Friday , October 23 2020
Breaking News
Home / जरा हटके / वादे पर खरे उतरे अर्नब गोस्वामी, आज किया सबसे बड़ा खुलासा, पूरी तरह पलट गया सुशांत केस !

वादे पर खरे उतरे अर्नब गोस्वामी, आज किया सबसे बड़ा खुलासा, पूरी तरह पलट गया सुशांत केस !

सुशांत सिंह राजपूत केस में न्यूज़ चैनल ‘रिपब्लिक भारत’ ने बड़ा खुलासा किया है।दरअसल इस मामले में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) की वायरल रिपोर्ट के हवाले से कहा जा रही है सुशांत ने सुसाइड किया था। लेकिन न्यूज़ चैनल ने एक ऐसा खुलासा किया है जो ‘आत्महत्या की इस थ्योरी’ को खुद व खुद सवालों के कठघरे में खड़ा कर देगा कि कैसे सबूतों के अभाव होते हुए भी  (AIIMS) की अपुष्ट रिपोर्ट में ‘आत्महत्या’ का जिक्र है।

दरअसल, एम्स के फॉरेंसिक विभाग के प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता से 22 अगस्त को ‘रिपब्लिक भारत’ ने बात की थी। ये बातचीत ऐसे समय में हुई थी जब एक दिन पहले ही सीबीआई ने मामले का विश्लेषण करने के लिए एम्स को लेटर लिखा था। बता दें, सुधीर उस फॉरेंसिक डॉक्टरों की छह सदस्यीय टीम के हेड हैं जिन्होंने सीबीआई को अपनी समग्र चिकित्सा-कानूनी राय के लिए गठित हुई थी।

सवाल ये है कि आखिर सुधीर गुप्ता के बोल क्यों बदल गए, 4 सप्ताह में ऐसा क्या हो गया की सुधीर गुप्ता ने अपने बयानों से पूरी तरह यू-टर्न ले लिया? अगर चार हफ्ते पहले सबूत फॉरेंसिक जांच के लायक नहीं थे तो फिर कथित तौर पर सुधीर गुप्ता ये कैसे दावा कर सकते हैं कि ये केस सौ फीसदी ‘आत्महत्या’ का था?  आज सुधीर गुप्ता ‘आत्महत्या की थ्योरी’ को सही साबित करने में जुटे हैं, जब उन्होंने ‘रिपब्लिक भारत’  के रिपोर्टर से बात की थी तब उन्होंने मुंबई पुलिस की जांच पर गंभीर सवाल उठाए थे।

यहां पढ़ें 22 अगस्त की वो सारी बातचीत

‘अटॉप्सी में जल्दी क्यों हुई?’

जब सुधीर गुप्ता से अटॉप्सी रिपोर्ट की विश्वसनीयता, पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि ‘हम पारदर्शिता के साथ काम कर रहे हैं। लेकिन जो अटॉप्सी में कमियाँ हैं जैसा कि अटॉप्सी में जल्दी क्यों हुई, वीडियोग्राफी हुई है कि नहीं हुई है? यहां तक कि क्राइम सीन के सबूत नष्ट हो गए।’ उन्होंने आगे कहा कि ‘ एम्स बोर्ड आश्चर्यचकित है कि क्राइम सीन इतना सुरक्षित नहीं था कि वो आगे कि फॉरेंसिक सबूत के लिए उपयुक्त हो सके।

‘क्राइम सीन सुरक्षित नहीं था’

जब उनसे पूछा गया कि क्या एम्स बोर्ड क्राइम सीन को देखकर आश्चर्यचकित था? तो उन्होंने कहा कि ‘क्राइम सीन को सुरक्षित नहीं किया गया था। इसे हम ये नहीं कह सकते हैं कि उसे मिटा दिया गया। क्राइम सीन खराब हो चुका था इसलिए वो आगे की जांच के लिए सही नहीं है।’

डॉक्टर सुधीर गुप्ता ने न्यूज़ चैनल से कहा था कि क्राइम सीन को सील नहीं किया गया, सबूतों से छेड़छाड़ हुई, तो सवाल ये है कि आखिर सुधीर गुप्ता इतने आश्वस्त कैसे हैं कि सुशांत ने आत्महत्या की थी?

‘कानूनी प्रक्रिया का पालन होता है’

सुधीर गुप्ता ने आगे बताया कि ‘जो पुलिस प्राथमिक जांच में शामिल थी वो आखिरी जांच का हिस्सा नहीं है। जैसे एक सेशन कोर्ट होता है और उससे ऊपर हाईकोर्ट तब सुप्रीम कोर्ट होता है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ही आखिरी माना जाता है। जब एक राज्य की पुलिस जानती है कि किसी मामले में विवाद या विरोधाभास है तो हाईकोर्ट या राज्य सरकार किसी ऊपरी एजेंसी को मामले को ट्रांसफर कर सकती है। इसलिए जब तक मामला खत्म नहीं हो जाता और कोर्ट फैसला नहीं दे देता, तब तक सभी सबूतों को सुरक्षित रखा जाता है और जिस जगह से शव बरामद हुआ है उस जगह को उसी स्थिति में रखा जाता है। उस जगह को कोर्ट की इजाज़त के बाद ही खोला जा सकता है।

‘जल्द जांच की लगाई गई थी गुहार’

सुधीर से पूछा गया कि सीबीआई द्वारा एम्स बोर्ड को कब चिट्ठी लिखी गई ? तो उन्होंने कहा कि 21 अगस्त 2020 लिखित में है। उन्होंने अनुरोध किया था कि एम्स के मेडिकल बोर्ड के डॉक्टरों की एक टीम मुंबई में मौका-ए वारदात की जल्द से जल्द जांच करे। सुशांत सिंह की मौत से जुड़े जरूरी दस्तावेज़ बाद में भेजे जाएंगे। इसलिए हम उनका इंतजार कर रहे हैं कि उसके बाद हम उनकी जांच करेंगे। उसमें जो खामिया देखेंगे कि उन्होंने मौत का समय क्यों नहीं बताया। उसे फ्लैट में ही मृत घोषित कर दिया गया था, सुशांत के शव को सीधे शवगृह में ले जाया गया। इमरजेंसी में  तो लेकर गए नहीं तो उन्होंने कैसे मान लिया कि सुशांत मर चुका है। तो वो ये क्यों मान रहे थे कि उसे और इलाज की जरूरत है। जब तय हो गया था कि उसकी मौत हो चुकी है इसके बाद पोस्टमार्टम का टाइम फिक्स था।

खबर साभार- रिपब्लिक भारत

loading...
loading...

Check Also

बिहार में फ्री कोरोना वैक्सीन देने का वादा की BJP तो अनुराग कश्यप ने शेयर किया ये गाना.. देखें Video

नई दिल्ली:  बीजेपी (BJP) ने गुरुवार को बिहार विधानसभा चुनाव का घोषणापत्र (Manifesto) संकल्प पत्र ...