Monday , August 10 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / बिना पैरों और अधूरे हाथों संग मासूम का जन्म, आखिर क्यों ऐसा जुल्म की कुदरत ?

बिना पैरों और अधूरे हाथों संग मासूम का जन्म, आखिर क्यों ऐसा जुल्म की कुदरत ?

भोपाल. एमपी में विदिशा जिले की त्योंदा तहसील मुख्यालय पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मंगलवार सुबह एक विचित्र बच्चे का जन्म हुआ। इस बच्चे के दोनों पैर नहीं हैं और दोनों हाथ भी अधूरे हैं। घटेरा निवासी मोहरबाई अहिरवार ने इस विचित्र बच्चे को जन्म दिया है, बच्चा अभी स्वस्थ बताया जा रहा है।

बच्चे की दादी जयंतीबाई और पिता राकेश अहिरवार का कहना है कि हमारा परिवार मजदूरी से गुजरबसर करता है। पहले से एक पुत्र और पुत्री है, अब यह बालक बिना पैर और अधूरे हाथ लिए जन्मा है। उन्होंने कहा कि ये ईश्वर की देन है, इसमें किसी का क्या वश है। जिस तरह दोनों बच्चों का पहले से पालन पोषण कर रहे हैं, वैसे इसकी भी देखरेख करेंगे

वहीं त्योंदा अस्पताल के डॉ विपिन सिंह ने बताया कि प्रसूता का उपचार त्योंदा में ही चल रहा था, उसे जरूरी दवाएं दी गईं थीं, मरीज के पास संसाधनों की कमी के चलते सोनाग्राफी नहीं हो सकी थी, जिससे जन्मजात विकृति का पहले से पता नहीं चल सका। यह प्रसव भी आठवें महीने में हो गया है।

डॉ ने बताया कि कंजेनाइटल एनोमली यानी जन्मजात विकृति के रूप में बच्चे का जन्म हुआ है। यह जेनेटिकली डिफेक्ट कहा जाता है।

Check Also

कोरोना LIVE : एमपी की राजधानी से आखिरकार आई वो खबर, सब कर रहे थे जिसकी दुआ

भोपाल. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना की रफ्तार कुछ कम हुई है। शनिवार को ...