Tuesday , November 24 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी : पराली से भड़की आग में झुलसकर मर गई रानी मक्खी, लाखों सैनिक मधुमक्खियों ने भी दे दी जान

यूपी : पराली से भड़की आग में झुलसकर मर गई रानी मक्खी, लाखों सैनिक मधुमक्खियों ने भी दे दी जान

मधुमक्खियों के छत्ते में 100 नर मक्खियों पर एक रानी मक्खी होती, यह बातें हम सभी बचपन से सुनते आ रहे हैं। रानी मक्खी के इशारे पर ही अन्य मक्खियां काम करती हैं, यदि रानी मक्खी के जीवन पर कोई संकट आए तो उनकी सुरक्षा में तैनात मक्खियां अपनी जान भी दे देती हैं। कुछ ऐसा ही मामला शाहजहांपुर में सामने आया है। यहां एक किसान द्वारा जलाए गए पराली से मधुमक्खियों के बॉक्स में आग लग गई। अमूमन धुआं उठने पर मक्खियां उस जगह से पलायन कर जाती हैं लेकिन अग्निकांड में रानी मक्खी की झुलसकर मौत हो गई। वहीं, रानी मक्खी को बचाने में लाखों मधुमक्खियों ने अपनी जान दे दी।

फिलहाल मधुमक्खी पालक को करीब दो लाख रुपए का नुकसान हुआ है। उसकी तहरीर के आधार पर पुलिस ने एनसीआर दर्ज कर ली है। वहीं विशेषज्ञ वैज्ञानिक ने बताया कि, रानी मधुमक्खी को किसी भी कीमत पर उनकी सैनिक मधुमक्खियां छोड़कर नही जाती हैं। रानी की सुरक्षा थ्री लेयर सिक्योरिटी की होती है।

यह है पूरा मामला

थाना कांट क्षेत्र के बमरौली गांव निवासी धर्मेंद्र ने मधुमक्खी पालन का कारोबार किया था। उन्होंने दो लाख रुपए लोन लेकर 142 मधुमक्खियों के बाक्स लगाए थे। लेकिन 3 दिन पहले गांव के रहने वाले किसान ने रात में पराली जलाई। पराली की आग पड़ोस के दूसरे खेत तक पहुंची और 44 मधुमक्खियों के बाक्स आग की चपेट में आ गए। जिसमें 44 बाक्स में रखी रानी मक्खियों समेत लाखों मधुमक्खियों की जलकर मौत हो गईं। मधुमक्खी पालक ने थाने में तहरीर दी। 3 दिन बाद पुलिस ने पराली जलाने वाले किसान के खिलाफ महज एनसीआर दर्ज की है। एसएसआई ब्रजपाल सिंह ने बताया कि, मधुमक्खियों की जलकर मौत हुई है। तहरीर के आधार पर कार्रवाई की गई है।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

मधुमक्खी विशेषज्ञ और वैज्ञानिक एसके वर्मा ने बताया कि, एक बाक्स में एक रानी मधुमक्खी होती है। रानी की सुरक्षा के लिए थ्री लेयर की सिक्योरिटी खुद मधुमक्खियां करती हैं। लाखों मधुमक्खी बाक्स के अंदर रहती है, जो किसी भी हाल में रानी को छोड़कर नहीं जाती है। लाखों मधुमक्खियां 10 से 12 किलोमीटर के दायरे से शहद लाने का काम करती हैं। अगर रानी मधुमक्खी पर कोई हमला करें या ऐसी स्थिति बन जाती है तो सिक्योरिटी में तैनात मधुमक्खी भी जान दे देती है। रानी मधुमक्खी ही अन्य मधुमक्खियों को निर्देशित करती है। इतना ही नहीं, अगर मधुमक्खियों के बाक्स को एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जाता है तो ये काम खासतौर पर रात में ही किया जाता है।

loading...
loading...

Check Also

यूपी पंचायत चुनाव पर सबसे बड़ी खबर, शासन की तरफ से भेजे जा रहे प्रपत्र

पंचायत चुनाव को लेकर शासन की ओर से तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। एक ...