Sunday , September 27 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी में कोरोना ने तोड़ा हर रिकॉर्ड, सर्वाधिक नए मरीज मिले, इस खबर में भी अच्छी बात

यूपी में कोरोना ने तोड़ा हर रिकॉर्ड, सर्वाधिक नए मरीज मिले, इस खबर में भी अच्छी बात

लखनऊ. यूपी में प्रतिदिन कोरोना (Coronavirus in UP) मरीज मिलने का औसत कम होने के नाम नहीं ले रहा। बुधवार को तो एक बार फिर कोरोना (covid 19) के रिकॉर्ड 5156 नए मरीज सामने आए हैं। इससे पहले 11 अगस्त को 5130 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई थी। वहीं इस बीच कुछ राहत की बात यह है कि बीते तीन दिनों में एक्टिव केसों में कमी आई है। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने इस बाबत जानकारी देते हुए बताया कि 16 अगस्त को एक्टिव केसों की कुल संख्या 51537 थी। पिछले तीन दिनों में एक्टिव केसों की संख्या लगभग 2000 कम हुई है। 16 अगस्त को एक्टिव केस 51,537, 17 अगस्त को एक्टिव केस 50,893, 18 अगस्त को एक्टिव केस 50,242, तो वहीं बुधवार 19 अगस्त को एक्टिव मामलों की संख्या गिरकर 49645 पहुंच गई है। यह तब है जब इन दिनों प्रतिदिन चार से पांच हजार नए लोगों में कोरोना की पुष्टि हो रही है। हालांकि इसका एक कारण नई डिस्चार्ज पॉलिसी भी है।

यह है डिस्चार्ज पॉलिसी-

बीते सप्ताह ही डिस्चार्ज पॉलिसी में बदलाव किए गए थे। जिसमें यूपी के सभी मेडिकल कॉलेजों, चिकित्सा संस्थानों व राजकीय मेडिकल कॉलेजों में कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों के लिए कहा गया था कि अब कोरोना वायरस के हल्के और कम तीव्रता के शुरुआती लक्षण वाले मरीज बिना जांच के ही दस दिन बाद डिस्चार्ज किए जा सकेंगे, हालांकि उन्हें 7 दिनों तक अनिवार्य रूप से होम आइसोलेशन में रहना होगा। केवल गंभीर रोगियों की ही जांच करवाई जाएगी। हल्के व कम तीव्रता के शुरुआती लक्षण वाले मरीजों के लिए यह जरूरी है कि डिस्चार्ज होने से पहले उन्हें तीन दिन तक बुखार न आया हो। वहीं कोरोना के तीव्र व मध्यम लक्षण वाले वह मरीज जिनके लक्षण तीन दिन में समाप्त हो गए हों और अगले चार दिन ऑक्सीजन सेच्युरेशन 95 प्रतिशत के ऊपर है, तो ऐसे रोगियों को भी भर्ती होने के दस दिन बाद बिना जांच के डिस्चार्ज कर दिया जाएगा। अमित मोहन ने बताया कि बुधवार तक उपचार के बाद ठीक होकर डिस्चार्ज लोगों की संख्या 1,15,227 हो गई है। रिकवरी का प्रतिशत भी बढ़कर 68.78% हो गया है। मंगलवार को 5620 लोगों को डिस्चार्ज किया गया। वहीं अब तक 2638 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है जो कुल संक्रमित व्यक्तियों का 1.57% है।

दिए गए बजट का कोविड के उपचार में सही इस्तेमाल करें अधिकारी- सीएम

सीएम योगी ने टीम 11 संग बैठक में कहा कि समस्त जनपदों को कोविड-19 के उपचार के लिए 3 से 5 करोड़ रुपए अतिरिक्त रूप से उपलब्ध कराए गए हैं। सभी जिलाधिकारी इस धनराशि से कोविड-19 के उपचार की आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करने में इस्तेमाल करें। उन्होंने सख्त रवैया अख्तियार करते हुए कहा कि इस कार्य में यदि उदासीनता बरती गई तो संबंधित प्रिंसिपल की जवाबदेही तय की जाएगी। किसी भी दशा में दवा के अभाव में मरीज का इलाज प्रभावित नहीं होना चाहिए। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि सभी मेडिकल काॅलेज अपने बजट से कोविड-19 की उपचार संबंधी औषधियां एवं अन्य आवश्यक सामग्री क्रय करें। मेडिकल काॅलेजों को उपलब्ध कराई गई धनराशि का पूरा उपयोग मरीजों के बेहतर इलाज पर किया जाए। मुख्यमंत्री ने काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग के कार्य को और तेज किए जाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने में मदद मिल रही है। इसलिए ज्यादा से ज्यादा काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग की जाए।

Check Also

अच्छी खबर : इस वैक्सीन ने बढ़ाई दुनिया की उम्मीद, एक डोज में ही ठीक हो सकता है मरीज

कोरोनावायरस वैक्सीन की रेस में एक और नाम शामिल हो गया है। जॉनसन एंड जॉनसन ...