Thursday , November 26 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / अकाउंट से जुड़ी ये 5 बातें शायद नहीं बताए आपका बैंक, लेकिन जरूर पता होनी चाहिए

अकाउंट से जुड़ी ये 5 बातें शायद नहीं बताए आपका बैंक, लेकिन जरूर पता होनी चाहिए

ऐसे कई सारे केस सामने आए हैं, जिनमें बैंक आपकी सहायता को प्राथमिकता न देकर खुद की सहायता करने लगते हैं. आपको लगता है कि आपकी मदद की जिम्मेदारी बैंक की है? बिल्कुल सही, बैंक आपकी मदद के लिए ही हैं. लेकिन, वो सिर्फ आपकी मदद नहीं करते खुद की भी करते हैं? बैंक की तरफ से कई सारी ऐसी जानकारियां छुपा ली जाती हैं, जो आपको पता होनी चाहिए.

डेबिट कार्ड खो जाने पर आपका अकाउंट कितना सुरक्षित है?
अगर हम कार्ड के चोरी होने या खोने की बात करते हैं तो आपको बता दें कि आपके डेबिट कार्ड से ज्यादा सुरक्षित आपका क्रेडिट कार्ड है. कोई भी बैंक आपको इस बारे में नहीं बताएगा. अपने बैंकर से बात करके अपने कार्ड के खोने या चोरी होने की स्थिति में सुरक्षा की जानकारी लें. भारतीय स्टेट बैंक (SBI) एक क्रेडिट कार्ड प्रोटेक्शन प्लान (CPP) देता है, जो इस तरह की परिस्थितियों में आपके लिए मददगार होता है. अपने बैंक से पता करें कि क्या उनके पास भी ऐसी कोई स्कीम है? इस तरह से आप अपने कार्ड को ज्यादा सुरक्षित कर सकते हैं.

लॉन्ग टाइम कस्टमर प्रिविलेज
दूसरे ऑर्गेनाइजेशन की तरह बैंक में भी लॉयल और पुराने ग्राहकों को ज्यादा प्रिविलेज दी जाती है. लेकिन, अक्सर बैंक इस तरह की कोई जानकारी अपने ग्राहकों को नहीं बताते हैं. आपको इसके बारे में खुद ही पूछना पड़ेगा. अगर इसकी बात की जाए तो आमतौर पर बैंक अपने पुराने ग्राहकों को फीस वेवर दे देते हैं, तो आप भी इसके लिए बात कर सकते हैं.

एटीएम ट्रांजेक्शन की हर रसीद संभाल कर रखें

एटीएम ट्रांजेक्शन की हर रसीद संभाल कर रखनी चाहिए, क्योंकि एटीएम एक ऑटोमेटेड प्रॉसेस है. जिस सॉफ्टवेयर के जरिए यह प्रक्रिया काम करती है, वह कुछ गलतियां कर सकता है. इसकी वजह से कई सारी ट्रांजेक्शन डुप्लिकेट बन जाती है. अगर आपके पास रसीद नहीं है तो ये साबित करना मुश्किल होगा कि ट्रांजेक्शन डुप्लिकेट है. ऐसी स्थिति में एटीएम ट्रांजेक्शन की हर रसीद काम आती है. वक्त पढ़ने पर आप इन रसीद को बैंक को दिखा भी सकते हैं.
 
ज्यादा ब्याज वाले अकाउंट
आमतौर पर बैंक कई तरह के अकाउंट ऑफर करते हैं. कुछ अकाउंट ऐसे होते हैं, जिनमें ज्यादा ब्याज का फायदा मिलता है. ऐसे में कोई बैंक आपको उनके बारे में बताए यह जरूरी नहीं है. बैंक में कितने तरह के अकाउंट हैं और किसमें आपको ज्यादा फायदा होगा, इसका पता आपको खुद ही लगाना होगा. इसलिए ज्यादा रिटर्न कमाना चाहते हैं तो पहले पता कर लें कि किस अकाउंट पर ज्यादा ब्याज मिलता है, तभी अकाउंट खोलें.

हर टर्म (Term) का सही मतलब समझें
किसी भी डॉक्युमेंट के साइन करने से पहले सही से पढ़ लें. इसमें आपको कई सारे ऐसे शब्द मिल सकते हैं, जिनके आपको मतलब भी न पता हों. ऐसे शब्दों की अनदेखी करने के बजाए उनका मतलब पूछें. डॉक्युमेंट को साइन करने से पहले सभी शब्दों के अर्थ को अच्छे से समझ लें, वरना आपको नुकसान भी हो सकता है. हालांकि, इसमें आपका और बैंक अधिकारी का बहुत सारा समय जा सकता है, लेकिन भविष्य में आपको ही इसका फायदा होगा.

loading...
loading...

Check Also

बच्चों के नाम पर जरूर खोलें ₹150 से ये सरकारी खाता, पढ़ाई के लिए 19 लाख रुपए मिलेंगे

बच्चों की पढ़ाई अच्छे से हो और भविष्य में वो एक काबिल इंसान बन सके ...