Saturday , September 19 2020
Breaking News
Home / ख़बर / पाक के सियासी मौलाना का इशारा- इमरान के हाथ से फिसल गया है PoK !

पाक के सियासी मौलाना का इशारा- इमरान के हाथ से फिसल गया है PoK !

आतंकी देश पाकिस्तान इन दिनों बदहाली से गुजर रहा है. मगर पाकिस्तान का वजीर ए आजम इमरान खान दुनियाभर में मुंह की खाने के बाद भी जम्मू कश्मीर पर राग अलपना नहीं छोड़ रहा है. जम्मू कश्मीर का ख्याव दिखाकर जिहादियों की फौज तैयार करके इमरान खान ने खूब खून खरावा कराने की कोशिश की लेकिन हुआ है क्या. इमरान खान छाती पीटकर रह गया और जम्मू कश्मीर में अब भारत का तिरंगा शान से फहरा रहा है. अब यहां ना तो पाक परस्ती अलगाववादियों की नफरती खेती रही है और ना ही अब नौजवानों के हाथ में पत्थर. अब यहां आतंकवाद पर नहीं, विकास पर बात होती है.

ये सब देखकर अब पाकिस्तान की जनता इमरान खान पर अपना गुस्सा जाहिर कर रही है क्यों कि इमरान नए पाकिस्‍तान का सपना दिखाकर सत्‍ता में आए थे. लेकिन उनके सारे वायदे महज वायदे ही बनकर रह गए हैं. ऐसे में अब पाकिस्तान की जनता को PoK हाथ से निकलने का डर सता रहा है. पाकिस्तान में अपनी बड़ी धाक रखने वाले धर्मगुरु से नेता बने मौलाना फजलुर रहमान ने कश्मीर पर अप्रभावी नीतियों के लिए प्रधानमंत्री इमरान खान पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि पहले हम सोचते थे कि भारत से श्रीनगर कैसे लें, अब सोचते हैं कि मुजफ्फराबाद कैसे बचाएं.

यानी कि अब पाकिस्तान की आवाम को भी आईने में साफ दिखने लगा है कि PoK कभी भी छिन सकता है. उसे बचाने की अब ना तो इमरान खान में हिम्मत बची है और ना ही तोंद निकले हुए बाजवा की. वैसे भी संसद से लेकर कई मौकों पर भारत के बड़े मंत्री PoK पर कई ऐसे बयान दे चुके हैं जो इमरान खान और बाजवा की बैचेनी जरूर बढ़ाने वाले हैं.

तो वहीं कट्टरपंथी मौलाना फजलुर रहमान ने दक्षिणी खैबर पख्तूनख्वा में मंगलवार को बन्नू शहर में धरना-प्रदर्शन के दौरान विपक्ष के नेताओं को चोर बुलाने के लिए प्रधानमंत्री इमरान खान पर निशाना साधा है. रहमान ने दावा किया कि खान के नेतृत्व से चल रही पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ सरकार के दिन लद गए हैं. इनके पास महज कुछ ही दिन रह गए हैं.

मौलाना फजलुर रहमान पाकिस्तान का वो नेता है जिसके बारे में कहा जाता है कि पाकिस्तान में सरकार किसी की भी बने, उसमें उसकी भूमिका जरूर होती है. ये कट्टरपंथी मौलाना इमरान खान को सत्ता से बेदखल करने की पिछले साल बड़ी तैयारी कर चुका है. रहमान ने 27 अक्टूबर को कराची से अपने प्रदर्शन की शुरुआत की थी और हजारों समर्थकों के लाव-लश्कर के साथ 31 अक्तूबर को इस्लामाबाद पहुंचा था. सोचिए जिसकी पाकिस्तान में सरकार बनवाने का एक बड़ा हाथ रहता हो अगर वो PoK को लेकर डर जाहिर कर दे. तो समझ लीजिए कि अब जल्द ही PoK हमारा होने वाला है.

Check Also

शादी से पहले ऐसी मांग किया दूल्हा, भरी महफिल में दुल्हन हो गई शर्मिंदा

शादी हर लड़की का सपना होता है, हर लड़की उस सपने के साथ अपनी जिंदगी ...