Friday , November 27 2020
Breaking News
Home / क्राइम / फोन पर लोन की जगह मिल रहा सिर्फ धोखा, ऐसे खुद को बचाएं

फोन पर लोन की जगह मिल रहा सिर्फ धोखा, ऐसे खुद को बचाएं

कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से बड़ी संख्या में लोगों का कारोबार प्रभावित हुआ। करीब 3 महीने के संपूर्ण लॉकडाउन से लाखों लोग बेरोजगार हुए। बिक्री घटने से दुकानों के शटर गिरने लगे। हालात सामान्य हुए तो बंद हुए कारोबार को शुरू करने के लिए पूंजी की जरूरत पड़ी। बेरोजगार बैठे लोग भी बैंकों की तरफ देखने लगे। इसी का फायदा ठगों ने उठाया। आइए जानते हैं कैसे ये ठग लोगों को लगाते हैं चूना और क्या है इनसे बचने का तरीका।

कोरोना काल में सरकारी योजनाओं के बहाने हो रही ठगी

मुद्रा लोन समेत दूसरी सरकारी योजनाओं के बहाने ठगी की दुकान चलाने लगे। 5 फीसदी ब्याज पर 15 मिनट में लोन दिलाने का झांसा देने लगे। कई जरूरतमंद इनके जाल में फंसे। हाल ही में मुद्रा लोन के नाम पर ठगी में कुछ बदमाशों को गिरफ्तार किया गया था। जांच में पता चला कि ठग जरूरतमंदों को कॉल कर संपर्क करते थे, फिर वाट्सऐप और फोन पर ही पूरी बातचीत होती। 5 फीसदी ब्याज पर लोन की बात सुनते ही लोग ठगों के जाल में फंस जाते थे। रुपये पाने के लिए अपने दस्तावेज वॉट्सऐप पर ही दे देते थे। इसके बाद ठग बड़े वित्तीय संस्थानों के फर्जी लेटरहेड पर लोन अप्रूवल के लेटर भेज देते थे।

प्रोसेसिंग फीस भी लेते हैं ठग

 

अप्रूवल का लेटर भेजने के बाद प्रोसेसिंग फीस के बहाने 30 हजार से 60 हजार रुपये तक की वसूली की जाती है। जैसे ही उन्हें पैसे मिलते हैं, ठगों के नंबर बंद हो जाते हैं। चूंकि रकम होती है, ऐसे में फौरी तौर पर थानों से भी पीड़ितों को मदद नहीं पाती है। थानों और साइबर सेल के कई बार चक्कर लगाने के बाद पीडित एसएसपी दफ्तर पहुंचते हैं, तब जाकर उनकी रिपोर्ट दर्ज की जाती है। इतनी दौड़भाग में 15 दिन से 1 महीने तक का समय बीत जाता है। इस दौरान ठग वॉट्सऐप पर मिले दस्तावेजों के साथ दूसरी जगह भी ठगी कर लेता है।

15 मिनट में वॉट्सऐप पर नहीं मिलता लोन

 

सीओ फर्स्ट और साइबर सेल के मॉनिटरिंग अफसर अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि आसानी से घर बैठे लोन की सुविधा चाहने वाले इस ठगी के शिकार होते हैं। थोड़ी सी सतर्कता से ऐसी ठगी को रोका जा सकता है। अगर आपको भी किसी ठग का फोन आए जो आपको बेहद कम दर पर वॉट्सऐप पर 15 मिनट में लोन देने की बात करे तो सतर्क हो जाएं। सबसे अहम बात ये है कि किसी भी हालत में लोन के लिए किसी तरह का कोई भुगतान ना करें।

 

ऐसे रहें सतर्क

 

ध्यान रखें, किसी भी लोन की प्रक्रिया कभी फोन पर नहीं होतीी है। फिजिकल वेरिफिकेशन जरूरी होता है।
15 मिनट में कभी भी लोन नहीं मिलता है। अप्रूववल की कॉपी वॉट्सऐप पर कोई बैंक या वित्तीय संस्था नहीं भेजती।
सभी तरह के लोन के लिए एक रेफेरेंस आईडी मिलती है। अगर कोई यह आईडी न दे तो समझ लीजिए ठगी हो रही है। उस आईडी के आधार पर संबंधित बैंक या वित्तीय संस्था से वेरिफाई कर सकते हैं।
किसी भी अनजान को अपने दस्तावेज न दें। जिस काम के लिए दस्तावेज दें, उस काम के बारे में लिखने के बाद हस्ताक्षर करें और तारीख डालना ना भूलें।

loading...
loading...

Check Also

बेटी का भविष्य उज्ज्वल बनाती है ये सरकारी स्कीम, इसमें जरूर खुलवाएं खाता

अगर आप बच्ची के माता-पिता हैं तो जाहिर है आपको उसके फ्यूचर को लेकर चिंता ...