Friday , October 30 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / एक रात के लिए ही होती है किन्नरों की शादी, जानिए क्यों

एक रात के लिए ही होती है किन्नरों की शादी, जानिए क्यों

मनुष्य का जीवन तलवार की नोक पर चलने के समान है क्योंकि इंसान को अपने जीवन में कदम-कदम पर परीक्षा देनी पड़ती है | लेकिन इसी जीवन में यदि किसी व्यक्ति की शादी की बात की जाए तो इससे बढ़कर कोई भी ख़ुशी उसके लिए नहीं हो सकती है | क्योंकि इस कठोर जीवन में उसका साथ देने के लिए उसकी पत्नी होती है | 

लेकिन अपने जीवन में मनुष्य जाति ही विवाह नहीं करती है बल्कि किन्नर जाति भी विवाह करती है | आमतौर पर ये देखा गया है की किन्नर अपनी दुनिया में अकेले ही होते है | उनके जीवन में उनका साथ देने वाला और कोई नहीं होता है | उनकी केवल एक ही क्षमता होती है और वो है उनकी एकजुटता | 
जब समाज में किसी नए किन्नर का जन्म होता है तो सारे किन्नर उसे काफी धूमधाम से मानते है | यदि किसी किन्नर की मृत्य हो जाए तो अलग-अलग स्थानों से काफी संख्या में किन्नर अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए आते है | हम सभी यही जानते है की एक किन्नर कि शादी नहीं होती है | लेकिन हमारी ये मान्यता गलत है | 
आज हम आपको बताने वाले है की एक किन्नर की भी शादी होती है लेकिन वह सिर्फ एक दिन के लिए ही विवाहित होती है | अगले दिन वह विधवा हो जाती है | दरअसल, ये प्रथा महाभारत के समय से चली आ रही है | जब पांडवों को एक विशेष युद्ध पर जाने के लिए एक राजकुमार की बलि देनी थी |
इस दौरान पांडवों ने कई प्रयास किये लेकिन कोई भी राजकुमार बलि देने के लिए तैयार नहीं हुआ। लेकिन, इरावन इस बलि के लिए तैयार हो गया | हम आपको बता दे की इरावन धनुर्धर अर्जुन और नाग कन्या उलूपी का पुत्र था | लेकिन, उसकी एक शर्त थी कि वह बलि से पहले विवाह करना चाहेगा, अर्थात बिना विवाह किए वह बलि नहीं देगा। अब राजा युधिष्ठिर चिंतित हो गए | क्योंकि, एक दिन के लिए इरावन से शादी कौन करता।
इसके लिए स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने मोहिनी रूप धारण किया और इरावन से विवाह किया | इसके बाद इरावन की जब बलि दी गयी तो,शादी के अगले ही दिन मोहिनी रूपी श्री कृष्ण विधवा हो गए | इसके बाद उन्होंने विलाप भी किया और विधवा रूप में सभी रीति-रिवाजों का पालन भी किया।
 
इसी घटना की याद में किन्नर जाति भगवान श्री कृष्ण का स्वयं को मोहिनी रूप मानती है और इरावन रुपी प्रतिमा से शादी करती है | जब एक दिन गुजर जाता है तो विवाहित किन्नर ही इरावन की प्रतिमा को तोड़ देती है | इसके बाद भगवान श्री कृष्ण की तरह ही विलाप करती है |
loading...
loading...

Check Also

नीतीश के ‘7 निश्चय’ से कन्नी क्यों काट रहे मोदी, पर्दे के पीछे क्या है BJP की रणनीति?

पटना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को दूसरी बार बिहार विधानसभा चुनाव में प्रचार को पहुंचे। ...