Monday , January 18 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी पंचायत चुनाव का ये शेड्यूल तय की योगी सरकार, अब बाकी है सिर्फ औपचारिक ऐलान!

यूपी पंचायत चुनाव का ये शेड्यूल तय की योगी सरकार, अब बाकी है सिर्फ औपचारिक ऐलान!

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार ने यूपी बोर्ड परीक्षा से पहले ही गांव की सरकार यानी पंचायत के चुनाव कराने की तैयारी शुरू कर दी है। माना जा रहा है कि सरकार ग्राम पंचायत के चुनाव कराने के बाद मार्च के अंत में ही बोर्ड की परीक्षा का आयोजन करेगी। इसको लेकर 14 जनवरी को प्रदेश के डिप्टी सीएम तथा माध्यमिक व उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने एक बैठक भी करेंगे। उसमें बोर्ड की परीक्षा की तारीख तय की जाएगी।

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव का यूपी बोर्ड की परीक्षा से पहले होना तय माना जा रहा है। प्रदेश में यूपी बोर्ड परीक्षा पंचायत चुनाव के बाद होंगी। पंचायत चुनाव के कारण ही अभी तक बोर्ड परीक्षा की तिथि तय नहीं की गई है। इस बार प्रदेश में ग्राम प्रधान के साथ ही ग्राम पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य, जिला पंचायत सदस्य और जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव एक साथ होंगे। आरक्षण का फार्मूला जल्द तय हो जाएगा। वार्डों के आरक्षण की प्रक्रिया फरवरी तक पूर्ण कर ली जाएगी।

पंचायती राज मंत्री भूपेंद्र सिंह चौधरी ने बताया कि 15 फरवरी तक नोटिफिकेशन आ जाएगा। 15 मार्च से 30 मार्च के बीच त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव संपन्न होगा। उन्होंने कहा कि ग्राम सभाओं के पुनर्गठन का कार्य पूरा हो चुका है। प्रदेश में सभी वार्डों का परिसीमन जारी है। चार जिले मुरादाबाद, गोंडा तथा संभल के साथ गौतमबुद्धनगर का पूर्ण परिसीमन हो रहा है। बाकी जिलों का आंशिक परिसीमन का कार्य जारी है।

पंचायती राज मंत्री ने कहा कि 14 जनवरी तक परिसीमन का कार्य पूरा हो जाएगा। इसके बाद आरक्षण का काम पूरा किया जाएगा। प्रदेश में अभी तक ग्राम पंचायत सीटों पर आरक्षण निर्धारण जनपद मुख्यालय स्तर पर होता था, मगर इस बार ग्राम पंचायतों में ग्राम सभा, बीडीसी, प्रधान व जिला पंचायत सदस्यों की सीटों पर आरक्षण की ऑनलाइन व्यवस्था लखनऊ से तय होगी।

पंचायतों में आरक्षण लागू करने के लिए राजस्व ग्रामों की जनसंख्या का आकलन किया जाएगा। पांच साल पहले चुनाव के समय ग्राम पंचायत की क्या स्थिति थी। वर्तमान में क्या स्थिति है, उसी आधार पर तय होगा कि उस ग्राम पंचायत की सीट किस प्रत्याशी के लिए आरक्षित होगी।

अब प्रदेश के डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा 14 जनवरी को माध्यमिक शिक्षा विभाग के आला अधिकारियों के साथ बैठक में बोर्ड परीक्षा की तारीख तय करेंगे। प्रदेश में हर चुनाव में शिक्षकों की ड्यूटी अनिवार्य रूप से लगाई जाती है, पंचायत चुनाव को ध्यान में रखकर बोर्ड परीक्षा के कार्यक्रम पर मुहर लगेगी।

हाई स्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा 2021 पंचायत चुनाव के बाद आयोजित की जाएगी। इससे तय हो गया है कि पंचायत के चुनाव फरवरी से होंगे। माना जा रहा है कि चार चरण में होने वाले चुनाव में शिक्षकों की भी ड्यूटी लगेगी। इसी कारण अब यूपी बोर्ड की परीक्षा मार्च में आयोजित कराने का कार्यक्रम बन रहा है।

loading...
loading...

Check Also

कोरोना की सबसे पहले शिकार हुई रिसर्चर एक साल से गायब, और क्या-क्या छुपाएगी चीनी सरकार?

पेइचिंग/लंदन करीब एक साल से कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाली पहली मरीज की खोज ...