवाश किया और बिना किसी की जानकारी के 17 अप्रैल 2019 को कोर्ट मैरिज कर ली. जिसके बाद यह बात सबसे छिपाते हुए दोनों अपने-अपने घर रहने लगे.

वहीं शादी के बाद लड़की को हाल ही में पता चला कि जिस मुख्तार के प्यार में आकर उसने अपने परिजनों को बिना बताए शादी की थी वह पहले से ही शादीशुदा है और उसके बच्चें भी है. इतना ही नहीं मुख्तार की पहली पत्नी भी दूसरे समुदाय की ही निकली.

पीड़िता के पिता ने घटना की जानकारी पुलिस को देते हुए आरोपित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया था. पुलिस की पूछताछ में जब युवक ने अपना असली नाम मुख्तार अहमद बताया तो स्वजनों के होश उड़ गए थे. जब लड़की से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि मुख्तार ने उससे राहुल बनकर दोस्ती की थी. उसने इस तरह से मुझे अपने काबू में कर लिया था कि वह जो कहता मैं करती चली जाती. उसने फिर परिजनों से अपने मरियम फातिमा बनने को लेकर भी खुलासा किया.

वहीं पुलिस को लव जिहाद के इस घिनौने खेल के पीछे पाकिस्तानी संगठन का पता चला है. यह संगठन मुस्लिम युवकों को हिंदू लड़कियों का ब्रेनवाश और धर्मांतरण करने के लिए फंडिंग करता था. साथ ही इस पूरे मामले की साजिश के पीछे एक मस्जिद का भी नाम सामने आया है. पुलिस मुखबिरों से मामले से जुड़ी और जानकारी पता लगाने की कोशिश कर रहीं है.

loading...
loading...

Check Also

Take This: समंदर में युद्ध की धमकी दिया चीन, जवाब में अरब सागर से ‘ब्रह्मास्त्र’ चलाया भारत

लद्दाख में भारत ने चीन को बुरी तरह से पीट दिया है. बौखलाया ड्रैगन युद्ध ...