Saturday , September 19 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / भारत की आजादी से जुड़ी वो अनकही बातें, जो आप नहीं जानते

भारत की आजादी से जुड़ी वो अनकही बातें, जो आप नहीं जानते

नई दिल्ली। पूरा भारत अपने 74वें स्वतंत्रता दिवस के जश्न में डूबा है। आज से 7 दशक पहले 15 अगस्त 1947 को भारत गुलामी की जंजीरों से आजाद हुआ था। ये दिन प्रतीक है त्याग का, भावनाओं का, एकता का , प्यार का और बलिदान का। ये दिन बताता है कि धर्म और जाति के लिए लड़ने वालों, समझो इस बात को कि ये आजादी बहुत सारे कष्टों और त्याग के बाद मिली है, इसलिए इसे आपस में लड़कर जाया ना करो। आज भी आजादी से जुड़ी ऐसी बहुत सारी बातें हैं, जिनके बारे में लोगों को शायद मालूम ही नहीं है।

भारत से पहले पाकिस्तान का जन्म
भारत के अंतिम वायसराय लाउड माउंडवेंटन ही वो व्यक्ति थे जिन्होंने भारत और पाकिस्तान की आदाजी का दिन चुना। जब माउंडवेंटन भारत आए थे तो उन्हें बारत और पाकिस्तान अविभाजित मिला था। ऐसे में किसी भी विवाद को जन्म देने से बचने के लिए वायसराय ने 14 अगस्त को पाक को आजादी दी और लाहौर को उसकी राजधानी घोषित कर दी।

भारत की आज़ादी के लिए 15 अगस्‍त का ही दिन क्‍यों?
यह लार्ड माउंटबेटन ही थे जिन्‍होंने निजी तौर पर भारत की स्‍वतंत्रता के लिए 15 अगस्‍त का दिन तय किया क्‍योंकि इस दिन को वे अपने कार्यकाल के लिए बेहद सौभाग्‍यशाली मानते थे। इसके पीछे खास वजह थी। असल में दूसरे विश्‍व युद्ध के दौरान 1945 में 15 अगस्‍त के ही दिन जापान की सेना ने उनकी अगुवाई में ब्रिटेन के सामने आत्‍मसमर्पण कर दिया था। माउंटबेटन उस समय संबद्ध सेनाओं के कमांडर थे।

‘ट्रिस्ट विद डेस्टनी’
जवाहर लाल नेहरू ने ऐतिहासिक भाषण ‘ट्रिस्ट विद डेस्टनी’ 14 अगस्त की मध्यरात्रि को वायसराय लॉज से दिया था। तब नेहरू प्रधानमंत्री नहीं बने थे। इस भाषण को पूरी दुनिया ने सुना, लेकिन गांधी उस दिन नौ बजे सोने चले गए थे।

बिना राष्ट्रगान के जश्न
भारत 15 अगस्त को आज़ाद जरूर हो गया, लेकिन उसका अपना कोई राष्ट्र गान नहीं था। रवींद्रनाथ टैगोर जन-गण-मन 1911 में ही लिख चुके थे, लेकिन यह राष्ट्रगान 1950 में ही बन पाया।

गांधी जी नहीं हुए शामिल
महात्मा गांधी आज़ादी के दिन दिल्ली से हज़ारों किलोमीटर दूर बंगाल नोआखली में थे, जहां वे हिंदुओं और मुसलमानों के बीच सांप्रदायिक हिंसा को रोकने के लिए अनशन पर थे।

लाल किले पर नहीं पहराया गया था झंडा
हर स्वतंत्रता दिवस पर भारतीय प्रधानमंत्री लालकिले से झंडा फहराते हैं। लेकिन 15 अगस्त, 1947 को ऐसा नहीं हुआ था। नेहरू ने 16 अगस्त, 1947 को लालकिले से झंडा फहराया था।

तीन देशों की आजादी
15 अगस्त भारत के अलावा तीन अन्य देशों का भी स्वतंत्रता दिवस है। दक्षिण कोरिया जापान से 15 अगस्त, 1945 को आज़ाद हुआ। ब्रिटेन से बहरीन 15 अगस्त, 1971 को और फ्रांस से कांगो 15 अगस्त, 1960 को आज़ाद हुआ।

Check Also

शादी से पहले ऐसी मांग किया दूल्हा, भरी महफिल में दुल्हन हो गई शर्मिंदा

शादी हर लड़की का सपना होता है, हर लड़की उस सपने के साथ अपनी जिंदगी ...