Sunday , November 29 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / बिहार में बीजेपी का मास्टरस्ट्रोक : सुशील मोदी की विदाई, एक नहीं 2-2 होंगे उपमुख्यमंत्री

बिहार में बीजेपी का मास्टरस्ट्रोक : सुशील मोदी की विदाई, एक नहीं 2-2 होंगे उपमुख्यमंत्री

पटना :  बिहार में डेप्युटी सीएम की रेस से सुशील मोदी का नाम तकरीबन बाहर हो गया है। उनके ट्वीट भी इसी तरफ इशारा कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, बिहार में इस बार एक नहीं बल्कि दो-दो डेप्युटी सीएम हो सकते हैं। दोनों बीजेपी से होंगे जो बिहार एनडीए में सबसे बड़ी पार्टी है। तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी के नाम की चर्चा चल रही है। प्रसाद को बीजेपी के विधानमंडल दल का नेता चुना गया है जबकि रेणु देवी को उपनेता। माना जा रहा बीजेपी बिहार में युवा नेताओं को आगे बढ़ाने के लिए यह कदम उठा रही है।

तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी का नाम चर्चा में
इससे पहले सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर तारकिशोर प्रसाद को बीजेपी विधानमंडल दल का नेता और रेणु देवी को उप नेता चुने जाने पर ट्वीट कर बधाई दी। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा कि उन्हें जो भी जिम्मेदारी मिलेगी, उसका वह निर्वहन करेंगे। हालांकि, उनके ट्वीट में एक टीस भी दिखी जब उन्होंने लिखा कि कार्यकर्ता का पद उनसे कोई नहीं छीन सकता।

सुशील मोदी का ट्वीट- कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता
बिहार की नई सरकार में उपमुख्यमंत्री कौन होगा, इस पर सस्पेंस कायम है। इस बीच सुशील मोदी ने एक ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा, ‘भाजपा और संघ परिवार ने मुझे 40 वर्षों के राजनीतिक जीवन में इतना दिया की शायद किसी दूसरे को नहीं मिला होगा।आगे भी जो ज़िम्मेवारी मिलेगी उसका निर्वहन करूंगा। कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता।’

नीतीश कुमार 7वीं बार बनेंगे सीएम
नीतीश कुमार सोमवार को शाम 4 बजे के करीब 7वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे हैं। रविवार को उन्हें एनडीए के विधायक दल का नेता चुना गया जिसके बाद दोपहर करीब 2 बजे उन्होंने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया। बिहार चुनाव में एनडीए ने 243 में से 125 सीटों पर जीत हासिल की है। जेडीयू को 43 और बीजेपी को 74 सीटें मिली हैं। एनडीए की बाकी दो सहयोगियों हम और वीआईपी को 4-4 सीटें मिली हैं। आरजेडी 75 सीट जीतकर सिंगल लार्जेस्ट पार्टी बनी है।

loading...
loading...

Check Also

‘मीडिया पर मत करें भरोसा, अगर ये किसान चरमपंथी होते तो इनके हाथ में बर्तन नहीं बंदूक होती’

सत्ताधारी दल के समर्थक और मीडिया के तमाम लोग किसानों को भले ही खालिस्तानी समर्थक ...