Thursday , October 1 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / बिकरू कांड: विकास दुबे के कैशियर पर कसा शिकंजा, तीनों भाइयों पर इनाम घोषित, एक लाख वाले ने किया सरेंडर

बिकरू कांड: विकास दुबे के कैशियर पर कसा शिकंजा, तीनों भाइयों पर इनाम घोषित, एक लाख वाले ने किया सरेंडर

कानपुर शूटआउट के मुख्य आरोपी विकास दुबे को असलहा व कारतूस सप्लाई करने के आरोप में गिरफ्तार जयकांत बाजपेयी के तीन भाइयों पर कानपुर पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित किया है। हाल ही में पुलिस ने आपराधिक इतिहास खंगालने के बाद जय बाजपेयी के तीनों भाइयों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की थी। गिरफ्तारी से बचने के लिए तीनों फरार चल रहे हैं। बता दें कि, जय बाजपेयी विकास दुबे का खजांची था। विकास की फरारी में भी जय ने मदद की थी।

ऐसे हाथ आया था जयकांत बाजपेयी

शूटआउट के बाद विकास दुबे के साथियों की तलाश कर रही कानपुर पुलिस को काकादेव में तीन लग्जरी कारें सड़क पर लावारिस खड़ी मिली थीं। इन कारों का मालिक कारोबारी जय बाजपेई था। जिसके बाद पुलिस ने जय बाजपेई को हिरासत में लिया था। पूछताछ के बाद खुलासा हुआ था कि, गैंगस्टर विकास दुबे और जय के बीच कारोबारी रिश्ते के साथ उसने असलहा व कारतूस भी सप्लाई की थी। दो जुलाई को वह बिकरु गांव में था। जिसके बाद पुलिस ने जय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।

जय बाजपेई की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने उसके तीन भाई शोभित, रजय और अजय कांत बाजपेई के आपराधिक इतिहास को खंगाला गया तो कई मामलों में वांछित मिले। इसके बाद उन पर गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई करते हुए गिरफ्तारी के आदेश दिए गए। जिसके बाद से नजीराबाद पुलिस जय बाजपेई के भाइयों की तलाश में ब्रह्मनगर, बजरिया व हर्षनगर स्थित तीनों मकानों के अलावा करीबियों के यहां दबिश दे रही थी। लेकिन सफलता नहीं मिली।

क्या बोले एसएसपी?

एसएसपी/डीआईजी कानपुर डॉ. प्रितिंदर सिंह ने बताया कि थाना नजीराबाद पर पंजीकृत मु.अ.सं.219/20 धारा-3(1) गैंगेस्टर एक्ट में नामजद एवं वांछित अभियुक्त शोभित बाजपेयी, रजय कान्त बाजपेयी, अजय कान्त बाजपेयी की गिरफ्तारी के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है। फरार तीनों आरोपियों पर 25-25 हजार रुपए का पुरस्कार घोषित किया गया है।

एक और आरोपी ने सरेंडर किया

कानपुर शूटआउट में एक लाख के इनामी धर्मेंद्र दुबे ने मंगलवार को स्पेशल जज दस्यु प्रभावित न्यायालय में सरेंडर कर दिया। सरेंडर की भनक न तो लोकल पुलिस को लगी न ही यूपी एसटीएफ को। जब पता चला तो पुलिस न्यायालय परिसर पहुंच गई। इस पर अधिवक्ताओं व पुलिस के बीच नोकझोंक भी हुई। जज ने धर्मेंद्र उर्फ धीरू को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

अमर दुबे की पत्नी की उम्र 16 साल 10 माह निकली
एनकाउंटर में मारे गए विकास दुबे के खास साथी अमर दुबे की पत्नी की उम्र को लेकर विवाद जारी है। मामला डकैती न्यायालय में है। अधिवक्ता शिवाकांत दीक्षित ने इस मामले में न्यायालय को दस्तावेज सौंपे थे। जिसे किशोर न्याय बोर्ड को ट्रांसफर किया गया था। पता चला है कि अमर दुबे की पत्नी खुशी दुबे की उम्र 16 साल 10 माह है।

दो जुलाई की रात को हुआ था बिकरु कांड

2 और 3 जुलाई की रात पुलिस की एक टीम विकास दुबे के घर दबिश देने गई थी, जिसकी जानकारी भनक विकास दुबे को पहले ही पुलिस के द्वारा लग गई थी। इसके बाद विकास दूबे ने पुलिस वालों पर हमला कर दिया, जिसमें उसके कई साथी मौजूद थे। इस हमले से पुलिस के 8 जवान शहीद हो गए थे। हत्याकांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे को उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया था। उत्तर प्रदेश आते समय कानपुर के पास पुलिस की गाड़ी पलट गई। इसी बीच भागने के दौरान एनकाउंटर में मारा गया।

loading...
loading...

Check Also

हाथरस कांड पर बोले सपा नेता- रात में अंतिम संस्कार करते हो, आप हिंदू नहीं हो योगी जी..

हाथरस की बेटी का गैंगरेप और कत्ल किया जाता है। योगी की पुलिस और हाथरस ...