Sunday , September 27 2020
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी : यहां कोरोना से मौत के आंकड़ों में झोल, प्रशासन के दावे झूठे या श्‍मशान की रसीदें

यूपी : यहां कोरोना से मौत के आंकड़ों में झोल, प्रशासन के दावे झूठे या श्‍मशान की रसीदें

गाजियाबाद
यूपी के जिले गाजियाबाद में 19 जुलाई से 9 अगस्‍त के बीच दम तोड़ने वाले कोरोना के 16 मरीजों का अंतिम संस्‍कार हिंडन घाट श्‍मशान घाट पर हुआ। कोरोना महामारी को देखते हुए इसमें कुछ अनोखा नहीं है। लेकिन जब सरकारी आंकड़ों से इन मौतों का मिलान करते हैं तो दिमाग चकरा जाता है।

गाजियाबाद प्रशासन के अनुसार, जुलाई 21 से अगस्‍त 9 के बीच कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 64 पर ही टिका हुआ है, जबकि इन 16 लोगों का अंतिम संस्‍कार कोविड प्रोटोकॉल के तहत ही हुआ था।

सरकारी आंकड़े बता रहे हालत सुधरी
गाजियाबाद के सरकारी आंकड़ों में एक और अहम दावा किया गया है। जून महीने में कोरोना के चलते 51 लोगों की मौत दर्ज की गई थी। इस समय केस फेटेलिटी रेट (सीएफआर) 3.5 प्रतिशत था जो उस समय राष्‍ट्रीय औसत से भी ज्‍यादा निकला। लेकिन इसके बाद केवल 12 मौतें दर्ज हुईं और सीएफआर गिरकर 1 प्रतिशत रह गया।

श्‍मशान घाट ने जारी की रसीदें
प्रशासन इसका श्रेय मरीजों पर निगरानी, टेस्टिंग, मरीजों की समय रहते पहचान और दूसरे एहतियाती कदमों को दे रहा है। पर ऐसे में उन 14 रसीदों का क्‍या जो मीडिया  के पास हैं। ये रसीदें श्‍मशान घाट ने मृतकों के परिवारों को दी हैं जिनमें लिखा है कि मृतक को कोरोना था इसलिए तमाम प्रोटोकॉल का पालन करते हुए उनका अंतिम संस्‍कार किया गया। इन सभी मरीजों को निजी अस्‍पतालों और लैबों ने कोरोना पॉजिटिव बताया था।

अधिकारियों का गड़बड़ी से इनकार
इस बारे में पूछे जाने पर गाजियाबाद के डीएम अजय शंकर पांडेय ने आंकड़ों में किसी भी तरह की गड़बड़ी से इनकार करते हुए कहा कि सरकारी निर्देशों के अनुसार कोरोना संदिग्‍धों का भी अंतिम संस्‍कार कोविड प्रोटोकॉल के तहत होता है। सीएमओ डॉ एनके गुप्‍ता और जीएमसी हेल्‍थ ऑफिसर डॉ मिथिलेश कुमार ने भी यही जवाब दिया और बताया कि केवल कन्‍फर्म केस ही मृतकों के आंकड़ों में जुड़ते हैं। कन्‍फर्म केस किसे कहेंगे इसका जवाब नहीं मिल पाया।

Check Also

अच्छी खबर : इस वैक्सीन ने बढ़ाई दुनिया की उम्मीद, एक डोज में ही ठीक हो सकता है मरीज

कोरोनावायरस वैक्सीन की रेस में एक और नाम शामिल हो गया है। जॉनसन एंड जॉनसन ...