Saturday , December 5 2020
Breaking News
Home / ख़बर / बिहार की नई सरकार में अगड़ों की बढ़ेगी हिस्सेदारी, 13 मंत्री नए होंगे, पुराने 13 नाम ही पक्के

बिहार की नई सरकार में अगड़ों की बढ़ेगी हिस्सेदारी, 13 मंत्री नए होंगे, पुराने 13 नाम ही पक्के

नीतीश कुमार के साथ सोमवार को 8 पुराने मंत्रियों के शपथ लेने की संभावना है। इसके साथ ही नई सरकार में जदयू के 7 और भाजपा के 6 पुराने मंत्रियों के अलावा 10 नए मंत्रियों का रहना भी तय है, भले ही वह सोमवार को शपथ लें या 20 नवंबर के पहले संभावित अगले विस्तार में। नीतीश की पिछली सरकार के मंत्री अनुपात के हिसाब से जदयू को 10 और भाजपा को 16-17 मंत्री देना चाहिए, लेकिन 125 विधायकों के बीच 36 विभागों को बांटने पर 3.47 विधायक पर एक मंत्री पद देने की स्थिति है और उस हिसाब से भाजपा 21 और जदयू 13 मंत्री का दावा कर सकता है। किसी भी स्थिति में कम सीटों के कारण जदयू को नुकसान है, इसलिए फिलहाल संख्या पर गतिरोध है। फिर भी जो नाम आगे चल रहे हैं, हम उन्हें सामने ला रहे हैं-

जदयू से 3: सुनील-शालिनी तय, संजय-लेसी में एक की संभावना
भारतीय पुलिस सेवा से रिटायर होने के बाद सीधे जदयू में इंट्री करने वाले सुनील कुमार पिछड़ी जाति से हैं और नई सरकार में इन्हें मंत्रालय मिलना तय है। शालिनी मिश्रा को उनके पारिवारिक प्रभाव को लेकर मौका मिलने की संभावना है। जदयू के प्रवक्ता और चुनाव में लगातार मेहनत कर रहे संजय सिंह का नाम भी इस बार मंत्री सूची में है, हालांकि अभी उनका MLC भी नहीं होना उन्हें परेशान कर सकता है। उन्हीं की जाति से लेसी सिंह ऐसे में बाजी मार सकती हैं। लेसी पहले भी नीतीश सरकार में मंत्री रह चुकी हैं। जदयू के मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, शैलेश कुमार और रामसेवक सिंह की हार से खाली हुई जगह पर इनकी जाति के किसी विधायक को मौका मिलना भी पक्का है।

भाजपा में 8: तारकिशोर, रेणु, नीतीश, सम्राट, रजनीश, हेम्ब्रम तय, नितिन-मयूख और श्रेयसी-अमरेंद्र में कोई एक
भारतीय जनता पार्टी को इस बार मंत्री पद ज्यादा मिलना है और नाम भी इस बार बेहतर हैं। भाजपा विधानमंडल दल के नेता बने कटिहार विधायक तार किशोर प्रसाद और विधायक दल की उप नेता बनीं रेणु देवी का नाम पक्का है। जदयू कोटे से नीतीश सरकार में मंत्री का अनुभव रखने वाले नीतीश मिश्रा का नाम तय माना जा रहा है। चुनाव से लेकर भाजपा के मंचों पर समन्वय में आगे दिखे सम्राट चौधरी को मंत्री पद मिलना पक्का है। इसके अलावा पहली बार जीतकर आईं शूटिंग चैंपियन श्रेयसी सिंह के निशाने पर भी है मंत्री पद, हालांकि अनुभवी अमरेंद्र प्रताप सिंह को मौका मिलने की स्थिति में उनका नाम अटक सकता है। मामला नितिन नवीन और संजय मयूख को लेकर फंस रहा है। भूमिहार कोटे से इस बार भाजपा बेगूसराय के रजनीश कुमार को मौका दे सकती है। इसके अलावा आदिवासी कोटे निकी हेम्ब्रम को भी भाजपा मंत्री बना सकती है।

VIP-HAM के 1-1: जीतनराम के बेटे और सन ऑफ मल्लाह का नाम पक्का
पूर्व मुख्यमंत्री और HAM के अध्यक्ष जीतन राम मांझी उप मुख्यमंत्री बनने की संभावना नहीं देख किसी और उम्मीद में बैठते हुए फिलहाल अपने बेटे संतोष मांझी का नाम मंत्री पद के लिए आगे बढ़ाने जा रहे हैं। दूसरी तरफ, अपनी सीट गंवाने के बावजूद चार विधायकों वाले VIP के अध्यक्ष मुकेश सहनी MLC कोटा लेकर मंत्री पद खुद हासिल करें तो आश्चर्य नहीं होगा। दोनों ही नेता दो-दो मंत्री पद के लिए प्रयासरत हैं, लेकिन इसकी संभावना कम नजर आ रही है।

पुराने चेहरों में 13 नाम ही पक्के- 

जदयू- श्रवण कुमार, अशोक चौधरी, संजय झा, नीरज कुमार, बीमा भारती, मदन सहनी, खुर्शीद फिरोज

भाजपा- डॉ. प्रेम कुमार, नंद किशोर यादव, मंगल पांडेय, विजय कुमार सिन्हा, राणा रनधीर सिंह, कृष्ण कुमार ऋषि

loading...
loading...

Check Also

लड़की ने नहाने के दौरान की एक छोटी सी गलती, चली गई आंख की रोशनी

आयरलैंड के डोनाबेट शहर की रहने वाली एक महिला को कॉन्टेक्ट लेंस पहनकर नहाना काफी ...