Monday , March 1 2021
Breaking News
Home / जरा हटके / राधा से विवाह क्यों नहीं किए श्रीकृष्ण, वजह जान कर रह जाएंगे दंग

राधा से विवाह क्यों नहीं किए श्रीकृष्ण, वजह जान कर रह जाएंगे दंग

राधा कृष्ण की प्रेम कहानी तो सब ने सुनी हैं. लेकिन ये बात बहुत कम लोग जानते हैं कि आखिर वो क्या वजह थी जिसके कारण भगवान श्रीकृष्ण ने राधा के साथ विवाह नहीं किया. आज हम इसके पीछे की एक दिलचस्प कहानी आपको बताने जा रहे हैं.

भगवान विष्णु हमेशा धरती पर अवतार लेते रहते हैं ऐसे में उनकी पत्नी लक्ष्मी जी की भी अपने पति के साथ अवतार लेने की इच्छा हुई. यही वजह हैं कि जब त्रेता युग में विष्णु जी ने राम अवतार लिया तो लक्ष्मी जी ने सीता बन धरती पर जन्म लिया. इसके बाद द्वापर युग में जब विष्णु कृष्ण बने तो देवी लक्ष्मी रुकमणी बन धरती पर अवतरित हुई. यहाँ उन्होंने विदर्भ देश के राजा की पुत्री के रूप में जन्म लिया था. इस दौरान पूतना नाम की राक्षसी रुकमणी को मारने राजा के महल घुस आई. ये वही पूतना हैं जिसने कंस के कहने पर श्रीकृष्ण को भी अपने जहरीले स्तनपान से मारने की कोशिश की थी.

पूतना ने रुकमणी को भी अपना जहरीला स्तनपान कराने की खूब कोशिश की. लेकिन रुकमणी ने स्तनपान नहीं किया. इस बीच महल में कुछ लोग रुकमणी के कमरे में आने लगे. खुद को असफल देख पूतना रुकमणी को उठा के भाग गई. पूतना रुकमणी को लेकर हवा में उड़ रही थी तभी रुकमणी ने अपना वजन बढ़ाना शुरू कर दिया. रुकमणी का वजन इतना बढ़ गया कि पूतना से उठाया नहीं गया और उसने रुकमणी को नीचे गिरा दिया. यहाँ धरती पर गिरते ही रुकमणी एक तालाब में कमल के फूल पर विराजित हो गई.

इस तरह विदर्भ राज्य की राजकुमारी देवी रूकमणी पूतना की वजह से मथुरा राज्य के एक गांव बरसाना के एक तालाब में आ गिरी. यहाँ उन्हें एक दम्पति ने कमल के फूल पर विराजित देखा. ये दोनों उसे अपने साथ ले आए और उसका पालन पोषण करने लगे. इन्होने इस बच्ची का नाम राधा रखा. इसके बाद राधा जब बड़ी हुई तो उनकी मुलाकात गोकुल के कृष्ण से हुई.

यहाँ राधा और कृष्ण के दुसरे से अटूट प्रेम करने लगे. लेकिन एक समय ऐसा भी आया जब कृष्ण को विवश होकर गोकुल और राधा दोनों को ही छोड़ द्वारकापूरी जाना पड़ा. इस दौरान कृष्ण ने सोचा था कि जब वे वापस लौटेंगे तो राधा से विवाह कर लेंगे. लेकिन उनके जाने के कुछ समय बाद विदर्भ राज्य के राजा विधर्व राजेश्वर को पता चल गया कि राधा ही उनकी पुत्री रुकमणी हैं. ऐसे में वे बरसाने आए और अपनी बेटी को वापस ले गए.

विदर्भ राज्य और कृष्ण की आपस में दुश्मनी थी इसलिए रुकमणी के पिता उनकी शादी किसी और से कराना चाहते थे. यही वजह थी कि कृष्ण को रुकमणी हरण करना पड़ा. हरण के बाद कृष्ण और रुकमणी ने आपस में विवाह कर लिया.

इस कहानी को सुन आपको ज्ञात हो गया होगा कि राधा और रुकमणी दोनों एक ही हैं. इसलिए उन्होंने जब रुकमणी से विवाह कर लिया तो वो राधा से विवाह कैसे करते? यही वजह हैं कि पुराणों में भी जब कृष्ण और राधा का जिक्र होता हैं तो रुकमणी का नाम नहीं आता और जब रुकमणी और कृष्ण का चेप्टर आता हैं तो राधा का नाम नहीं आता हैं.

loading...
loading...

Check Also

ICC टेस्ट रैंकिंग : अपने करियर की बेस्ट रैंकिंग में पहुंचे रोहित शर्मा तो अश्विन टॉप 3 में हुए शामिल

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने रविवार को ताजा टेस्ट रैंकिंग जारी की। भारतीय ओपनर बल्लेबाज ...