Thursday , January 21 2021
Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / कोरोना वैक्सीन रजिस्ट्रेशन : वोटर लिस्ट में अगर नहीं है नाम तो ये डॉक्यूमेंट्स आएंगे आपके काम

कोरोना वैक्सीन रजिस्ट्रेशन : वोटर लिस्ट में अगर नहीं है नाम तो ये डॉक्यूमेंट्स आएंगे आपके काम

कोरोना वैक्सीन रजिस्ट्रेशन के लिए व्यक्ति किसी भी लीगल आइडेंटिटी कार्ड के जरिये कोरोना वैक्सीन के लिए खुद को रजिस्टर कर सकते हैं। केंद्र सरकार ने वैक्सीन रजिस्ट्रेशन के लिए को-विन’ (कोविड वैक्सीन इंटेलीजेंस नेटवर्क) ऐप, एक डिजिटल प्लेटफॉर्म बनाया है। इसे कोविड-19 टीके की आपूर्ति एवं वितरण की वास्तविक समय पर निगरानी की जाएगी। को-विन डिजिटल प्लेटफॉर्म से डाउनलोड किये जाने योग्य एक फ्री मोबाइल ऐप होगा, जो वैक्सीन से जुड़े डाटा दर्ज करने में मदद करेगा। यदि कोई व्यक्ति वैक्सीन लगवाना चाहता है तो वह इस पर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकता है।

कोविन ऐप करना होगा डाउनलोड
कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए आपको Co-WIN ऐप पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। अभी यह ऐप लॉन्च नहीं हुआ है लेकिन जल्द ही इसे लॉन्च किया जाएगा। यह अभी गूगल प्ले स्टोर या किसी अन्य ऐप स्टोर पर अभी उपलब्ध नहीं कराया गया है, हालांकि इसका काम तकरीबन लास्ट स्टेज में है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने ट्वीट कर कहा, ”स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय का अधिकारिक प्लैटफॉर्म ऐप आने पर उसे उपयुक्त रूप से प्रकाशित करेगा।”

आधार कार्ड, डीएल, पासपोर्ट भी होगा ऑप्शन
कोविन ऐप पर रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आधार कार्ड का भी प्रयोग किया जा सकता है। इसके अलावा ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, पार्सपोर्ट, पेंशन डॉक्यूमेंट, बैंक या पोस्ट ऑफिस की तरफ से जारी फोटो वाली पासबुक के जरिये भी कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

हेल्थ इंश्योरेंस स्मार्ट कार्ड और मनरेगा जॉब कार्ड भी है ऑप्शन
इंडियन एसोसिएशन ऑफ प्रिवेंटिव एंड सोशल मेडिसिन से जुड़ी डॉ. सुनीला गर्ग का कहना है कि जिनका नाम मतदाता सूची में नहीं है वे लोग किसी भी सरकारी विभाग की तरफ से जारी आईडी कार्ड के जरिये सीधे कोविन ऐप पर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। इसके अलावा श्रम मंत्रालय की तरफ से जारी हेल्थ इंश्योरेंस स्मार्ट कार्ड और मनरेगा जॉब कार्ड भी रजिस्ट्रेशन ऑप्शन के रूप में वैलिड है।

loading...
loading...

Check Also

Opinion : किसानों की नाराजगी समझने में कहां चूक गए पीएम मोदी ?

स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह पहली बार है, जब अपनी मांगों को लेकर किसान ...