Sunday , November 29 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / भाजपा नेता का मर्डर प्लान की पत्नी, निकल चुके थे सुपारी किलर, जान ऐसे बची

भाजपा नेता का मर्डर प्लान की पत्नी, निकल चुके थे सुपारी किलर, जान ऐसे बची

बलिया. यूपी के बलिया में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक भाजपा नेता की पत्नी ने ही अपने पति की हत्या की सुपारी दे दी। लखनऊ में एक प्राइवेट स्कूल के सामने उनकी हत्या करने की तैयारी भी थी। हत्या की पूरी योजना बन गई थी और हत्यारे भी निकल चुके थे, लेकिन उसके पहले ही मामला खुल गया। यह संयोग ही रहा कि भाजपा नेता की जान बच गई और सुपारी किलर पुलिस के हत्थे चढ़ गए। बाल-बाल बचे बलिया के सुखापुरा निवासी ठाकुर अनूप सिंह किसान मोर्चा के राष्ट्रीय प्रवक्ता व भारत रक्षा मंच के राष्ट्रीय मंत्री हैं और वह 2016 में भारतीय जनता पार्टी के एमएलसी प्रत्याशी रह चुके हैं।

ठाकुर अनूप सिंह का अपनी पत्नी सुल्तानपुर निवासी विभा सिंह से कुछ पारिवारिक विवाद है। इसको लेकर बलिया के फेमिली कोर्ट में मामला भी चल रहा है। इन्हीं सबको लेकर उनकी पत्नी ने अनूप की हत्या करने का प्लान बनाया और इसके लिये कांट्रैक्ट किलर हायर कर उन्हें पति के नाम की सुपारी दे दी। पर पत्नी का प्लान लीक हो गया और सुपारी लेने के बाद उसी में से एक बदमाश ने अनूप से सम्पर्क कर पूरे मामले की जानकारी दे दी।

अनूप को जब अपनी हत्या की साजिश का पता चला तो उन्होंने तुरंत ही पुलिस को अवगत कराया और पत्नी की सुपारी लेने वालों से बातचीत का मिला ऑडियो भी पुलिस को दे दिया। इसके बाद पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए मंगलवार को असेगा पेट्रोल पंप के पास से सहतवार के वार्ड नंबर 4 निवासी छोटे सिंह ‘सतीश सिंह’ और मनियर थानान्तर्गत मुड़ियारी निवासी अख्तर अंसारी को गिरफ्तार कर लिया।

लखनऊ में होने वाली थी हत्या

भाजपा नेता ठाकुर अनूप सिंह की पत्नी ने उनकी हत्या की सुपारी देकर पूरा प्लान बना लिया था। सुपारी किलर्स को पेशगी भी दे दी गई थी और बाकी रकम काम होने के बाद दी जानी थी। अनूप को लखनऊ में एक प्राइवेट स्कूल के सामने मारना तय किया था। अनूप का काम तमाम करने के लिये जाल बिछा दिया गया था। पर इसकी भनक अनूप को लगी तो उन्होंने अपना प्लान बदल दिया और अपनी जगह पर पैसा देकर किसी दूसरे आदमी को भेज दिया, जिससे साजिश नाकाम हो गई।

loading...
loading...

Check Also

‘मीडिया पर मत करें भरोसा, अगर ये किसान चरमपंथी होते तो इनके हाथ में बर्तन नहीं बंदूक होती’

सत्ताधारी दल के समर्थक और मीडिया के तमाम लोग किसानों को भले ही खालिस्तानी समर्थक ...