Monday , August 10 2020
Breaking News
Home / ख़बर / महिलाओं से अधिक पुरुषों को शिकार बनाता है कोरोना, रिसर्च में पता चली वजह !

महिलाओं से अधिक पुरुषों को शिकार बनाता है कोरोना, रिसर्च में पता चली वजह !

नई दिल्ली। कोरोना महामारी ( Coronavirus Epidemic ) से इन दिनों पूरी दुनिया जूझ रही है और लगातार इसका प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। अब तक कोरोना वायरस महामारी के कारण 6 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि लगभग डेढ़ करोड़ लोग संक्रमित हो चुके हैं। हालांकि इस महामारी से बचने के लिए लगातार शोधकार्य ( Research ) किए जा रहे हैं और वैक्सीन बनाने की दिशा में काम किया जा रहा है। उम्मीद है कि इस साल के अंत तक कोरोना वैक्सीन ( Corona Vaccine ) बन जाएगा।

इन सबके बीच एक ऐसी रिपोर्ट सामने आई है, जो चौंकाने वाली है। एक शोध में ये बताया गया है कि कोरोना वायरस महामारी से महिलाओं से अधिक पुरुष शिकार ( Coronavirus Infects Men More Than Women ) हो रहे हैं। जब ये बात सामने आई कि कोरोना महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों को अधिक संक्रमित करता है तो इसको लेकर अब वैज्ञानिक अन्य कई तरह के शोधकार्य में जुट गए हैं।

इससे पहले भी कोरोना संक्रमण को लेकर कई तरह की थ्योरी ( Coronavirus Research ) सामने आ चुकी है, लेकिन अब जो नई रिसर्च सामने आई है उसमें कई तरह के चौंकाने वाले परिणाम दिखाई दिए हैं। 4 कोरोना मरीजों पर शोध किया गया, जिसमें से एक के अंदर बेहद रेयर जेनेटिक समस्या ( Rare Genetic Problem ) की वजह से इम्यून सिस्टम ( Immune System ) कमजोर पड़ने के संकेत मिले हैं।

इस स्टडी में नीदरलैंड ( Netherlands ) के अलग-अलग परिवारों के 21 से 32 साल के दो-दो भाइयों को शामिल किया गया था। इनमें से चारों का स्वास्थ्य पहले बिलकुल ठीक था, लेकिन 23 मार्च से 25 अप्रैल के बीच सभी को कोरोना की वजह से ICU में भर्ती कराया गया। इसमें से 29 साल के एक व्यक्ति की मौत भी हो गई।

इस तरह से प्रभाव डालता है कोरोना

शोधकर्ताओं ने जब इन कोरोना मरीजों और उनके परिवारों का जेनेटिक विश्लेषण ( Genetic Analysis ) किया तो उसमें कई तरह की खामियां पाई गई। इन खामियों के कारण इनके शरीर में सेल्स इंटरफेरन्स नाम के अणु ( Cells Interference Molecules ) बना रहे थे। यही अणु व्यक्ति के इम्यून सिस्टम को कमजोर कर देता है और फिर वह कोरोना से नहीं लड़ पाता है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि इस तरह की जेनेटिक समस्या बहुत रेयर होती है। हालांकि स्टडी में ये भी कहा गया है कि दूसरे लोगों में अन्य तरह की दूसरी जेनेटिक समस्या मौजूद हो सकती है और इसके कारण वह कोरोना से अधिक बीमार हो सकते हैं। स्टडी की शुरुआती रिपोर्ट मेडिकल जर्नल JAMA में प्रकाशित की गई है।

महिलाओं को इस तरह से मिलता है लाभ

शोध में ये पाया गया कि एक्स क्रोमोसोम ( X Chromosome ) में कोरोना का प्रभाव ज्यादा होता है। चूंकि पुरुषों में एक एक्स क्रोमोसोम होता है, वहीं महिलाओं में दो होते हैं। अब यदि एक्स क्रोमोसोम में किसी तरह की कोई समस्या आती है, तो दूसरे एक्स क्रोमोसोम से ठीक हो सकते हैं। ऐसे में महिलाओं के तुलना में पुरुषों को ज्यादा नुकसान उठाना पड़ सकता है।

Check Also

India China Face off: सरहद पर ‘प्रोजेक्ट चीता’ शुरु होगा, आकाश में अचूक ‘ब्रह्मास्त्र’ उड़ेगा

नई दिल्ली भारत और चीन (India-China Faceoff) के बीच सीमा पर तनाव बना हुआ है। ...