Friday , February 26 2021
Breaking News
Home / अपराध / बिहार के मोतिहारी में ‘हाथरस’ जैसा कांड! नाबालिग से रेप के बाद हत्या फिर जलाया शव

बिहार के मोतिहारी में ‘हाथरस’ जैसा कांड! नाबालिग से रेप के बाद हत्या फिर जलाया शव

मोतिहारी
बिहार के मोतिहारी में एक नाबालिग बच्ची के साथ हैवानियत के बाद उसकी हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। इतना ही नहीं आरोपियों ने पीड़िता का शव भी जला दिया। इस दिल दहला देने वाले मामले में जब पीड़ित परिवार ने थाने में शिकायत दर्ज करानी चाही तो स्थानीय पुलिस ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। पीड़ित पक्ष की बार-बार गुहार के बाद भी केस दर्ज नहीं हुआ। इस बीच पीड़ित पिता की अपील का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसके बाद पुलिस के आला अधिकारियों के निर्देश पर कार्रवाई शुरू हुई। मामले में लापरवाही बरतने की वजह से संबंधित थाने के थानाध्यक्ष को सस्पेंड कर दिया गया है।

आरजेडी ने घटना को बताया बिहार का ‘हाथरस कांड’
इस चौंकाने वाले मामले को लेकर बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी आरजेडी ने बिहार सरकार और पुलिस प्रशासन पर निशाना साधा है। पार्टी नेता तेजस्वी यादव ने इस घटना को बिहार का ‘हाथरस’ कांड बताया है। उन्होंने अपने ट्वीट कहा, ‘बिहार में हाथरस कांड की तरह एक 12 वर्षीय बच्ची की निर्मम हत्या कर उसकी लाश रातों-रात जला दी गई। पिता का कहना है बच्ची के साथ गैंगरेप हुआ। Audio में सुनिए पुलिस अधिकारी कैसे अपराधियों को लाश जलाने की तरकीबें सुझा रहे है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी नाकामयाबियों के सिकंदर बन गए हैं।’

21 जनवरी को हुई वारदात, पीड़ित पिता के वायरल वीडियो पर हुई कार्रवाई
मोतिहारी में 12 साल की नाबालिग बच्ची से दरिंदगी, हत्या और शव जलाने का सनसनीखेज मामला 15 दिन पहले का है। बताया जा रहा कि पीड़ित परिवार नेपाल का रहने वाला है मोतिहारी में एक किराये के मकान में रहकर मेहनत-मजदूर करके घर चलाता है। पीड़ित परिवार के मुताबिक, 21 जनवरी को जब बच्ची घर में अकेली थी तभी उसके साथ दरिंदगी हुई। आरोप मकान मालिक के परिवार पर लगा है। इस बीच बच्ची को जब अस्पताल ले जाया गया तो वहां इलाज से पहले ही उसकी मौत हो गई।

मामले में लापरवाही को लेकर थानाध्यक्ष सस्पेंड, पुलिस मामले की जांच में जुटी
पीड़ित पिता के मुताबिक, आरोपियों ने इसके बाद बच्ची का शव जलाने का दबाव बनाया। यही नहीं शव को देर रात केरोसिन डालकर जला दिया। साथ ही मामले की शिकायत नहीं करने का दबाव भी पीड़ित परिवार पर बनाया। इस मामले में पीड़ित पिता का आरोप है कि जब वह स्थानीय थाने में शिकायत के लिए पहुंचे तो उनकी नहीं सुनी गई। हालांकि, अपनी बच्ची को इंसाफ दिलाने की गुहार का वीडियो वायरल होने और स्थानीय पुलिस की लापरवाही का पता जब वरिष्ठ अधिकारियों को हुआ तो एसपी नवीन चंद्र झा ने मोर्चा संभाला। उन्होंने तुरंत कार्रवाई करते हुए थानाध्यक्ष को लापरवाही के लिए सस्पेंड कर दिया।

loading...
loading...

Check Also

ये चीजें करती हैं हड्डियों को खोखला, पांचवी तो लड़कियों के लिए है ज़हर जैसी

हड्ड‍ियां शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा है, जो शरीर और मांसपेशि‍यों का आधार हैं। बेहतर स्वास्थ्य ...