Tuesday , October 20 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / मेरा एक विधवा से 2 साल से रिश्ता है, लेकिन मैंने उसे उसके देवर के साथ देख लिया, बताएं कि मैं क्या करूं ?

मेरा एक विधवा से 2 साल से रिश्ता है, लेकिन मैंने उसे उसके देवर के साथ देख लिया, बताएं कि मैं क्या करूं ?

सवाल
मैं एक औरत से 2 साल से प्यार कर रहा हूं. उस का पति नहीं है. एक दिन मैं ने उसे उस के देवर के साथ देख लिया, तब से मुझे उस से नफरत हो गई है. वह कहती है कि मैं उसे न छोड़ूं. आप बताएं कि मैं क्या करूं?

जवाब
आप को शादीशुदा औरत के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए. आप को उस से प्यार नहीं है, आप बस उस का फायदा उठा रहे थे. उस का देवर भी मौके का फायदा उठा रहा है. बेहतर होगा कि आप उस से दूर रहें.

ये भी पढ़ें…

मर्दानगी से है प्यार तो इन 5 आदतों से करें इनकार

शारीरिक सेहत ही किसी पुरुष के स्वस्थ होने की निशानी नहीं होती. एक पुरुष का सेक्स की दृष्टि से भी स्वस्थ होना महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि स्त्री-पुरुष के बीच खुशहाल संबंधों में सेक्स एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

अक्सर हम विवाह के टूटने या फिर एक दूसरे में दिलचस्पी कम होने की बात पढ़ते सुनते रहते हैं. हम आपको बता रहे हैं वो 5 आदतें जिससे पुरुषों को दूर रहना चाहिए ताकि उनकी मर्दानगी कायम रह सके.

शराब के सेक्स इफेक्ट्स

हमारे समाज में अब लगभग हर खुशी का जश्न शराब के साथ मनाने का चलन हो गया है. कभी कभार शराब पीने से यूं तो कोई खास नुकसान नहीं होता लेकिन अगर इसकी लत लग जाए तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं. उन पुरुषों को हिदायत है कि अगर इसकी लत लग गई है तो इसे फौरन छोड़ दें क्योंकि शराब शुक्राणुओं की सबसे बड़ी दुश्मन है.

सिगरेट से कैंसर ही नहीं नामर्दगी भी होती है

सिगरेट पीना भी हमारे समाज में फैशन बन गया है, बावजूद इसके कि ये साबित हो चुका है कि सिगरेट पीने से कैंसर होता है. लेकिन आपको बता दें कि सिगरेट फेफड़ों को तो खोखला करती ही है साथ ही आपके स्पर्म की संख्या को भी घटा देती है.

चिंता चिता है

चिंता या तनाव एक ऐसे स्थिति है जो इंसान को धीरे-धीरे खाकर आखिरकार मौत के मुंह में ले जाती है. कहा भी जाता है कि चिंता चिता है. हमारी पुरुषों को सलाह है कि वे चिंता को छोड़ दें क्योंकि इससे उनकी प्रजनन क्षमता पर बहुत बुरा असर पड़ता है.

कुछ मीठा हो जाए

भारतीय समाज में खुशी के हर छोटे बड़े मौकों पर लोग मीठा खिलाकर खुशी का इजहार करते हैं. लेकिन आपको आगाह कर दें कि मीठा जरूर हो जाए लेकिन बस कुछ ही क्योंकि ज्यादा मीठा भी पुरुषों की मर्दानगी के लिए खतरे की घंटी साबित हो सकता है.

वजन पर नजर

कहावत है माल-ए-मुफ़्त, दिल-ए- बेरहम. मतलब मुफ़्त का खाने को मिला तो टूट पड़े बिना सेहत की परवाह किए. हमारी आखिरी सलाह है कि अपने वजन पर नजर रखें वर्ना लग सकती है आपकी मर्दानगी पर ही नजर.

 

loading...
loading...

Check Also

नीतीश नहीं झेल पाएंगे भाजपा का “साहनी” अस्त्र, यही करेंगे CM की कुर्सी से दूर

बिहार चुनाव की बात हो और उसमें जातीय गणित की राजनीति न हो… ये असंभव ...